Category : ग़ज़ल/गीतिका

  • गज़ल

    गज़ल

    याद गुज़रे ज़माने आ गए क्या फिर यादों के बादल छा गए क्या ===================== अक्स मेरा उभरा जब यकायक आईना देखकर शरमा गए क्या ===================== महफिल छोड़के जाने लगे हो मेरे आने से तुम घबरा गए...

  • पहले पत्थर हुआ होगा

    पहले पत्थर हुआ होगा

    पहले पत्थर हुआ होगा… पहले पत्थर हुआ होगा, फिर तराशा गया होगा। उसी के बाद लोगों ने खुदा जैसा कहा होगा।। लोग कहते हैं किस्मत में शोहरतें भर के वो लाया, मैं सोचता हूँ बैठा कि...

  • गज़ल

    गज़ल

    साथ पाया तो लगा बेकार चाहत खा गई बहकते से हो नशा सी सोच आदत खा गई| हक जमा ज़ाने सजावट में राहत ला गई फूल से मासूम बच्चों को भी गुर्बत खा गई| देश की...

  • गज़ल

    गज़ल

    जानता हूँ कि न आएगा पलट कर तू मैं एक मील का पत्थर हूँ और मुसाफिर तू मुझे यकीन है तुझको भी इश्क है मुझसे ये और बात है करता नहीं है जाहिर तू तुझसे मिल...

  • जागो हिन्दूस्तान!!

    जागो हिन्दूस्तान!!

    वक्त की पुकार !! चलो उठो,जागो मेरे प्यारो, अब है जान खतरे में । यहाँ जागे है अब शैतान , है हिन्दूस्थान खतरे मे ।। हमेशा मौन रहना ही, कभी होता नहीं अच्छा । उठे हथियार...

  • मदभरी अदाओं से मुझे सताया कर

    मदभरी अदाओं से मुझे सताया कर

    मुझे भर के अपनी निगाहों में सपने बनाया कर और मेरी नींदों को भी सतरंगी शमां दिखाया कर यकीं कर,तुम्हारे जिस्मों-जां पे बस मैं ही छा जाऊँगा कंदील की तरह मुझे कभी जलाया,कभी बुझाया कर हुश्न...


  • गजल

    गजल

    सजन तेरी याद हमे जीने न देती जीने ना देती हो , सजन तेरी……. जब से तेरी मै पहनू माँग मे सिंदूर जब से तेरी मै पहनू माथे पर बिंदी तब से हुई मै दीवानी सजन...