Category : कहानी

  • चच्चा

    चच्चा

    ट्रिन ट्रिन फोन की घंटी ने नींद खोली। शनिवार ऑफिस की छुट्टी, देर तक सो रहा था। सुबह सुबह किस का फोन आ गया। एक बार शंका हुई कहीं ऑफिस से बुलावा तो नही है? खैर...


  • कहानी –  नदी के लुटेरे

    कहानी – नदी के लुटेरे

    जब ज्येष्ठ की धूप उनके जिस्मों के अंदर छुपी महीन जीवनदायनी खून के साथ घुली पानी की बूंदों को सोखनी शुरू कर देती, तो वे बड़े खुश होते, इसलिए नहीं कि शरीर का भार खाली हो...

  • आखिरी कहानी (भाग 4/5)

    आखिरी कहानी (भाग 4/5)

    अध्याय 4 – औघड़ बाबा निरंजन का संकलन लगभग-लगभग पूरा हो गया था। उसे अपनी आखिरी कहानी की जितनी ही शिद्दत से तलाश थी, उतनी ही वह उससे दूर जा रही थी। काफी खोजने के बाद...

  • कहानी – बँटवारा

    कहानी – बँटवारा

    जय प्रकाश के परिवार में उसकी माँ पत्नी एयर एक छोटी सी प्यारी सी बिटिया रहते थे ! जय प्रकाश का परिवार एक माध्यम आर्थिक स्थिति के वर्ग में आता है जहाँ सभी के कुछ न...

  • यादों का बसेरा

    यादों का बसेरा

    सर्दियों की शाम खिड़की के पास बैठकर काफी पीना उसका पंसदिदा शौक था, हमेशा वह इसी तरह बाहर के नजारे देखा करती । पार्क मे खेलते बच्चे ,चिडि़यों का चहचहा कर नीड़ की तरफ लौटने का...

  • जीरो फिगर

    जीरो फिगर

    नींद ना आने के कारण रीमा ने टीवी चला दिया पति गहरी निद्रा में सो रहे थे| रात के साढे बारह बज रहे थे| टीवी पर किसी क्लिम टी की बात हो रही थी मात्र तीन...

  • संकल्पिता

    संकल्पिता

    “माँ, देखो न! जीतू ने फिर से गुलाब का फूल तोड़ लिया, आप उसे मना क्यों नहीं करतीं” “अरे बेटी, वो भगवान् को ही तो चढ़ाता है न…फिर घर में भी कितनी सुगंध बनी रहती है”!...

  • अँधी सोच….

    अँधी सोच….

    मेघा एक बेबस लाचार असहाय वक़्त की मारी हुई वो लड़की थी, ‘जिसे ईश्वर ने बेहद खूबसूरती से नवाज कर साथ में गरीबी, अपाहिज बाप, दमे की मरीज मां व तीन छोटे भाई बहनों की जिम्मेदारी...