अन्य बाल साहित्य

प्रदूषण हटाओ, पर्यावरण बचाओ

प्रिय बच्चो, सदा खुश रहो, आपके नाम हमारा यह पहला पत्र है. हमने आपको खुश रहने का आशीर्वाद दिया है, इससे आप सब बहुत खुश होगे और खुश होना भी चाहिए. पर एक बात याद रखने की है, कि खुश रहने के लिए स्वस्थ रहना आवश्यक है और स्वस्थ रहने के लिए शुद्ध पर्यावरण. पर्यावरण […]

अन्य बाल साहित्य

आओ सीखें

प्रिय बच्चो, आयुष्मान-बुद्धिमान-सेवामान, हमने आपको बहुत-बहुत प्यारे-से आशीर्वाद दिए हैं, आशा है आपके मन को भा गए होंगे. वैसे ये आशीर्वाद संस्कृत भाषा में हैं, इसलिए हम आपको इनके अर्थ बता देते हैं, ताकि आप आशीर्वाद का पूरा आनंद उठा सकें. आयुष्मान का अर्थ होता है, दीर्घायु यानी लंबी आयु होना. इस आशीर्वाद में लंबी […]

अन्य बाल साहित्य बालोपयोगी लेख

प्रदूषण हटाओ, पर्यावरण बचाओ

प्रिय बच्चो, सदा खुश रहो, आपके नाम हमारा यह पहला पत्र है. हमने आपको खुश रहने का आशीर्वाद दिया है, इससे आप सब बहुत खुश होगे और खुश होना भी चाहिए. पर एक बात याद रखने की है, कि खुश रहने के लिए स्वस्थ रहना आवश्यक है और स्वस्थ रहने के लिए शुद्ध पर्यावरण. पर्यावरण […]

अन्य बाल साहित्य बालोपयोगी लेख

फल-सब्जियां खाओ, चुस्ती-तंदुरुस्ती पाओ

प्यारे बच्चो, आयुष्मान-बुद्धिमान-सेवामान, आओ बच्चो आज आपको हम फल-सब्जियां खाने के फायदों के बारे में बताएं. सबसे पहले तो आप यह जान लें, कि स्वास्थ्य और आहार यानी भोजन का अटूट रिश्ता है. जैसा भोजन हम खाते हैं, वैसा ही हमारा स्वास्थ्य होता है. फलों और सब्जियों से विभिन्न प्रकार के विटामिन, खनिज और फाइटोकैमिकल्स […]

अन्य बाल साहित्य

इंद्रधनुष और उसके रंग

प्यारे बच्चो, आयुष्मान-बुद्धिमान-सेवामान, आज हम आपको इंद्रधनुष के बारे में बताने जा रहे हैं. इंद्रधनुष में सात रंग होते हैं, यह तो आप लोग जानते ही हैं. ये सात रंग हैं- बैंगनी नीला आसमानी हरा पीला नारंगी लाल इसे आप हिंदी में सूत्र रूप में ऐसे याद रख सकते हैं- “बैनीआहपीनाला” इसे आप अंग्रेजी में […]

अन्य बाल साहित्य

सवाल-जवाब- 3

प्यारे बच्चो, आयुष्मान-बुद्धिमान-सेवामान, हमें जब भी आपके जानने योग्य सामग्री मिलती है, हम पत्र के द्वारा आपके लिए प्रस्तुत करते हैं. आज जानकारी प्रस्तुत है भारत के इन 10 गांव के बारे में, जो शहरों से भी बेहतर हैं, कहीं आमदनी तो कहीं का रिवाज इन्हें बनाता है खास– साल 2011 की जनगणना के मुताबिक़ […]

अन्य बाल साहित्य

सवाल-जवाब- 2

प्यारे बच्चो, आयुष्मान-बुद्धिमान-सेवामान, हमें जब भी आपके जानने योग्य सामग्री मिलती है, हम पत्र के द्वारा आपके लिए प्रस्तुत करते हैं. आज फिर प्रस्तुत हैं नए सवाल और उनके जवाब- 1. भारत में पहली ट्रेन कब और कहां से चली थी? भारत में 16 अप्रैल 1853 को पहली यात्री ट्रेन बोरी बंदर (बॉम्बे) और ठाणे […]

अन्य बाल साहित्य बालोपयोगी लेख

सवाल-जवाब

प्यारे बच्चो, आयुष्मान-बुद्धिमान-सेवामान, बहुत दिनों से आपके साथ मुलाकात नहीं हुई. इसके पहले कि आप हमसे सवाल-जवाब आज हम आपसे सवाल-जवाब करते हैं. इस पत्र की विशेषता यह है, कि सवाल भी हमारे और जवाब भी हमारे. ये सवाल-जवाब आपके प्यारे चाचू सुदर्शन खन्ना ने लिख भेजे हैं. – सवाल: मोटर गाड़ियों से निकलने वाली […]

अन्य बाल साहित्य

नाटिका – ‘वी मेक’

“नानू, हमें नए खिलौने दिलवाइए.” नाती अथर्व ने कार से उतरते ही दौड़कर अबीर जी से लिपटते हुए कहा. “दिलाएंगे यार, आते ही फरमाइश शुरु कर दी, पहले नमस्ते तो कर!” “सॉरी नानू, गलती हो गई.” अथर्व ने अबीर जी के चरण स्पर्श करते हुए कहा. “आयुष्मान, बुद्धिमान, सेवामान भव.” नानू ने आशीर्वाद देते हुए […]

अन्य बाल साहित्य

बाल पहेलियाँ

1 अंत हटे तो काग बनू मैं, मध्य हटे तो काज । प्रथम हटे तो गज कहलाऊँ. नाम बताओ आज । 2 प्रथम हटे जंगल बन जाऊं , मध्य हटे तो सान अंत हटे तो साव कहाऊं, कोयल गाये गान। 3 अंत हटे तो कूल बनू मैं, प्रथम हटे तो लर , ठंडी ठंडी हवा […]