Category : बाल कहानी


  • खुशी के आंसू

    खुशी के आंसू

    कोमल एक गरीब मां-बाप का बेटा था किसी तरह मेहनत मजदूरी करके सभी का गुजारा चलता था। कभी-कभी काम न मिलने पर चूल्हा एक बार ही जलता। उनके पास इतने पैसे नहीं हो पाते कि कोमल...

  • क्लास में सफाई

    क्लास में सफाई

    स्कूल में आते ही बच्चों का ध्यान मुख्य पटल पर पड़ा जिसपर लिखा हुआ था इस माह से स्कूल प्रबन्धक कमिटी ने तय किया है कि स्वछता अभियान के तहत जो क्लास सबसे ज्यादा साफ़ मिलेगी...

  • सपनों की दुनिया

    सपनों की दुनिया

    आशु! आशु! माँ कब से आवाज़े लगा रही थी, पर आशु सपनों की दुनिया में ही खोया हुआ था। आशु तो बस सोते जागते सपनों में ही खोया रहता था, और बातों के हवाई किले बनाता...


  • ऐसी हो दिवाली

    ऐसी हो दिवाली

    मां! मैने अभी खबरों में सुना कैसे हमारे देश को पड़ोसी देशों से खतरा है। मां, सच में हमारे देश को बहुत मुशकिलों का सामना करना पड़ रहा है। काश ! मां मैं जल्दी बड़ा हो...



  • अंकिता की बुद्धिमानी

    अंकिता की बुद्धिमानी

    अंकिता षष्ठ कक्षा की होनहार छात्रो में से एक थी| सभी शिक्षको तथा सहपाठियों से घुलमिल कर  रहा करती थी इसलियें सभी शिक्षकों और सहपाठियों की चहेती बनी रहती थी| विद्यालय मे वार्षिक समारोह होने के...

  • संकल्प की आभा का प्रताप

    संकल्प की आभा का प्रताप

    असम के एक छोटे-से गांव में उस छोटे-से बच्चे का निवास था. गांव भले ही छोटा हो पर, जिसको कुछ महान काम करना होता है उसके लिए जगह के छोटे-बड़े होने के कोई खास मायने नहीं...