Category : कहानी

  • आखिरी कहानी (भाग 5/5)

    आखिरी कहानी (भाग 5/5)

    अध्याय 5 : आखिरी कहानी निरंजन को अब अपने संकलन के लिए आखिरी कहानी की तलाश थी। कथामहोत्सव का समय जैसे-जैसे पास आता जा रहा था और वह वैसे-वैसे व्यग्र होता जा रहा था। उसे किसी...

  • इंसानियत का सौदा

    इंसानियत का सौदा

    एक व्यक्ति था जो बहुत ही नेक था। सहयोग और सहानुभूति का मिसाल था। खुद को कष्ट में डालकर तन मन धन से जरूरतमंदो की सेवा करता था। समय बीतता गया लोग उससे जुडते गये और...

  • आधुनिक दहेज

    आधुनिक दहेज

    राधे श्याम का एक बेटा था, वह उसे बहुत प्यार करता था, वह चाहता था, कि उसके बेटे की शादी बहुत धूम-धाम से हो, जैसे हर पिता का अरमान होता है! राधे श्याम का बेटा आज...

  • इक इश्क़ तारी है

    इक इश्क़ तारी है

    आकांक्षा पेंशन ऑफिस में अपने पापा के साथ पेंशन रिन्यूअल के लिए आई थी। पीछे मुड़कर देखा तो कुछ जाना पहचाना अनजान – सा चेहरा दिखा,साथ में कोई बुजुर्ग थीं ,शायद वो लोग भी पेंशन रिन्यूअल...

  • चच्चा

    चच्चा

    ट्रिन ट्रिन फोन की घंटी ने नींद खोली। शनिवार ऑफिस की छुट्टी, देर तक सो रहा था। सुबह सुबह किस का फोन आ गया। एक बार शंका हुई कहीं ऑफिस से बुलावा तो नही है? खैर...

  • रोटियाँ

    “चाची,रोटी क्या इतनी भी गोल हो सकती है,मानो कि पूनम का चाँद हो जैसे और वो भी बिना किसी दाग के। अगर तुम ऐसी ही रोटियाँ मुझे खिलाती रही तो मैं तो पूरे महीने का राशन...


  • कहानी –  नदी के लुटेरे

    कहानी – नदी के लुटेरे

    जब ज्येष्ठ की धूप उनके जिस्मों के अंदर छुपी महीन जीवनदायनी खून के साथ घुली पानी की बूंदों को सोखनी शुरू कर देती, तो वे बड़े खुश होते, इसलिए नहीं कि शरीर का भार खाली हो...

  • आखिरी कहानी (भाग 4/5)

    आखिरी कहानी (भाग 4/5)

    अध्याय 4 – औघड़ बाबा निरंजन का संकलन लगभग-लगभग पूरा हो गया था। उसे अपनी आखिरी कहानी की जितनी ही शिद्दत से तलाश थी, उतनी ही वह उससे दूर जा रही थी। काफी खोजने के बाद...

  • कहानी – बँटवारा

    कहानी – बँटवारा

    जय प्रकाश के परिवार में उसकी माँ पत्नी एयर एक छोटी सी प्यारी सी बिटिया रहते थे ! जय प्रकाश का परिवार एक माध्यम आर्थिक स्थिति के वर्ग में आता है जहाँ सभी के कुछ न...