Author :

  • रिश्ते

    रिश्ते

    सारे रिश्ते बेमानी लगते हैं , हो जाते हैं वो भी दूर जो ख़्वाबों में अपने लगते हैं । तिलिस्म है ये झूठी दुनिया का , कौन किसी का होता है, दर्द है सिर्फ अपना ,...

  • हमसफर

    हमसफर

    पुलकित हो झूम जाती हूँ , अक्स तेरा चहुँ ओर पाती हूँ । मैं हूँ कागज तुम मेरी पाती हो , तुम से ही तो जीवन पाती हूँ । अधरों पर हैं गीत मिलन के ,...


  • दर्द

    दर्द

    प्यार में कोई शर्त तो नहीं होती फिर क्यों बांध दिया है मुझको शर्तों में हर बात पर यूँ जिद तो अच्छी नही होती जिद को बना लिया घर क्यों जिंदगी में वजह बेवजह यूँ तो...

  • प्यार

    प्यार

    प्यार हवा जैसा ही तो होता है चाहते हैं जिसे छूना हर पल प्यार आँसूं की फुहार है बसता जिसमें सारा संसार है बह जाना चाहता है हर पल , बिना बांध के दरिया जैसा प्यार...

  • दर्पण

    दर्पण

    जीवन के अंतर्द्वंद को समझना इतना आसान कहाँ , खिलते हैं फूल बगिया में पर आनंद माली के बिन कहाँ !! खेल तमाशे बचपन के माँ के साए में ही मिलते हैं , माँ के बिना...

  • इश्क़

    इश्क़

    जुस्तजू में प्यार की बैचैनी ओढ़ लेते हैं लोग उम्र भर का रोग क्यों मोल ले लेते हैं लोग । ऐतबार का सिलसिला फना हो ही जाता है , बेरहम दिल से जब आईना तोड़ देते हैं...

  • दर्द

    दर्द

    आंसुओं को जबसे हमने पीना सीख लिया , लोगों ने कहा उसने जीना सीख लिया । अल्फाजों को ढालकर गम के समंदर में , हमने जबसे दर्द को सीना सीख लिया । बन जाता है मरहम...

  • उम्र और खुशियां

    उम्र और खुशियां

    चांदनी रातों में अहसास भी करीब होते हैं , चाँद के नजारे भी जैसे रकीब होते हैं । पिघल रही है समा देखो चाँद के नूर से , बेवक़्त बेहिसाब ग़मों के दौर होते हैं ।...

  • यादें

    यादें

    न जाने क्यों लगता है अब तुम बदल रहे हो , चल रही हैं सांसें मेरी जाने किस इंतजार में , सफर है बाकी बहुत , ख्वाबो के साथ ढल रहे हो । पैगाम नफरतों का...