Category : लघुकथा


  • सूरत !

    सूरत !

    प्रीती और समीर एक दूसरे से शादी में मिले थे। प्रीती अपनी मर्ज़ी और पसंद से अपने मुताबिक लड़के से शादी करना चाहती थी। शादी में प्रीती से जब मुलाकात हुई उसे पहली ही नज़र में...

  • डोर

    डोर

    सभी को लग रहा था कि शमशेर हादसे के कारण अपना दिमागी संतुलन खो बैठा है। वह एक कठपुतली कलाकार था। एक समय था कि अपनी कला के दम पर उसने कई सम्मान प्राप्त किए थे।...

  • लघु कथा

    लघु कथा

    लघुकथा मेहनत की रोटी आज विद्यालय में सभी विद्यार्थी अपने अपने घर से स्वादिष्ट भोजन लेकर आए। गुरुजी ने सबका भोजन देखा और बोले आज तो सब मजेदार डिश लाये हैं। कोई मिठाई कोई पुड़ी कोई...

  • लघुकथा – सबसे बड़ा इनाम

    लघुकथा – सबसे बड़ा इनाम

    स्कूल के वार्षिक समारोह से घर आते ही बच्चों ने इनाम में मिले अपने अपने स्मृति चिह्न माँ को दिखाने शुरू कर दिए। सबसे पहले बड़ी बेटी ने अपने इनाम में मिले स्मृति चिन्ह अपने बसते...

  • लघुकथा : तमाचा

    लघुकथा : तमाचा

    “नवल, मुझे आज प्रिसिपल के घर ज़ा कुछ पेपर पर दस्तखत करवाने हैं, फिर नई जगह हाजरी देनी है| नहीं तो मेरी पिछले मास की तनखाह रुक जायेगी|” नवल और नमिता के विवाह को थोडा समय...

  • लघुकथा – अपना–पराया

    लघुकथा – अपना–पराया

    सरकारी स्कूल दारपुर की हिन्दी टीचर नेहा का बेटा अभि शहर के नामी प्राइवेट स्कूल में पढ़ता था | उसकी हिन्दी की टीचर ने उसकी हिन्दी की नोट बुक पिछले दो दिन से चैक नहीं की...

  • लघुकथा-दोषी कौन है?

    लघुकथा-दोषी कौन है?

    संगीता रोज की तरह आज भी विद्यालय जाने के लिये तैयार हो रही थी। कक्षा आठ में पढ़ती थी संगीता ।उसके पिता किसान थे वो चाहते थे कि उसकी बेटी पढ़कर एक सरकारी अफसर बने और...

  • गिरावट -लघु कथा

    गिरावट -लघु कथा

    डॉ ठाकुर ने बेटी की विदाई होते ही सभी रिश्तेदारों के सामने घोषणा कर दी कि “मैं दूसरी शादी करना चाहता हूँ” | सब लोग आश्चर्य चकित रह गए ,यह क्या कह रहा है ? सबने...