Category : यात्रा वृत्तान्त

  • चलो कहीं सैर हो जाये-5

    चलो कहीं सैर हो जाये-5

    पुर्व कथा सार : हम कुछ मित्र मुंबई से ट्रेन द्वारा जम्मू और फिर बस द्वारा कटरा पहुंचे । बाणगंगा में नहा कर आगे बढे ।बाणगंगा से आगे बढ़ते हुए हम अर्धक्वारी तक आ पहुंचे ।...

  • चलो कहीं सैर हो जाये-4

    चलो कहीं सैर हो जाये-4

    पुर्व कथा सार : हम कुछ मित्र मुंबई से ट्रेन द्वारा जम्मू और फिर बस द्वारा कटरा पहुंचे । बाणगंगा में नहा कर आगे बढे ।बाणगंगा से आगे बढ़ते हुए हम अर्धक्वारी तक आ पहुंचे । ...

  • चलो कहीं सैर हो जाये-3

    चलो कहीं सैर हो जाये-3

    कथा सार : हम कुछ मित्र मुंबई से ट्रेन द्वारा जम्मू और फिर बस द्वारा कटरा पहुंचे । बाणगंगा में नहा कर आगे बढे । अब आगे…………. शाम का धुंधलका घिरने लगा था । रास्ते के...

  • चलो कहीं सैर हो जाये-2

    चलो कहीं सैर हो जाये-2

    पूर्वकथा सार : हम लोग कुछ मित्र मुंबई से जम्मू माता वैष्णो देवी के दर्शन हेतु ट्रेन से सफ़र करते हुए जम्मू स्टेशन पहुँच चुके हैं । अब आगे … स्टेशन से बाहर निकलते ही बायीं तरफ...

  • चलो कहीं सैर हो जाये-1

    चलो कहीं सैर हो जाये-1

    रोज एक ही माहौल में रहते हुए कभी-कभी जिंदगी बोझिल सी होने लगती है । ऐसे में अंतर्मन पुकार उठता है……चलो कहीं सैर हो जाये घूमने फिरने के कई फायदे भी हैं ।नया माहौल, नए लोग,...

  • हरसूद यात्रा

    हरसूद यात्रा

    2004 में इंदिरा सागर बांध की चपेट में आया हमारा शहर हरसूद वर्तमान में वहाँ कोई नहीं रहता। बारिश में वहाँ लगभग 20 फिट तक पानी भरा रहता हैं गर्मी के दिनों में रास्ता खुल जाता...