Author :

  • तमन्ना

    तमन्ना

    मन की बेचैनियां किसके साथ साझा करूँ आओ मेरे दिल तुमसे ही कुछ वादा करूँ । कौन है जो धीरज देता इस भरी महफ़िल में कुछ अनकही बातें किसके साथ बांटा करूँ। अजनबी से जहां को...

  • कांच के टुकड़े

    कांच के टुकड़े

    टूटे हुए टुकड़ों को काश संभाला होता आशियाँ को अपने यूँ न जलाया होता गैरों को अपना बनाने की हसरत में यूँ न अपनों पर बेरुखी का कहर ढाया होता ईमान पर चलने वाले भी दागदार...

  • बगाबत

    बगाबत

    बगाबत पे उतर आती है जिंदगी , कानून को परे रखकर खंजर की तरह । लहूलुहान हो जाते हैं रिश्ते भी आजकल, गैरों को अपना बनाने की जुस्तजू की तरह । आंखों में उतर आती है...

  • अहसास

    अहसास

    हवाओं की तरह तेरा मुझे छू जाना , जिस्म को मेरे जैसे महका जाना । बारिश की बूंदों सा वो अहसास , दिल को जैसे गहरे तक भिगो जाना । बेबसी का आलम न हमसे छिपाया...

  • जज्बात

    जज्बात

    जज्बात की तेज आंधी में प्यार के फूल // कहाँ खिलते हैं // डोर से टूटी पतंग को आसमान कहाँ मिलते हैं । शाखों पर हलचल तो हुआ करती है // हवा के झोंको से //...

  • यादें

    यादें

    छिड़ जाता है एक युद्ध अंतर्मन में , बैठ जाती हूँ सब छोड़कर जब तेरी यादों में । कैसा अहसास है हर पल बिन तेरे , डूब जाती हूँ हर पल सिर्फ तेरे खवाबों में ।...

  • यादें

    यादें

    अक्सर रातों में याद कर लेती हूं , जो बीत गया है उसे बुन लेती हूं । खवाबों को सजाने की धुन में , कुछ टूटे हुए टुकड़े चुन लेती हूं । वो देखो चुभ रहा...

  • रवायतें

    रवायतें

    दिल जार जार है ना जाने किसका इंतजार है , आंखों में हैं आंसूं पर लबों पे इनकार है । बेखुदी है प्यार की या रुसबाइयों का जहर है , इरादों में हमारे आज भी जंग...

  • पिया की पाती

    पिया की पाती

    पाती प्रिय के नेह की आंखों में आँसू भर जाती है पंथ तुम्हारा निहारकर धूल मुझे दे जाती है । प्रियवर तुम्हारा प्रेम निमंत्रण पढ़कर पलकें मेरी झुक जाती हैं , जैसे मुरझाये हृदय में पीर कोई...