Author :

  • प्रेम

    प्रेम

    प्रेम ही तो है ईश्वर का अनमोल वरदान ,नहीं है प्रेम सिर्फ एक दिन का मेहमान सृष्टि से पूर्व बहता था हवाओं में फिजाओं में ,सृष्टि के बाद भी इंसान की अनिवार्य पहचानप्रेम एक ऊर्जा है,प्रेम ही...

  • ख़ुशी

    ख़ुशी

    जाने क्यों लगते सारे रिश्ते बेमानी है ।जिंदगी रहनी है तन्हा- तन्हा ,सिर्फ ख्वाबों में जिंदगी बितानी है ।जिसको भी चाहा हद से ज्यादा ,उससे ही ठोकर खानी है ।।रिश्तों के झंझाबात में मिलतीसिर्फ एक वीरानी...

  • मिठास

    मिठास

    छू गयी दिल को मेरे तेरी यही दिल लुभाने की अदाएं , कितना नेह है भरा दिल में तेरे , क्या सच में मैं इतनी ही मीठी हूँ , या फिर ये सिर्फ एक बहम है...

  • दिवाली और पटाखे

    दिवाली और पटाखे

    दिये की रौशनी में अंधेरों को भागते देखा अपनी खुशियों के लिए बचपन को रुलाते देखा। दीवाली की खुशियां होती हैं सभी के लिए, वही कुछ बच्चों को भूख से सिसकते देखा । दिए तो जलाये...