समाचार

महिला काव्य मंच (रजि.) की  काव्य गोष्ठी (आगरा) 

महिला काव्य मंच, आगरा इकाई द्वारा  मासिक काव्य गोष्ठी दिनाँक 30/12 को दोपहर साढ़े तीन बजे से आगरा इकाई की अध्यक्ष के घर पर आयोजित की गई। विशिष्ट अतिथि कुसुम चतुर्वेदी दीदी का आशीर्वाद मिला जो कि कार्यक्रम को उच्चता प्रदान करता है।  तथा अध्यक्षता रही रमा वर्मा ‘श्याम’ दीदी की। संचालन  किया महिला काव्य […]

लघुकथा

सम्पन्न दुनिया

माँ अपनी अटैची में कपड़े ठूँसते हुए बोली-“चल बेटा, अपने पुराने मुहल्ले में। मुझे अब यहाँ नहीं रहना।” “क्यों माँ! तुम्हें तो यहाँ की हरियाली, फलदार पेड़ और उस पर चहकते पक्षी, सुगन्ध बिखराते फूल तो बड़े ही भाये थे। छोटे से पाण्ड में बत्तखों को देखकर कैसे तुम बच्चों-सी मचल गयी थी।” “हाँ, लेकिन..” […]

समाचार

महिला काव्य मंच (रजि.) की काव्य गोष्ठी (आगरा)

महिला काव्य मंच, आगरा इकाई द्वारा  मासिक काव्य गोष्ठी आगरा इकाई की अध्यक्ष के घर पर आयोजित की गई। कार्यक्रम का संयोजन एवं संचालन अध्यक्ष सविता मिश्रा ‘अक्षजा’ ने ही  किया।  उन्होंने सबका स्वागत करते हुए सरस्वती वंदना के लिए सुश्री रेखा कक्कड़ को आमंत्रित करके कार्यक्रम का शुभारंभ किया। अध्यक्षीय दारोमदार हमारी वरिष्ठ सदस्या श्रीमती रमा […]

समाचार

‘महिला काव्य मंच’ की ऑनलाइन काव्य गोष्ठी

महिला काव्य मंच, आगरा इकाई द्वारा  मासिक काव्य गोष्ठी दिनाँक 12/10 को दोपहर तीन बजे गूगल मीट पर आयोजित की गई। कार्यक्रम का संयोजन एवं संचालन आगरा इकाई की अध्यक्ष सविता मिश्रा ‘अक्षजा’ ने किया।  उन्होंने सबका स्वागत करते हुए सरस्वती वंदना के लिए रेखा कक्कड़ दीदी को आमंत्रित करके कार्यक्रम का शुभारंभ किया। काव्य […]

लघुकथा

उपाय

माँ मना करती रही कि घर में कैक्टस नहीं लगाया जाता। किन्तु सुशील बात कब सुनता माँ की। न जाने कितने जतन से दुर्लभ प्रजाति के कैक्टस के पौधे लगाए थे। आज अचानक उसे बरामदे में लगे कैक्टस को काटते देख रामलाल बोले, ‘‘अब क्यों काटकर फेंक रहा है? तू तो कहता था कि इन […]

लघुकथा

तीसरा हाथ

रोज रोज की कलह से उकता चुकी थी नीरू। सास के तानों से उसके कान पकने लगे थे। हर झार मंगरैले पर की तर्ज पर किसी भी बात को वह नीरू को बदजात कह उसकी ओर ठेल देती थी। अपने बेटे की मौत का कारण भी नीरू को ही मानते हुए कहती रहती थी कि […]

समाचार

महिला काव्य मंच की द्वितीय ऑनलाइन काव्य गोष्ठी

महिला काव्य मंच (रजि.) उत्तर प्रदेश इकाई के आगरा ज़िले की दूसरी ऑनलाइन काव्य गोष्ठी सफलतापूर्वक 28 जून को संपन्न हुई । गोष्ठी की अध्यक्षता गाज़ियाबाद की श्रीमती अंजू जैन  (प्रेजिडेंट महिला काव्य मंच, पश्चिमी उत्तर प्रदेश) ने किया।  आगरा की वरिष्ठ कवयित्री एवं समाजसेविका श्रीमती शांति नागर मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत कीं। […]

लघुकथा

वादा

“तुम्हें गिरते देख मैंने पकड़ लिया है, हाथ मत छोड़ना! कसकर पकड़ के रखो वरना तुम गिरे तो मैं भी नष्ट हो जाऊँगी। तुम्हारे सहारे ही तो मैं जमा हूँ, नदियों में, तालाबों में, नलों से होते हुए तुम्हारे घरों में।” फिसलती चट्टानों से सम्भलकर वह उठ ही रहा था कि उसके कान फुसफुसाहट सुनकर […]

लघुकथा

लघुकथा – द्वन्द

प्रगति मैदान में पहुँचते ही शीला अचकचा गयी भीड़ को देख।आगे बढ़ी तो कई दुकाने लगी हुई थीं। किस में उसे जाना समझ ही नहीं आ रहा था। कुछ जाने पहचाने बड़े-बड़े साहित्यकार उसे दिखे। पोस्ट पर यदा-कदा कमेंट करना इस समय सरल सा लग रहा था पर आगे बढ़कर उनसे मिलना, हिम्मत ही न […]

लघुकथा

लघुकथा – खज़ाना

“पाँच सौ और हजार की नोटें बंद हो गयीं माँ, दो दिन बाद ही बैंक खुलेगा | तब इन्हें बदलवा पाऊँगा।” फोन पर बेटे से यह सुनते ही दीप्ती का चेहरा पीला पड़ गया | दो दिन कैसे करेगा ! यह पूछने के बजाय वह जल्दी से फोन रख बदहवास सी अलमारी की सारी साड़ियाँ […]