लघुकथा

पहल अपनों की

कालिमा बढ़ती जा रही थी महामारी और कर्फ्यु ने लोंगों में निराशा हावी हो रही थी वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग रात दिन लगा था मगर ये प्रयास भी कम पड़ते लग रहे थे इधर लाकडाऊन को लागू करने में खुद लोंगों ने ही पुलिस के नाकों चने चबवाने की ठान रखी थी जैसे । […]

लघुकथा

उतरता रंग

उस मिश्रित आबादी वाले मौहल्ले में किसी संस्था द्धारा महिला सभा आयोजित हुई। सभा में अमीर-गरीब सभी महिलाओं को आमंत्रित किया गया था। सभा शुरू होने से पहले एक अमीर महिला ने दिवाली के दिन महंगा बड़ा टीवी ख़रीदने की बात मौजूद महिलाओं को बताई। सभी ने उसकी बात सुनी, बधाई दी और मिठाई खिलाने […]

लघुकथा

हम किसी से कम नहीं!

”सबकी चिंता यही है, कि 21 दिन के लॉकडाउन में हम क्या करेंगे?” नाहरू खान ने खुद से कहा. ”हम क्या करेंगे? क्या हम किसी से कम हैं!” उसने अपने आत्मबल को जगाने के लिए खुद को चुनौती दी. यह चुनौती सिर्फ नाहर खान के सामने नहीं है, सारे देश, बल्कि सारी दुनिया के सामने […]

लघुकथा

इंसानों का मुल्क

  ” अरे भाईसाहब ! क्या हुआ ? ये अचानक कहाँ जाने की तैयारी है ? ” ” क्या बताऊँ भाईसाहब ! चार साल हो गए इस मुल्क की आबोहवा में साँस लेते हुए । इस मुल्क की माटी से हमें प्यार हो गया है , लेकिन लगता है अब हमें जाना ही होगा यहाँ […]

लघुकथा

लॉकडाउन

रसोई का सारा काम निपटा कर रिद्धिमा अपने पति और पांच वर्षीय बेटी रूही के साथ कैरम खेलने लगी। सामने टीवी पर कोरोनावायरस से संबंधित न्यूज चल रही थी। दिनों दिन बढते कोरोना पाज़िटिव केस से व्यथित होकर रिद्धिमा के मुंह से निकल गया- न जाने कब ये कोरोना खतम होगा और और कब यह […]

लघुकथा

लघुकथा – सच्चा झूठ

                       आत्माराम अपने बेटे आलोक और पत्नी शांति के साथ लड़किवालों के घर पहुंचे। सभी ने लड़की देखी। बारी – बारी उससे कुछ सवाल पूछकर संतुष्ट हुए। लड़की की मां ने अपनी बेटी खुशबू का गुणगान गाते हुए कहा, “ मेरी बेटी दसवीं पास है। […]

लघुकथा

जुनून के पंख

आज सुमि के जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि का दिन था. ”आपको फाइटर प्लेन उड़ाने के लिए चयनित किया गया है. बधाई हो.” अभी-अभी एयर फोर्स से उसके मोबाइल पर मैसेज आया था. फाइटर पायलट पति दिनेश को यह खुशखबरी देने के लिए प्रतीक्षा करती सुमि अतीत में गुम-सी हो गई. बचपन से ही सुमि […]

लघुकथा

लघुकथा : छोटे लोग 

 मिसेज भारती और उनका आठ साल का बेटा पिछले एक सप्ताह से लॉक डाउन के चलते घर पर बन्द थे। कोरोना वायरस की महामारी के चलते पूरे देश में इक्कीस दिन का लॉक डाउन किया गया था। उनके पति बिजनेस के सिलसिले में दिल्ली गए हुए थे परंतु लॉक डाउन और कोरोना के संक्रमण को […]

लघुकथा

ईमोजी

आज सुमन के बेटे का जन्म दिन है.उसे गुजरे समय की याद बार बार आ रही है. बेट पढ़ लिखकर लंदन में बस गया है. सप्ताह भर पहले से ही वह अपना जन्मदिन मनाने की रुपरेखा तैयार कर लेता था.किस किस को बुलाना है,क्या क्या खिलाना है सब कुछ वह खुद ही तय करता.सुमन का […]

लघुकथा

भूख

भूख मेरी रचना “भूख” वाहवाही बटोर रही थी। बधाई देने के लिए लोगों का तांता लगा था। “कमाल की रचनाकार हो आप। सरल शब्दों में कैसे गरीब का दुख बयां कर देती हो?” वाहवाही करते हुए वे बोले। “आसपास के गरीबों का दुख, जब हृदय को झनकोर देता है, उसे पन्नों पर उकेर देती हूं।” […]