Category : ग़ज़ल/गीतिका

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    हाल अपना बता नहीं सकते दर्द दिल का सुना नहीं सकते पास कितनी भी चाहे दौलत हो कर्ज़ माँ का चुका नहीं सकते माँ के ही सामने झुकेगा सर सर कहीं भी झुका नही सकते। धूल...

  • गज़ल

    गज़ल

    मेरी तरह जो किसी बेवफा से तुम दिल को लगाओगे तुम भी तड़पोगे यूँ ही और तुम भी बहुत पछताओगे ============================== राह – ए – मुहब्बत पे चलना है काम बड़े जांबाजों का ओ डर-डर के...

  • नारी

    नारी

    नारी ममता माया कस बल , यह बात भुलाओगे कैसे नारी सृष्टि की ध्रुआ शक्ति , यह बात भुलाओगे कैसे | तन मन धन से अर्पित हो जो , तुममें साहस जाग्रत करती, अपना सर्वस्व लुटा...


  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    चिरागों को लहू से जब भी दीवाने जलाते हैं हवायें थरथरा उठती हैं तूफाँ काँप जाते हैं न सजदे में झुके न बोझ से दोहरे हुए हैं हम अदब की इस अदा को आप क्यों धोखा...

  • आस का पंछी

    आस का पंछी

    रहता है सबके मन में, ये आस का पंछी। उड़ता खुले गगन में ये आस का पंछी। जितनी बड़ी तमन्ना, उतनी बड़ी उड़ान, चला है मन मगन में ये आस का पंछी। बातों मैं जोश दिल...


  • बेटियाँ

    बेटियाँ

    बेटियाँ खो रहीं मधुरिम सरसती बोलियाँ | अश्क आँखों में सिसकती बेटियाँ | दर्द सहती उफ न करती ये सदा – बेटियाँ हैं दो कुलों की संधियाँ | वारती सर्वस्व अपना नेह वश – जीत कर...

  • गज़ल

    गज़ल

    तनहा होने का अहसास अब नहीं होता तू ही बता तू मेरे साथ कब नहीं होता ========================== मिले जितना भी उससे ज्यादा माँगता है ये क्यों इंसान कभी बे-तलब नहीं होता ========================== किसी को भी फिज़ूल...