Author :

  • समकालीन गीत

    समकालीन गीत

    धुंध हो गया सारा जीवन,कुछ भी नज़र नहीं आता ! आशाएं अब रोज़ सिसकतीं,कुछ भी नज़र नहीं आता !! बाहर भी है,अंदर भी है, सभी जगह कोहरा छाया न तुम सुधरे,न हम सुधरे, कुछ भी संवर...

  • पर्यावरण के दोहे

    पर्यावरण के दोहे

    बिगड़ा है पर्यावरण,बढ़ता जाता ताप ! ज़हरीली सारी हवा,कैसा यह अभिशाप !! पेट्रोल,डीजल जले,बिजली जलती ख़ूब ! हरियाली नित रो रही,सूख गई सब दूब !! यंत्रों ने दूषित किया,मौसम और समाज ! हमने की है मूर्खता,हम...

  • सम्प्रभुता हमारी

    सम्प्रभुता हमारी

    हिम्मत,ताक़त,शौर्य विहंसते,तीन रंग हर्षाये हैं ! सम्प्रभु हम,है राज हमारा,अंतर्मन मुस्काये हैं !! क़ुर्बानी ने नग़मे गाये, आज़ादी का वंदन है ज़ज़्बातों की बगिया महकी, राष्ट्रधर्म -अभिनंदन है सत्य,प्रेम और सद्भावों के,बादल तो नित छाये हैं...


  • नूतन वर्षाभिनंदन

    नूतन वर्षाभिनंदन

    नया काल है,नया साल है,गीत नया हम गाएंगे । करना है कुछ नवल-प्रबल अब,मंज़िल को हम पाएंगे ।। बीत गया जो,विस्मृत करके, नव उत्साह जगाएं सुखद पलों को स्मृति में रख, कटुता को बिसराएं नई ऊर्जा,नई...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    रोना मत , खोना मत ! हद से ज़्यादा, सोना मत ! कांटे राह में, बोना मत ! ख़ुदगर्ज़ तुम, होना मत ! प्रेम, वफ़ा को, धोना मत ! अपनेपन को, खोना मत ! वक़्त बुरा...

  • नवगीत

    नवगीत

    दर्द मुस्काने लगा, मातमों का राज है ! है तिमिर की वंदना अब रो रहा उजियार है अब व्यथा नग़मे सुनाती पीर का संसार है सत्य बौना हो गया, घुट रही आवाज़ है ! वक़्त,लगता हो...

  • दोहे वर्तमान के

    दोहे वर्तमान के

    अंतर्मन में घुल गया,विष बनकर आघात ! सुबहें गहरी हो गयीं,घायल है हर रात !! धुंआ हो गयी ज़िन्दगी,हुई ख़त्म सब म्याद ! नहीं शेष उत्साह अब,बढ़ता नित अवसाद !! सिसक रहा है वक़्त अब,निकल रही...

  • समकालीन गीत

    समकालीन गीत

    धुंध हो गया सारा जीवन,कुछ भी नज़र नहीं आता ! आशाएं अब रोज़ सिसकतीं,कुछ भी नज़र नहीं आता !! बाहर भी है,अंदर भी है, सभी जगह कोहरा छाया न तुम सुधरे,न हम सुधरे, कुछ भी संवर...

  • जीवन के दोहे

    जीवन के दोहे

    जीवन मुरझाने लगा, ऐसी चली बयार ! स्वारथ मुस्काने लगा, हुआ मोथरा प्यार !! बिकता है अब प्यार नित, बनकर के सामान ! भावों की अब खुल गई, सुंदर बड़ी दुकान !! सब ही अपने में घिरे, त्याग दिये सब त्याग...