Category : ग़ज़ल/गीतिका

  • ग़ज़ल – हारता है प्यार

    ग़ज़ल – हारता है प्यार

    पिस गई अब भावनायें , हारता है प्यार दब गई इंसानियत ही , स्वार्थ में हर बार आज माँ बापू हुए हैं , बालकों पे भार जन्मदाता आज इतना , क्यों हुआ लाचार काटना मत अब...

  • हर और प्यार सा है…

    हर और प्यार सा है…

    तुम जब से मिल गये हो, दिल में करार सा है। सब कुछ बदल गया है, हर और प्यार सा है॥ खुशबु अलग सी है कुछ, बदले से हैं नजारे। मौसम पे भी अलग सा, छाया...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    अनकहे अल्फाजों और झुकी पलकों में छुपी हुई कहानी कुछ खास तो है तकती हैं राहों को हर पल ये निगाहें तुम्हारा इंतजार मिलन की आस तो है गिला करो या शिकवा या फेर लो नजरें...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    अजनबी तुम रहो अजनबी की तरह चाहते हैं तुम्हें जिंदगी की तरह । टूट जाए वफा का भरम गर कभी रौशनी भी लगे तीरगी की तरह । क़िस्मतों में मेरी क्यों जुदाई लिखी प्यार हमने किया...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    मुखौटा इस ज़माने में कभी अच्छा नहीं लगता। हकीकत हो फ़साने में कभी अच्छा नहीं लगता।। छोड़ घर को गया था जो गुलामी दे दिया उसको। मुहाज़िर हो निशाने में कभी अच्छा नहीं लगता।। शरीफ़ो के...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    कौन ऐसा है जहां में कि जिसे कुछ गम नहीं मुझे तसल्ली देने वाले तेरा दुख भी कम नहीं खुद पे इतराने से पहले देख ले ये भी ज़रा है कौन सी दीवार जिसपे साया-ए-मातम नहीं...

  • साधना है….

    साधना है….

    आज मुझसे मेरा ही सामना है इसलिए मन थोडा अनमना है हर झगड़े की यही है एक जड़ सभी को एक दूसरे से  घृणा है इस हार को भी तुम जीत मानो दुश्मनों से भला क्या...

  • जो खुद है बेवफ़ा

    जो खुद है बेवफ़ा

    हमारे आशियानों में अपना घर रखेंगे, सच में वो आसमानों में पर रखेंगे? रख के मेरे कदमों के नीचे काँटे वो मेरे कंधे पे अपना सर रखेंगे कर के लहूलुहान मेरे जज़्बातों को अपने ही हाथों...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    कच्चे घरों में रिश्ते पक्के होते थे हों जैसे भी परिवार अच्छे होते थे॥ सीखते थे उम्र भर गुण बुजुर्गों से लिए दिल में दुलार बच्चे होते थे ॥ मिल-बाँट कर खाते थे आधी रोटी थाली...

  • गजल

    गजल

    अगर हम चाहते हैं, साफ सुथरा हो वतन अपना, तो रखिए साफ अपनी आदतें और पैरहन अपना। बकौल-ए-शेख़, जन्नत से नहीं बेहतर जगह कोई, अगर हमसे कोई पूछे तो, घर अपना, वतन अपना। ये तय है,...