Author :

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    इस बदलते दौर का अंदाज देखो हो चला कैसा ज़माना आज देखो | सच कहीं आता नहीं अब तो नज़र है हो गया है झूठ का अब राज देखो | चीखती चिल्ला रही हैं बेटियां सब...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    तुझे मुझसे मुहब्बत है कि नहीं बता मेरी ज़रूरत है कि नहीं? सदा मिलता रहे तेरा आसरा ख़ुदा इतनी इनायत है कि नहीं? करूँ दीदार तेरा हमदम मेरे मुझे इतनी इजाज़त है कि नहीं? सताते ही...

  • लघु कथा  – लक्ष्य के लिए

    लघु कथा – लक्ष्य के लिए

    उसने अपना काम धंधा नहीं छोड़ा, गाँव के सरपंच से रात्रि में खुले विध्यालय के बारे पता किया और दाखिला लिया ! उसकी परिश्रम और लग्न रंग लाई ! आज रामू पढ़ लिख गया है और...

  • साहिल

    साहिल

    हिम्मतों को अपनी टूटने न दो होंसलों को अपने रूठने न दो जिंदगी ले आये तूफान कितने, पर नैया को अपनी डूबने न दो ! होंसलें बुलंद हों तो सब कुछ होता हासिल, मुश्किलों से जूझकर...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    जीवन है, चलना ही होगा आगे तो बढ़ना ही होगा ! बाधाएं आ जाएँ कितनी उनसे हमें गुजरना होगा ! पानी चाहो गर तुम मंजिल मन में धीरज धरना होगा! रौशन जो करना है जीवन दीये...

  • गलती

    गलती

    गलती से क्यूँ डरते हो तुम, गलती को सब अपनाओ तुम, जीवन में आगे बढना जो, गलती को गले लगाओ तुम ! गलती तो इक ठोकर होती, ठोकर लग कर उठ जाओ तुम, पर इतना भी...

  • जिंदगी एक सिनेमा

    जिंदगी एक सिनेमा

    ये जिंदगी भी तो है इक सिनेमा नए किरदार नए अभिनय रंग अनेक कभी श्वेत श्याम सी यादें कभी रंग बिरंगी बातें कभी खिलता मौसम कभी ठहरा सा जीवन रोज नया सा रोल जिंदगी ये गोल...

  • कुंडलियां छंद

    कुंडलियां छंद

    आजादी को देश की, बीते कितने साल वीरों के बलिदान से, हुई धरा ये लाल हुई धरा ये लाल, दर्द में डूबी जाए खोया जो सुख चैन, कौन वो फिर से लाए गौरों का था खेल,...

  • कविता

    कविता

    हे मनुज अब जाग जाओ तुम सफ़ल जीवन बनाओ प्रेम का दीपक जलाकर अब तिमिर को तुम मिटाओ हिम्मतों से काम लो तुम ये कदम आगे बढ़ाओ त्याग कर अवसाद आलस अब ज़रा कुछ कर दिखाओ...

  • नारी है धरती की शान

    नारी है धरती की शान

    नारी को यूँ ही मत समझो, नारी है धरती की शान पढ़ लिखकर अब खूब बनाए, खुद ही यह अपनी पहचान। बेटी को तुम कम मत जानो, बेटे सम है बेटी आज बेटे जैसा हक दो...