Category : कथा साहित्य

  • मिलन

    मिलन

    चित्र आधारित रचना ———————– अमर ने पहली बार उसे देखा तो देखता ही रह गया था । सफ़ेद सूट के साथ ही शुभ्र धवल दुपट्टा उसकी खूबसूरती में चार चाँद लगा रहा था । हवा के...




  • लापरवाही

    लापरवाही

    आज शिवानी अपने पति सौरभ के साथ अपने दोनों बच्चों (पांच साल की बेटी शुभी और छह महीने का बेटा शनि) को लेकर बाजार गयी हुई थी । उनके  मकान मालिक के बेटी की शादी होने...


  • अपनी माटी

    अपनी माटी

    ” अपनी माटी ” आज निर्मला का मन थोड़ा उदास था। पता नहीं किस सोच में डूबी थी वह। अभी कुछ ही दिन पहले की तो बात है, अमेरिका से बेटे के आने की खुशी में...

  • तर्पण

    तर्पण

    नवीन गुप्ता जी हर साल कनागतों में आने वाली अमावस्या को बहुत बड़ा भंडारा रखते । आज़ भी उन्होंने भंडारा रक्खा हुआ था । पूरे शहर से ग़रीबों की लाईन लगी थी । वे सबको खाने...


  • ऑपरेशन

    ऑपरेशन

    ”हां बेटा, पापा जी के ऑपरेशन के बारे में क्या सोचा?” पड़ोसी जैन साहब ने सुमित से पूछा. ”अंकल जी, ओपन हार्ट सर्जरी होगी, उसमें 4 लाख लग जाएंगे, इतना धन कहां है हमारे पास?” सुमित...