Category : गीत/नवगीत

  • न्याय मांगती ट्विंकल शर्मा

    न्याय मांगती ट्विंकल शर्मा

    हम सबने लखनऊ दे दिया, दे दी दिल्ली-काशी मोदी भइया, रेपिस्टों को ,अब दिलवाओ फाँसी । तुमने केवल बहुमत मांगा, मगर तीन सौ पार दिये। राष्ट्र द्रोहियों के जितने दल, सात समुंदर पार किए। तुष्टिकरण को...


  • पानी बचाओ

    पानी बचाओ

    जहां में पानी का बहुत बड़ा  संकट है। लंबी लंबी कतारें  और एक पनघट है। कहींपर कीचड़ को छानकर पीते हैं तो, कहीं खारा पानी पीते हैं बड़ा झंझट है। इसको तुम सड़कों पर  ना बहाओ,...

  • गीत

    गीत

    रिस गये हैं प्राण, खाली देह की अंजुल छोड़कर तुम यूँ गये ज्यों सर्प की केंचुल.. आज हर संवेदना,सूना ह्रदय परित्यक्त करके हो चली मृतप्राय मनसा शक्ति को निश्शक्त करके डस रहा सब कामनायें, स्मृति-संकुल छोड़कर...

  • प्रणय गान

    प्रणय गान

    तेरे नयनों की भाषा ने,मुझको जीवन दान दिया ! सिसक-सिसक कर जीता था मैं,जीने का अरमान दिया !! मौसम अब रंगीन हुए हैं, दिशा आज मतवाली है उपवन महक रहा है देखो, खुशियों में तो माली...

  • ऐसी ईद मनाएं हम

    ऐसी ईद मनाएं हम

    ईद  मने हर दिन सबकी ही ,दीवाली हर रात रहे । मन की मन से प्रीत बावरी ,सरस्  सलिल जज्बात रहे । मकसद इक सद्भाव,शांति का ,आतंकी का अंत करो । दो हर दिल पैगाम मुहब्बत...

  • भोजपुरी गीत

    भोजपुरी गीत

    “भोजपुरी गीत” चल चली वोट देवे रीति बड़ पुरानी नीति संग प्रीति नौटंकी भई कहानी……. लागता न लूह, न शरम कौनो बाति के घूमताटें नेता लोग दिन अउर राति के केके देई वोट केकरा के गरिआईं...

  • गीत – नफरत

    गीत – नफरत

    चलो मिटायें नफरत दिल से , यही सच्चा प्रयास करें । सरस , सरल हो जाये जीवन ,ऐसी मन से आस करें । व्यर्थ दलित को निम्न जानकर,अहम हृदय पर क्यों थोपें जाति -पाति के भेद...

  • विरह के गीत

    विरह के गीत

    काली-काली हे बदरिया पिया से जा के क ह संदेशिया ऐसे में, सजन काहे हैं परदेशिया। कैसे कहू मैं काली बदरिया पिया के संदेश ना’ नाही कोई खबरिया काली काली बदरिया▪▪▪▪▪ जब जब हो, चमकत बिजूरिया...

  • गीत

    गीत

    हानि लाभ की गणना कर लें ; आ कर लें सब वारे न्यारे ! समय ! फेर दिन सुखद हमारे । पल भर मिलन ,मास भर पीड़ा । समय! रोक यह निर्मम क्रीड़ा । दोष सिद्ध...