गीत/नवगीत

गीत – मधुमक्खी

जाना पड़ा एक दिन खजाना अपना छोड़ के क्या मिला मधुमक्खी तुझे कण कण जोड़ के उड़ती रही दूर-दूर पराग की खोज में शहद तेरा पीने वाले सोते रहे मौज में पाया क्या तूने दूर-दूर दौड़ के जाना पड़ा एक दिन खजाना अपना छोड़ के दे ना सकी रसा किसी को डंक ही चुभाती रही […]

गीत/नवगीत

गीत – तुम बहू कहां से लाओगे

अगर नहीं रहेंगी बेटियां ही, तो तुम बहू कहां से लाओगे एक पहिए से  नहीं चलती, यह गृहस्थी वाली गाड़ी भी जितनी चाहत है बेटा की, उतनी ही आवश्यक लाडी भी बेटियां दुनियां में ना आयेंगी, तो फिर वंश कैसे बढ़ाओगे अगर नहीं रहेंगी बेटियां ही, तो तुम बहू कहां से लाओगे सृष्टि का  आधार […]

गीत/नवगीत

हर युग में, मैं छली गई हूँ

काली, दुर्गा, सरस्वती नहीं हूँ, मैं साधारण सी नारी हूँ। हर युग में, मैं छली गई हूँ, प्रेम से कहकर प्यारी हूँ।। जिम्मेदारी, मुझ पर डालीं। काम सौंप दिया, कह घरवाली। अधिकार सब, रखे पुरूष ने, कर्तव्यों की, थमा दी, प्याली। संस्कृति का भी भार बहुत है, थामो तुम, मैं हारी हूँ। हर युग में, […]

गीत/नवगीत

पिता से है पहचान

नव जीवन पाया माता से,अरु पितु से पहचान । नहीं किताबों से मिलता,जो सीखा उनसे ज्ञान ।। माँ दुलार की नदी पिता के,सँग आमोद-प्रमोद, संस्कार का दीप जलाया,हुआ सत्य का बोध । क्षमा,दया के बीज भरे उर ,संघर्षों की खाद, नैतिक गुण के पुष्प खिलाकर,शूल हरे अवसाद । प्रश्न सभी हल करते धर कर ,अधरों […]

गीत/नवगीत

अरिदल जो देखे आँख उठा…..

मन में ज्वाला सी दहक उठे, औ अग्नि नयन से बरसे अरिदल जो देखे आँख उठा, निज प्राणों को फिर तरसे देशभक्ति की धार हृदय से, टप टप टप टप टपके, हिम प्रदेश में तना खड़ा है, पलक नहीं वह झपके, है शत्रु सामने कुटिल बड़ा, छल आयुध लेकर लपके, भारत माँ का लाल अड़ा […]

गीत/नवगीत

तेरी चाहत दूरी है

तेरे बिन, मैं रहा अधूरा, प्रेमी संग तू पूरी है। संग साथ की चाहत मेरी, तेरी चाहत दूरी है। प्रेम का तूने, राग अलापा। अकेलापन मुझको है व्यापा। षडयंत्रों को पूरा करने, कोर्ट में जाकर, किया स्यापा। प्राणों पर आघात किया, फिर कहती मजबूरी है। तेरे बिन, मैं रहा अधूरा, प्रेमी संग तू पूरी है।। […]

गीत/नवगीत

योग गीत- योग की महिमा ख़ास योग से हम सब चहकेंSSS

(अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून पर विशेष) मुरझाएं नहीं फूलों के सम हम सब महकेंSSS योग की महिमा ख़ास योग से हम सब चहकेंSSS मुरझाएं नहीं फूलों के सम हम सब महकेंSSS योग की महिमा ख़ास योग से हम सब चहकेंSSS 1.रोग निवारण करने वाला योग ही हैSSS जीवन सबल बनाने वाला योग ही हैSSS […]

गीत/नवगीत

योग गीत- हम योग-दीवाने हैं

(अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून पर विशेष) हम योग-दीवाने हैं हम योग-दीवाने हैं, दुनिया को दिखा देंगे हम योग की महिमा को, सारे जग को सिखा देंगे- संजीवनी बूटी बन, तन-मन को योग जोड़े हर रोग हटे इससे, हम सबको बता देंगे- कुदरत से हमने सीखा, हर ओर योग छाया हैं पेड़ नमन करते, हम […]

गीत/नवगीत

मधुर स्मृति

आज मैं तुम्हें न पा सका, इसलिए न गीत गा सका। बहार फूल तो खिले मगर, मिले उसे भ्रमर न हो‌ अगर, तो आश क्या कि फूल की उमर, हंसे नियति हिलोर में लहर। जोहता रहा तुम्हे सदा, उठी कसक न मैं भगा सका। लगी आज टकटकी उधर, चली गई थी रूठकर जिधर हुआ हताश […]

गीत/नवगीत

गीतिका छन्द – इक अपूर्ण क्षति

बोझ सीने में दबाकर,सब अकेले सह गए । कुछ कभी कहते किसी से ,खुद सिसकते रह गए । हाथ जीवन से छुड़ाया,मृत्यु को अपना लिया । हैं सभी हैरान तुमने, ये अचानक क्या किया ।। आस का हर बंध तोड़ा,डोर जीवन तोड़कर । जिंदगी सस्ती नहीं थी,जो गए हो छोड़कर। मुश्किलें हैं अंग जीवन का […]