Category : कहानी

  • विश्वासघात

    विश्वासघात

    रेखा और मनीषा बचपन की दोस्त थी !  रेखा मनीषा से सुन्दर थी , रेशमी काले बाल , जो काफी लम्बे थे , गोरा रंग और वही मनीषा दिखने में  ज्यादा सुन्दर नहीं थी , पर ...

  • अनहोनी

    अनहोनी

    वैसे तो मैं हर जगह हमेश समय से पीछे ही रहती हु , पर एक जगह थी , जहाँ मैं हमेश समय पर या यु कहिए की समय से पहले ही आ जाती थी ! वो...

  • कहानी – अंतराल

    कहानी – अंतराल

    उम्र के आठवें दशक में खड़ी रामकली, आँखें फाड़े अपने प्रौढ़ पुत्र को देख रही थी। वह सोच रही थी, ‘क्या ये उसी नथामल का पुत्र है जिसने विभाजन के कारण भूखे-प्यासे रहने पर भी किसी...

  •   बेटी

      बेटी

    एक शहर में एक लड़की रहती थी जिसका नाम जहाना था , वह दिखने में बहुत ही सुंदर थी कद लम्बा , बाल रस्सी की तरह एक दम सीधे ! वह आपने अम्मी और अबू की...

  • आखिरी कहानी (भाग 2/5)

    आखिरी कहानी (भाग 2/5)

    अध्याय 2– रजनी जी मालती का नाम जैसे दहकते लोहे की मुहर से सीने पर दाग देने जैसा था। उसका ख्याल भी आता था तो निरंजन झुलस जाता था। कुछ इस कदर कि आस-पास का कुछ...

  • गलती

    गलती

    आज फिल्म बागबां देखते-देखते अचानक पूनम को नरेश की याद आ गई थी. बागबां में अमिताभ ने हेमा मालिनी को कहा था- ”अक्सर लोग प्यार करते हैं, लेकिन यह बात उतनी बार नहीं कहते, जितनी बार...

  • पगली

    पगली

    कैंसर शब्द सुनते ही रीना पर वज्रपात गिर गया। पिछले एक वर्ष से गिरती सेहत से परेशान रीना के मुख से एक शब्द भी नही निकला बस आंखों से गंगा-जमुना बह निकली। एक वक्ष काट कर...


  • आखिर क्यों ?

    आखिर क्यों ?

    सारिका मेरी बालपन की सखी के पति का असामयिक देहावसान सुन मन खिन्न हुवा बैठक में संवेदना प्रकट करने गई सबसे मिली पर सारिका की बड़ी बेटी कहीं नजर नहीं आ रही थी पोछने पर पता...

  • विदाई

    विदाई

    आंगन में चारो ओर लाइटें लगा दी गई हैं। अब मंडप खड़ा करने की तैयारी चल रही थी जब चिंटू भागता हुआ आँगन में आकर खड़ा हो गया और दोनों हाथ कमर पर रखकर चिल्लाने लगा...