Author :



  • महामानव अटल जी के प्रति

    महामानव अटल जी के प्रति

    अटलबिहारी दिव्य थे, सचमुच ही थे ख़ास ! अद्भुत थे,दैदीप्य थे, ऊंचे ज्यों आकाश !! कर्मवीर,सचमुच अटल, था चोखा अंदाज़ ! हर दिल,हर मस्तिष्क पर, किया जिन्होंने राज !! मित्रों के जो मित्र थे, भारत मां के लाल ! ऐसे मानव...

  • आजा़दी हमारी

    आजा़दी हमारी

    हिम्मत,ताक़त,शौर्य विहंसते,तीन रंग हर्षाये हैं ! सम्प्रभु हम,है राज हमारा,अंतर्मन मुस्काये हैं !! क़ुर्बानी ने नग़मे गाये, आज़ादी का वंदन है ज़ज़्बातों की बगिया महकी, राष्ट्रधर्म -अभिनंदन है सत्य,प्रेम और सद्भावों के,बादल तो नित छाये हैं...

  • कड़वे दोहे

    कड़वे दोहे

    अंतर्मन में घुल गया,विष बनकर आघात ! सुबहें गहरी हो गयीं,घायल है हर रात !! धुंआ हो गयी ज़िन्दगी,हुई ख़त्म सब म्याद ! नहीं शेष उत्साह अब,बढ़ता नित अवसाद !! सिसक रहा है वक़्त अब,निकल रही...

  • राखी का नेह

    राखी का नेह

    बचपन की यादों को लेकर,रक्षाबंधन आया है ! कर पर धागा,मस्तक रोली,चंदन-वंदन लाया है !! प्रीति थिरकती,नेह बिखरता, दिल में पावनता पलती प्यार जताने,वचन निभाने, को पावन ज्योति जलती संस्कार के आंचल में अब,नव अभिनंदन आया...


  • आजा़दी हमारी

    आजा़दी हमारी

    हिम्मत,ताक़त,शौर्य विहंसते,तीन रंग हर्षाये हैं ! सम्प्रभु हम,है राज हमारा,अंतर्मन मुस्काये हैं !! क़ुर्बानी ने नग़मे गाये, आज़ादी का वंदन है ज़ज़्बातों की बगिया महकी, राष्ट्रधर्म -अभिनंदन है सत्य,प्रेम और सद्भावों के,बादल तो नित छाये हैं...


  • समकालीन गीत

    समकालीन गीत

    धुंध हो गया सारा जीवन,कुछ भी नज़र नहीं आता ! आशाएं अब रोज़ सिसकतीं,कुछ भी नज़र नहीं आता !! बाहर भी है,अंदर भी है, सभी जगह कोहरा छाया न तुम सुधरे,न हम सुधरे, कुछ भी संवर...