Category : कथा साहित्य




  • उपन्यास : शान्ति दूत (छठी कड़ी)

    द्रोपदी के स्वयंवर में धनुर्वेद की कठिन प्रतियोगिता में ब्राह्मण वेशधारी अर्जुन के विजयी होने के बाद की घटनायें कृष्ण की आंखों के सामने स्वप्न की तरह घूम गयीं। एक अनजान ब्राह्मण युवक को प्रतियोगिता में सफल होते...

  • ++पिता लाडली  ++

    ++पिता लाडली ++

    शिखा अपने पड़ोसन अमिता और बच्चो के साथ पार्क में घुमने गयी. चारो बच्चे दौड़ भाग करने में मशगुल हो गये. शिखा भी अमिता के साथ गपशप करने लगी. गाशिप करते हुए समय का पता ही...



  • भगवान का भोग

    भगवान का भोग

    ‘हे प्रभु !! क्षमा करना, आज मैं आपके लिये भोग नहीं ला पाया !! मजबूरी में खाली हाथों पूजा करना पड़ रही है !!’ किसी भक्त का कातर स्वर सुनकर मैंने पीछे मुड़कर देखा !! अरे...