Category : कथा साहित्य

  • अंतिम स्पर्श…

    अंतिम स्पर्श…

    ‘करुणा, गैलरी में बाएं वाला अंतिम कमरा दमयंती जी का है। वहां कतई मत जाना… तीन वर्ष से कोमा में हैं, उनकी देखभाल के लिए नर्स है।’ हाल ही में सहायिका के रूप में नियक्त करुणा...

  • लघुकथा – लिली

    लघुकथा – लिली

    ”लिलीSSS, लिलीSSS इधर आओ” बहुत दिनों बाद शालिनी की तेज-तर्रार आवाज में लिली का नाम सुनाई दिया. जिज्ञासावश मैं यह जानने के लिए बालकनी में आ गई, कि लिली का तो देहावसान हो गया था, फिर...


  • लघुकथा- लाज का पर्दा

    लघुकथा- लाज का पर्दा

    डगमगाते बच्चों को देख मां का आंचल तार-तार हो जाता है. समझाने की पूरी जिम्मेदारी भी उसीके जिम्मे आती है. ”अविश्वास की नैय्या पर सवारी करोगे, तो डगमगाहट तो होनी ही है न!” मां ने कहा.”तो फिर...

  • अंजू भाग ५

    अंजू भाग ५

    घर पहुंचकर धर्मेंद्र ने देखा चाचा जी शिवदास और मौसा जी नीलेश गर्ग दोनों बैठे हुए हैं उनको देखते ही वह समझ गया कि..” पापा ने इनको बुला लिया है, मुझे समझाने के लिए।” वह दोनों...

  • ब्लॉक अनब्लॉक

    ब्लॉक अनब्लॉक

    इस कथा का जन्म ‘ध्यान’ के दौरान हुआ ईश्वर चंद्र जी बहुत बड़े वैज्ञानिक थे । पत्थर, लोहे, को सोना बनाने की कला जानते थे । पत्थर को सोना बना देते सोने को एक क्षण में...

  • कहानी इश्क की

    कहानी इश्क की

    ” हाय .. ” हाय…. ” कैसी हो, आपने मुझे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी जानती हो क्या मुझे …….? “नही जानती पर कॉमन दोस्त बहुत है कुछ तो मेरे करीबी रिश्तेदार”। ” ओह्ह मुझे नहीं मालूम था...

  • जीवंतता

    जीवंतता

    स्व लेखन की पुस्तक के लोकार्पण होने पर मेरी प्रसन्नता इंद्रधनुषी हो रही थी..। सोच बनी कि घनिष्ठ मित्रों को भी एक-एक प्रति भेंट करनी चाहिए। मित्रों की सूची बनाने के क्रम में बिगत सात वर्षों...

  • लघुकथा – अर्वाचीन

    लघुकथा – अर्वाचीन

    घर में कदम रखते ही बेटे को सरप्राइज देने  की इच्छा परी की धुमिल हो गई ।क्योंकि एक मैसेज मम्मी पापा के नाम किशोर ने भेजी थी ।मैसेज से कुछ स्पष्ट नहीं हो रहा था बस...

  • वानप्रस्थ

    वानप्रस्थ

    गुप्ता जी लॉन में बैठे चाय पी रहे थे तभी टेबलपर एक सूखा, पीला पड़ता पत्ता आ गिरा “क्या हुआ भई? अपनी डाल को छोड़ आए” गुप्ता जी ने पूछा “वहाँ अब नये पत्तों का जमाना...