Category : हाइकु/सेदोका

  • हायकू विधा = सत्रह वर्ण

    हायकू विधा = सत्रह वर्ण

    सत्रह वर्ण जापान का साहित्य हायकू विधा । =============== तीन पंक्तियाँ पाँच सात औ पाँच पूरित भाव । ================= भाव बसंती भारतीय त्रिवेणी गंगा जमुनी । शुभप्रभात मित्र अभिनन्दन माथे चंदन । डमरू ज्ञान पिरामिड त्रिवेणी...

  • हाइकु

    हाइकु

    हाइकु ••••••• निला गगन बना है प्रतिबिंब जल में फैला॥ • मनभावन सुहावन है दृश्य छटा निराली॥ • बसा शहर नदी के तट पर हैं आनंदित॥ • खड़ी है नाव शहर के पास में नदी किनारे॥...

  • जन्मदिन

    जन्मदिन

    जन्मदिन ••••••••••••• आपका सब, वर्तमान,भविष्य उज्ज्वल मय॥ • बिताये पल, जिन्दगी में हमेशा, खुशी पूर्वक॥ • जन्मोत्सव का, हार्दिक बधाई व, शुभकामना॥ @रमेश कुमार सिंह 10-10-2016


  • हाइकू

    हाइकू

    ​डूबता सूर्य स्वागत करे चाँद आ जा तू वर्ष ————– ​पकी फसलें रच दे इतिहास यादों के दिन. ​—————– ​वर्ष ही लाया खुशियों का तराना राग पुराना. ​————— ​ठण्ड की भेंट नए वर्ष का कोट पहने...



  • पांच हाइकु:-

    पांच हाइकु:-

    पांच हाइकु:- 01- वाणी है तीव्र श्रवणेन्द्रियां मौन समझे कौन। 02- कहती धरा गूंजता है आकाश वह बहरे। 03ः- कल्पना कोरी उड़ाती उनको है जड़ें छोड़ के। 04- लाभ के पद नये-नये खेलों से बनें दीमक।...

  • चंद हाइकु

    चंद हाइकु

    सूर्य का ताप लाजवाब लहर बेअसर सी   चालीस वा है नोट करें सफर दस दिन हैं   तुम तो जाओ हम घड़ी कांटे  है नूतन वर्ष   तुम तो जाओ हम घड़ी कांटे  है नूतन...

  • हाइकु

    हाइकु

    हाइकु 01ः- एक-दो-तीन ताड़ना है सहती मौन न तोड़े। 02ः- आरोप लगे अवैध व्यापार के हंसा गुलाब। 03ः- चरित्र हीन कांच सा विखरता हंसते सब। 04ः- शहर हंसा कांच टूटता देख रोया बुधुआ। 05ः- दानवता है...