Author :


  • मन नहीं करता

    मन नहीं करता

    उठने का मन नहीं करता बिस्तर का दामन छोडऩे का मन नहीं करता। क्योंकि जानता यह दिल और दिमाग अगर उठ गया तो होगा वहीं जो आज तक होता आया है। सुननी पडेगी वहीं खबरें जिनमें...

  • चेतावनी : जल की

    चेतावनी : जल की

    जीवन-दाता मै कहलाता। सब लोगों की प्यास बुझाता। पर्वतों से मैं निकालता, फिर सागर से मै मिल जाता। सब पुछते है मुझसे आखिर रंग मेरा कौन सा? मैं कहता हूँ मेरा ढंग है नया-सा। अमृत कहते...

  • श्रापित संपदा

    श्रापित संपदा

    उद्योगीकरण के आँधी में जब बुझने लगती पर्यावरण की बाती तब करने लगती धरती त्राही-त्राही और तब श्राप बनती संपदा किसी स्थान के लिए……. तब मजबूर होकर पलायन करता हर एक आदमी। उद्योगीकरण की मशाल देखकर...

  • समय देकर तो देखो

    समय देकर तो देखो

    समय देकर तो देखो शायद सब कुछ ठीक हो जाए। पुराने-कडवे रिश्तों में शायद थोड़ी-सी मिठास भर आए। दुश्मनी की मशाल शायद थोड़ी कम हो जाए। भटके हुए को उसका मार्ग मिल जाए। समय देकर तो...

  • ज़िंदगी

    ज़िंदगी

    एक हसीन तोहफा है जिंदगी। फूल बनकर मुस्कुराना, मुस्कुरा कर गम भुलाना है जिंदगी। माँ का प्यार, यारो की यारी है जिंदगी। हार को जीत मे बदलना या नामुमकिन को मुमकिन मे बदलना है जिंदगी। एक...

  • सरहद

    सरहद

    सरहद कोई लकीर नही है हर दुश्मनी का आगाज़। जहाँ खिंच जाती है यह बन जाती है वहाँ दीवार। दो मुल्कों की दोस्ती को बना देती है बेजान। खून के मिट्ठे रिश्तो को भी चखा देती...

  • मेरा भारत देश

    मेरा भारत देश

    भारत की मिट्टी की है बड़ी प्यारी, यही उगती महकते फूलों की क्यारी। खेत यहाँ के सींचती गंगा माई, जिंहोने शिवजी की जटाओं में जगह पाई। मिट्टी यहाँ की रंग-बिरंगी, जैसे हो इंद्रधनुष की संगी। इतिहास...