Category : लघुकथा

  • आरक्षण

    आरक्षण

    ” अरे वीनू काका ! सुना तुमने ! सरकार ने सवर्ण गरीबों के लिए दस प्रतिशत आरक्षण वाला बिल पास कर दिया है । सरकार ने वाकई बहुत ही सराहनीय कार्य किया है । “  ”...

  • लघु कथा  – लक्ष्य के लिए

    लघु कथा – लक्ष्य के लिए

    “रामू तुम्हारा बेटा पढ़ने में कतई नालायक है , तुम्हें कितनी बार कहा है कि यदि उसकी पढाई लिखाई पर ध्यान नहीं दे सकते तो उसका दाखिला हटा लो स्कूल से , खुद तो अनपढ़ हो...

  • कद्रदान

    कद्रदान

    तीन बहनों में मंझली नवीना का नैन नक्श अति साधारण है परंतु गुणों का भंडार। पढ़ने में सबसे होशियार। सभी कामों में निपुण, चाहे घर में खाना बनाना हो या बाजार से जाकर राशन पानी, सब्जियां...


  • लघुकथा – Undo का बटन

    लघुकथा – Undo का बटन

    बहुत मिन्नतें करने पर हम कुछ दिन रहने के लिए चंपा के पास आए थे. चंपा की भानजी मिन्नी भी अपनी इंटर्नशिप करने के लिए उनके पास रह रही थी. चंपा, उसके पतिदेव और मिन्नी तो...

  • लघुकथा – इतिहास का दोहरान

    लघुकथा – इतिहास का दोहरान

    अभी-अभी विन्नी के मोबाइल पर उसके ऑफिस से मैसेज आया था- ”मुबारक हो, 27वीं कंपनी भी अब आपकी देखरेख में काम करेगी.” एक और कंपनी की जिम्मेदारी संभालना यानी काम में बढ़ोतरी, ओहदे में ऊंचाई, वेतन...


  • जद्दोजहद

    जद्दोजहद

    “क्यों पापा कब तक यूँ ही असमंजस की स्थिति में हमें रखेंगे? माना कि आप मुखिया हैं इस घर के ।परंतु आप यह क्यों नहीं मानते कि माँ के बिना इस घर की कल्पना भी अवश्यंभावी...

  • प्रीत की रीत

    प्रीत की रीत

    मोहन और लसिका साथ एक ही कॉलेज में पढ़ते है । मोहन को कूची, रंगों से प्यार है तो लसिका को उसके चित्रों से । मोहन के बनाये हर चित्र लसिका के साथ औरों को भी...

  • लघुकथा- सलीब

    लघुकथा- सलीब

    हर एक लड़की की भांति उसकी शादी भी गृहस्थ धर्म निभाने और सुख-समृद्धि की राह पर अग्रसर होने के लिए हुई थी. पर उसे पता नहीं था कि यही शादी उसके लिए बरबादी का सैलाब लाने...