Author :

  • मैं  इन्तज़ार  करूँगा

    मैं  इन्तज़ार  करूँगा

    तुम्हारा  आना  शाश्वत  प्रिय तुम्हारा  समय  निश्चित है दिल  की  धड़कन  घड़ी  की  सूईयों  की  तरह थँम  जाएगी रूप, रंग,  गंध  पाँच  तत्व  में  समेट कर चेतना  अचेत हो  कर आगोश  में   समा   जाएगी तुम्हारे  कोमल...

  • मोल है अच्छाई का

    मोल है अच्छाई का

    भले चलो पथरीले पथ पर, साथ हो सचाई का। अडिग निर्भय मन विचलित न हो, तुफां हो बुराई का। सोच अपनी साकार होगी, हो कर्म भलाई का। भेद रता भी न आए मन में, अपना पराई...