लघुकथा

लघुकथा – “खरी बात”

“वह देखो शर्मा जी कितने खुश रहते हैं ।” “कितने संतुष्ट रहते हैं ।” ” आनंद से कितने लबालब रहते हैं ।” “पति-पत्नी में आपस में कितना अधिक प्रेम है ।” “उनके बच्चे भी उनकी कितनी अधिक बात मानते हैं ।” “बिलकुल सही है ।” ” हम दोनों उनसे कितने ऊंचे ओहदों पर हैं,हमारे पास […]

गीत/नवगीत

गतिशीलता का गीत

सकल दुखों को परे हटाकर,अब तो सुख को गढ़ना होगा ! डगर भरी हो काँटों से पर,आगे को नित बढ़ना होगा !! पीर बढ़ रही,व्यथित हुआ मन, दर्द नित्य मुस्काता अपनाता जो सच्चाई को, वह तो नित दुख पाता किंचित भी ना शेष कलुषता,शुचिता को अब वरना होगा ! डगर भरी हो काँटों से पर,आगे […]

गीत/नवगीत

गीत नया है अधरों पर

नया काल है,नया साल है,गीत नया हम गाएंगे । करना है कुछ नवल-प्रबल अब,मंज़िल को हम पाएंगे ।। बीत गया जो,विस्मृत करके नव उत्साह जगाएंगे सुखद पलों को स्मृति में रख कटुता को बिसराएंगे नई ऊर्जा,नई दिशाएं,नव संकल्प सजाएंगे । करना है कुछ नवल-प्रबल अब,मंज़िल को हम पाएंगे ।। अंतर्मन में शुचिता लेकर, नव परिवेश […]

मुक्तक/दोहा

जाड़े के दोहे

जाड़ा बनकर के कहर,लगता लेगा जान । बना हुआ है काल यह,इसको लो पहचान। कहीं बर्फ,कहीं जल गिरे,गीला हर इनसान । तेगों सी लगती हवा,जाड़ा है हैवान ।। सूरज भी घबरा गया,ओढ़े पड़ा लिहाफ । सिकुड़ा इंसां हो गया,पूरा-पूरा हाफ ।। नया वर्ष है शीतमय,सर्दी से भयभीत । शीत करे षड़यंत्र अब,दुश्मन की बन मीत […]

मुक्तक/दोहा

नव वर्ष के दोहे

सूरज आया इक नया,गाने मंगल गीत ! प्रियवर अब दिल में सजे,केवल नूतन जीत !! उसकी ही बस हार है,जो माना है हार ! साहस वाले का सदा,विजय करे श्रंगार !! बीते के सँग छोड़ दो,मायूसी-अवसाद ! नवल बनेगा अब धवल,देगा मधुरिम याद !! खट्टी-मीठी लोरियां,देकर गया अतीत ! वह भी था अपना कभी ,था […]

मुक्तक/दोहा

दक्षिण की निर्भया के संदर्भ में – दोहे

एक बार फिर से जगा ,मानव बन हैवान । उसकी पशुता ने हरा ,नारी जीवन,मान ।। हद से गुज़री क्रूरता,दक्षिण का यह कृत्य । चंदा भी रोने लगा, रोता है आदित्य ।। वह भोली सी डॉक्टर, मानव सेवा लक्ष्य । हिंसक नर ने कर लिया, उस देवी को भक्ष्य ।। रौंद दिया बूटों तले, कलिका […]

हास्य व्यंग्य

व्यंग्य – बहाने की बात ही और है जनाब

मेरे दौर में एक गाना गूंजता था,जो प्राण साहब पर फिल्माया गया था —“कस्मे-वादे प्यार-वफ़ा सब वादे हैं वादों का क्या ?” ।इसी तरह से एक और गाना इसके बाद फ़िजां में गूंजा था- “पीने वालों को पीने का बहाना चाहिए ।” तो ये गाने सुनकर मैंने पक्की धारणा बना ली थी कि कोई कुछ […]

लघुकथा

लघुकथा – बड़प्पन

नगर के सिध्द स्थल हनुमान मंदिर में लक्ष्मण प्रसाद पहुंचे और प्रार्थना करने लगे -” हे भगवान कल का केस मैं ही जीतूं, इतनी दया ज़रूर करना। नहीं तो मैं कहीं का नहीं रहूंगा। मेरी सारी दौलत मेरे सबसे बड़े दुश्मन के पास चली जाएगी ।” उनके जाने के बाद थोड़ी देर में रामप्रसाद आये […]

पुस्तक समीक्षा

समीक्षा – अहसास के पल

कृति—-अहसास के पल कृतिकार——सरिता गुप्ता प्रथम संस्करण-2018 मूल्य—– ₹ 400 प्रकाशक- साहित्य भूमि, नई दिल्ली समीक्षक-प्रोफेसर शरद नारायण खरे, विभागाध्यक्ष इतिहास, शासकीय जे.एम. सी महिला महाविद्यालय मंडला( मध्य प्रदेश) फोन नंबर 9425 484 382 ‘अहसास के पल’ कृति में श्रेष्ठतम 17 कहानियों का एक सार्थक समन्वय दृष्टिगोचर होता है। यह कहानियां जीवन के आसपास परिभ्रमण […]

मुक्तक/दोहा

दोहे – शहीदों के प्रति

अमर शहीदों के लिये,देता हूं संदेश । तुम हो तो हम हैं ‘शरद’,तुम हो तो यह देश।। पुलवामा के वीर तुम,रहो सदा आबाद। करे वतन सजदा सदा, तुम हो ज़िन्दाबाद।। क़ुरबानी बेकार ना,जायेगी यह सांच। शौर्य तुम्हारा है अमर,आयेगी नाआंच।। तुम सूरज,तुम चांद हो,तुम ठंडक, तुम ताप। तेज तुम्हारे संग जो,कौन सकेगा माप।। वतनपरस्ती का […]