Category : कहानी

  • भुट्टेवाला

    भुट्टेवाला

    ‘भइया, क्या तुम्हारे पास नरम नरम और कच्चे भुट्टे हैं, छोटे बच्चों के लिए ले जाने हैं?’ सुरेखा ने बाज़ार में रेहड़ी पर भुट्टे वाले से पूछा जो गर्मी के बावजूद कच्चे कोयले की अग्नि में...


  • गुब्बारा

    गुब्बारा

    ‘देखो भाई, इस हाल की हर दीवार को और छत को गुब्बारों से सजाना है । आज मेरी बिटिया का जन्म दिन है । गुब्बारे हरेक रंग के होने चाहिएँ, अलग-अलग डिज़ाईन के होने चाहिएँ ।...

  • रजिस्ट्री

    रजिस्ट्री

    माइग्रेन का दर्द रह-रह कर उठता था,डर लगता था कहीं बेहोश न हो जाय। अभी तो काफी लम्बा रास्ता है कहीं गिर गयी तो ! सोचा था कि गाड़ी से आउंगी पर ऐन वक्त पे ड्राईवर...


  • कहानी – बदलती पतवार 

    कहानी – बदलती पतवार 

    अजीब सी कसमसाहट सी थी। आज ! कितने बरस बाद फिर मैं आयी थी उस गाँव में। बरस बाद! हाँ लगभग बीस बरस बाद ! यादें फिर भी अभी तक  धुधँली न हुई । वही खपरैल से बना...

  • कहानी- वंदे मातरम्

    कहानी- वंदे मातरम्

    आज कल्याण और अनवर में “वंदे मातरम्” और “भारत माता की जय” इन शब्दों लेकर बहस छिड़ गई। अॉफिस में लंच का समय था। सभी लोग अपने-अपने मोबाइल पर भारत और पाकिस्तान का रोमांचक मैच देख...


  • इंतज़ार

    इंतज़ार

    कहते हैं प्यार किया नहीं जाता बस हो जाता है ! पर ना जाने क्यों, ये अक्सर वहीं क्यों हो जाता है, जहाँ कायदे से इसे नहीं होना चाहिए ! जमीं आसमान का फर्क था उन...

  • सौदा

    सौदा

    सौदा ” यार… क्या पटाखा हैं वो…… ” ” अबे किसकी बात कर रहा हैं, साफ साफ बोल ” ” अरे.. वो जो नयी नयी आयी हैं……, क्या लगती है, पतली कमर, बलखाती चाल, और…. ”...