Author :


  • ख़ामोश लफ्ज़

    ख़ामोश लफ्ज़

    हर कदम पर साथ निभाने की कसमें खाई तुमने। जो वादे किए सब भूलकर, रस्में न निभाई तुमने। हमने सबकुछ सह लिया जितने भी किये सितम, जितने भी अरमान थे सारे, धूल में मिलाई तुमने। इससे...

  • माँ का आँचल

    माँ का आँचल

    कितना प्यारा माँ का आँचल समेट लेती गम दामन में बच्चों की किलकारी गूँजती खुशियाँ भर देती आँगन में खुद कष्ट झेले मगर बच्चों के लिए खुशियों की माला पिरोती हैं माँ की गोद में सिर...

  • महकती-शाम

    महकती-शाम

    पहली ही नज़र में, तुमसे प्यार हो गया। मिलने को बेताब तेरा इंतजार हो गया। पल_पल राह हम देखते रहे, उनकी, आँखों में नमी इश्क़ का खुमार हो गया। मेरे मन के ख्वाबों को पंख लगे...

  • परिश्रम

    परिश्रम

    मेहनत करने वालों को कभी न होती थकान परिश्रम करते लगन से और करते श्रमदान गोद में प्यारी बिटिया,मातृत्व से भरा प्यार दो वक्त की रोटी कमाना,राह कठिन समान थामा हथौड़ा हाथ में,न फैलाये दर पर...

  • दोहे

    दोहे

    कड़ी धूप ऐसी पड़ी, धरा गई सब सूख। गर्मी का मौसम हुआ, पड़े जोर की धूप।। गर्मी के संताप से,……….धरा हुई बेहाल। जून मास की दुपहरी, तन मन हुआ निढाल।। कर्ज में डूबा किसान, माथे शिकन...

  • गीतिका – पर्यावरण

    गीतिका – पर्यावरण

    आओ मिलकर शपथ लें पर्यावरण बचाएं हम। चहुंओर हरियाली हो प्रकति को सुंदर बनाएं हम। ताजी, ठंडी, खुली हवा मिले मन में हो खुशहाली, भारत भूमि के कण-कण में हरियाली फैलाएं हम। मनभावन पृथ्वी ये प्यारी...


  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    रूठे हुए दिल को मनाना भी जरूरी है। दिल से दोस्ती निभाना भी जरूरी है। यूँ तो जिंदगी में गम, निराशा, आसूँ बहुत, नमी आँखों की, दर्द छुपाना भी जरूरी है। वैसे तक़लीफ़, दुख-दर्द तो है...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    झूठे कसमें, वादे, कहानी लिखेंगे। जो आँखों से बहता पानी लिखेंगे। आरजू थी मुझे प्यार-ए-हसरत, बेवफाई जीवन में रवानी लिखेंगे। चाहती थी तुझे हद से भी ज्यादा, प्यार में धोखा, बेईमानी लिखेंगे। गैरों के खातिर तुमने...