धर्म-संस्कृति-अध्यात्म लेख

बात अब मुहूर्त की महिमा प्रभु श्री राम की

जिस दिन से श्री रामजन्मभूमि निर्माण ट्रस्ट ने अयोध्या में भूमि पूजन की तिथि की घोषणा की।अनेक लोग जिन्हें इस स्थान या यहां की आस्था से कभी कुछ लेना देना न रहा मैदान में कूद पड़े और लगे सवाल पर सवाल उठाने।एक महाशय तो इलाहाबाद उच्च न्यायालय में याचिका डालकर मुंह की खा गये।अनेक टेलिविजन […]

कथा साहित्य लघुकथा

दुविधा

सामाजिक आक्रोश पाक्षिक सहारनपुर द्वारा अ.भा. लघुकथा प्रति.2020 में पुरस्कृत दुविधा वह गांव में बुरी तरह बदनाम था। कोई उसे अच्छा नहीं कहता।घर से बाहर तक उसके काम ही कुछ ऐसे थे। एक दिन वह मर गया । उसे दफनाने की व्यवस्था की गई गांव के मौलवी कहीं बाहर गए थे पड़ोसी गांव से मौलवी […]

पद्य साहित्य मुक्तक/दोहा

तीन मुक्तक

तीन मुक्तक 01 आज देश की कई सीमायें असुरक्षा से मचलती हैं घायल हो रहा हिमालय शहीदों की संख्या बढ़ती है। देश के अन्दर कानाफूसी दोषारोपण में उलझे लोग समय बदला हम न बदले पीढ़ी आत्मा की न सुनती है।। 02 कभी इस सीमा कभी उस सीमा सैनिक कब तक खोयेंगे रोना था शत्रुपक्ष को […]

विविध समाचार

वायरस कोरोना आया है के लिए शशांक को सम्मान

कल सोशल मीडिया पर आयोजित आनलाइन  पुस्तक लोकार्पण व सम्मान समारोह मेंदेश विदेश के169 रचनाकारों के साथ साथ शिक्षक संपादक व साहित्यकार शशांक मिश्र भारती को स्वच्छ भारत निर्माण परिषद जयपुर द्वारा सेवा योद्धा ,आईसीटीएम मीडिया समूह हरियाणा द्वारा कोरोना योद्धा ,ज्ञानोदय साहित्य संस्था कर्नाटक द्वारा ज्ञानोदय प्रतिभा सम्मान 2020 व सृजनांश प्रकाशन झारखण्ड द्वारा […]

पद्य साहित्य मुक्तक/दोहा

वैशाखी पर मुक्तक

      वैशाखी पर मुक्तक गेहूँ दलहन तिलहन औरगन्ने की फसल लहलहाई अग्निदेव का समर्पण लोकनृत्य भांगड़ा,लाहाई गिड़ा लाई। खालसापंथ स्थापना दिवस गुरु अंगद जन्मदिन भाई अंग्रेज डायर की क्रूरता नमन शहीदों को वैशाखी आई।।

सामाजिक

अधिगम सम्बन्धी समस्यायें और उनका समाधान

[बदलते परिवेश निरन्तर नये- नये परिवर्तनों घर-परिवार एवं विद्यालय के दृष्टिकोण में नूतन आयामों के स्पर्श से और भी समस्याओं के रूप हो सकते हैं। बालक से सम्बन्धित समस्यायें कोई भी हों उनके समाधान हेतु विद्यालय एवं माता-पिता के आपसी सहयोग से सफलता पायी जा सकती है।] प्राथमिक स्तर के बालकों में अधिगम का माता-पिता […]

कविता पद्य साहित्य

वायरस कोरोना आया है

हम सबको बतलायें कैसे कोरोना कहां से आया है चीन देश में जन्म हुआ है यात्रा ने विश्व में पहुंचाया है। आमजन तक सब त्रस्त है जुकाम खांसी बन छाया है सौ से अधिक देश जूझते आतंकी सा कहर ढाया है। मेले ठेले दुकानें पार्क बन्द हर सांस में डर समाया है कोई छुपा कोई […]

पद्य साहित्य मुक्तक/दोहा

दो मुक्तक

दो मुक्तक एक होली में सालों से रंगों में रंग मिलते हैं सालों के टूटे रिश्ते होली में खिलते हैं। मिलन पर्व यह घृणा में प्रेम भर देता आश्चर्य हो गया जो विधायक मिलते है।। दो होली में छोरी अब छोरी न रह गई बदलाव हुआ गोरी गोरी न रह गई। कहने सुनने मनाने के […]

पद्य साहित्य मुक्तक/दोहा

होली के पांच मुक्तक

होली के पांच मुक्तक 1- होली के रंग मिले जब हृदय खिलने लगे फाग का छिड़ा राग बाल युवा मचलने लगे। विविध रंगों से सजा मिलन पर्व ज्यों आया मस्ती से झूंम-झूंम कर होलियारे निकलने लगे।। 02ः- आया बसन्त फूल खिल गए होली का त्यौहार आया है मधुर तान मिलन की छिड़ती लगो गले ब्यौहार […]

कथा साहित्य लघुकथा

विरोध के लिए विरोध

विरोध के लिए विरोध   पिछले दो माह से प्रदर्शन बन्द हड़ताल धरना से राजधानी का जन जीवन अस्तव्यस्त रहा।लोग परेशान तो हुए ही।बीमार अस्पताल और बच्चे स्कूलों को नहीं जासके। सूचना समाचार की बात करें तो कुछ ही पहुंच रहे हैं।कुछ के साथ तो जाने पर मारपीट हो जाती है।उनके कैमरे तोड़ दिये जाते […]