Author :


  • बिसरी यादों के साए जब…

    बिसरी यादों के साए जब…

    बिसरी यादों के साए जब, हमसे आ लिपटे। अंतर्मन में दबे दर्द के, ज्वालामुखी फटे।। बन चलचित्र चला बचपन का, हर प्यारा मंज़र। उतर गया फिर से आँखों में, मिट्टी वाला घर।। जब जब करी शरारत...