गीत/नवगीत

काल करोना को सब मिलकर आज हरायें

शासन के संग अनुशासन को अस्त्र बनायेंकाल करोना को सब मिलकर आज हरायें है ऐसा वह कौन धुरंथर, जो ना हारारावण-कंस-से असुरों को,तुमने संहारादुश्मन क्या?तुम कालदेव से लड़ सकते होनचिकेता बन, यम से भी तुम भिड़ सकते होआज कालिया के सिर चढ़कर धूम मचायेंकाल करोना को सब मिलकर आज हरायें।1। तुम जीवन के गीत, अमरता […]

गीत/नवगीत

हार और जीत

जिनके थे , बेजान इरादें , वो बाजी फिर हार गए । जिनके था , संकल्प जीत का, वो जीते सब पार गए ।।१।। कहां से आती जीत हाथ में कहां से आती हार । खुद से आती जीत हाथ में खुद से आती हार ।।२।। जुनू नहीं था , जिनमें बिल्कुल , वो नखरे […]

गीत/नवगीत

कोरोना कोरोना जाओ भाग जाओ

कोरोना कोरोना जाओ भाग जाओ दाल तुम्हारी यहां न गलेगी भाग जाओ 1.क्यों आए हो ऐसी विपदा लेकर बोलो! अपना पूरा परिचय दे दो मुंह तो खोलो! अगर नहीं दम तुममें इतना भाग जाओ दाल तुम्हारी यहां न गलेगी भाग जाओ कोरोना कोरोना जाओ भाग जाओ दाल तुम्हारी यहां न गलेगी भाग जाओ 2.हाल जो […]

गीत/नवगीत

कोरोना कोरोना जाओ भाग जाओ

कोरोना कोरोना जाओ भाग जाओ दाल तुम्हारी यहां न गलेगी भाग जाओ 1.क्यों आए हो ऐसी विपदा लेकर बोलो! अपना पूरा परिचय दे दो मुंह तो खोलो! अगर नहीं दम तुममें इतना भाग जाओ दाल तुम्हारी यहां न गलेगी भाग जाओ कोरोना कोरोना जाओ भाग जाओ दाल तुम्हारी यहां न गलेगी भाग जाओ 2.हाल जो […]

गीत/नवगीत

गीत

प्यारा  भारत  एक  हमारा ,  ये दुनियाँ  को  बतलाये हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई मिलकर के हम दीप जलाये देश  पे  नित-दिन संकट बढ़ता  घोर निराशा छाती है मौत भी चुपके -चुपके अपनी ओर ये बढ़ती आती है इसलिए कहता  हूँ  सबसे  घोर तिमिर को दूर भगाये प्यारा  भारत  एक  हमारा , ये  दुनियाँ  को बतलाये […]

गीत/नवगीत

देखा मिसाल दुनिया ने

संकल्प, इच्छाशक्ति की राशि विशाल दुनिया ने एकता के हिंद की, देखा मिसाल दुनिया ने   विश्वास की परिधि ने हर मन को था घेरा हुआ लग रहा था रात में कि, जैसे सवेरा हुआ था हर तरफ प्रकाशमान दीप इतने जल उठे बंद सारी बत्तियां थीं पर न अंधेरा हुआ नौ मिनट में सदियों […]

गीत/नवगीत

देशभक्ति की ज्योत जगायी

अंधकार था जब जन-मन में, घोर तमस था सकल भुवन में तब मैंने भी रीत निभायी, देश-भक्ति की ज्योत जगायी! विषधर कुछ फुफकार रहे थे जब अपने भी हार रहे थेपूँछ तानकर काले बिच्छू डंक विषैला मार रहे थेदेश-राग के साध सुरों को, मैंने अपनी बीन बजायीतब मैंने भी रीत निभायी,देश-भक्ति की ज्योत जगायी! संकट […]

गीत/नवगीत

कितना बेबस है इंसान

देखो तुम्हारे संसार की हालत क्या होगाई भगवान कितना लाचार है ये इंसान कितना बेबस है इंसान कोरोना की महामारी से मानव जात की हुई तबाई घरों में रहकर ही, इस महामारी से करनी है लड़ाई मनुकुलवासी पर ये कैसा आया है ख़तरों का पहर नजाने इस ‘वैरस’ का, आज हवाओं में भी है ज़हर […]

गीत/नवगीत

हे ! राम तुम कहाँ हो ?

हे ! राम तुम कहाँ हो ? धरती के कण-कण में तुम परती के जन-मन में तुम क्षिति-जल-पावक में तुम विचरते गगन-वात में तुम। न्यायिक पंच परमेश्वर में तुम विवादों में तुम संवादों में तुम शांति में तुम अशांति में तुम सब धर्मों में तुम कर्मों में तुम। हे ! राम तुम कहाँ हो ? […]

गीत/नवगीत

आओ एक दीप जलाएं हम

देश ये पूरा साथ खड़ा है, ये दिखलाने की बारी आओ एक दीप जलाएं हम, है दीप जलाने की बारी अपने मन से, जीवन से , तम दूर भगाने की बारी आओ एक दीप जलाएं हम, है दीप जलाने की बारी   अपनी इच्छाशक्ति में उत्कर्ष दिखाना है हमको किया जो हमने कड़ा है वो […]