कविता

कविता

शब्दों को मन की गीता का मनन करने दो तो सुनने वाला और कहने वाला दोनो ही चख लेते हैं अमृत निकल जाता है पथिक दुर्गम राह से भी शब्द जो निकलते हैं मन की गीता का मनन करते हुए !!!

कविता

उत्सव के रंग !!!!

उत्सव के रंग से रंगी हो द्वार की रंगोली माँ लक्ष्मी के मङ्गल चरण हों ड्योढ़ी पर शुभ लाभ का निवास हो स्वास्तिक प्रतीक के संग उत्सव का आनन्द हो घर के कोने-कोने में दीपावली की शुभकामनाओं का प्रकाश अन्तर्मन को सदा यूँ ही आलोकमय रखे ! — सीमा ‘सदा’

कविता

माँ की ममता से !!!

माँ तुम्हारे शब्दों की विरासत मेरी हथेलियों को देती है ताक़त मन को संबल कदमों को हौसला मस्तिष्क को कभी हार कर भी नहीं हारने देना सोचती हूँ शब्दों में इतनी हिम्मत पहले तो नहीं थी जरूर तुमने अभिमंत्रित किया होगा इन्हें अपनी ममता से सुना है कि माँ की ममता से कोई पार नहीं […]

हाइकु/सेदोका

बूँद बूँद गिरता नेह !!!!

सावन आता बूँद बूँद गिरता नेह मन का ! … मेहंदी सजा सावन में बहना शुभ करती ! … पावन रिश्ता बंधन है स्नेह का निभाना सदा ! … अक्षत रोली सजा थाली में राखी बहना लाई ! … चूड़ी खनके मेंहदी वाले हाँथ बाँधे जो राखी ! …

कविता

उत्सव मनाना तुम !!!!

स्वतंत्रता दिवस का उत्सव मनाना तुम तिरंगा भी फहराना पर शपथ मत लेना उसके नीचे आन बान शान की तुम्हारे शब्दों की ये गुलामी वो सह नहीं पायेगा साये में उसके छल होता तो है पर वो किसी से कह नहीं पायेगा !!! … जहाँ बेटी को जन्म देने से माँ घबराती मौत हो जाती […]

हाइकु/सेदोका

श्रृंगार धरती का !!!!

हरियाली ये श्रृंगार धरती का उजाड़ो मत ! …. हैं वरदान धरा में पेड़ पौधे बचा लो इन्हें ! … बो देना बीज धरा की गोद सूनी प्रकृति कहे ! …. खुद तपते शीतल छाँव देते हमें वृक्ष ये! … कड़वी नीम मीठी निम्बोली देती शीतल छाँव ! …. कुल्हाड़ी मार गिराया जो पेड़ को […]