Author :

  • दर्द का नग़मा

    दर्द का नग़मा

    रोदन करती आज दिशाएं,मौसम पर पहरे हैं ! अपनों ने जो सौंपे हैं वो,घाव बहुत गहरे हैं !! बढ़ता जाता दर्द नित्य ही, संतापों का मेला कहने को है भीड़,हक़ीक़त, में हर एक अकेला पावस तो...


  • अहंकार

    अहंकार

    दो दोस्त थे। बचपन में दोनों में बोझ उठाकर पहाड़ी पर दौड़ते हुए चढ़ने की होड़ होती थी,जिसमें मयंक हमेशा बाज़ी मार ले जाता था,और हरीश सदा पीछे रह जाता था।वर्षों बाद वे फिर मिले। परिचय...

  • माँ

    माँ

    माँ जीवन की हर खुशी, माँ जीवन का गीत। माँ है तो सब कुछ सुखद, माँ है तो संगीत।। माँ है मीठी भावना, माँ पावन अहसास। माँ से ही विश्वास है, माँ से ही है आस।।...

  • गीत : पावस रानी

    गीत : पावस रानी

    अब तो गाओ पावस रानी,गीत सुहाने। नहीं चलेंगे अब तो कोई व्यर्थ  बहाने ।। बौछारों से कुछ ना होगा जमकर बरसो अब कुंये, नदी, तालाब भरे हों ऐसा हरसो तुम अब तो आ जाओ नगरी तुम,...

  • मुक्तक

    मुक्तक

    (१) प्यार की बातें करता हूं मैं ,प्यार ही मेरा पेशा है । पर उनकी क्या बात करूं मैं,जिनको सब कुछ पैसा है। प्यार से ही तो प्रियवर देखो मुरली का इतिहास बना, प्यार जहां है...



  • प्रणय गान

    प्रणय गान

    तेरे नयनों की भाषा ने,मुझको जीवन दान दिया ! सिसक-सिसक कर जीता था मैं,जीने का अरमान दिया !! मौसम अब रंगीन हुए हैं, दिशा आज मतवाली है उपवन महक रहा है देखो, खुशियों में तो माली...