Category : बाल कहानी

  • रोटी कौन खाएगा?

    रोटी कौन खाएगा?

    छोटी-सी मुर्गी थी लाल, बतख सफेद थी खूब कमाल, चितकबरी बिल्ली शैतान, काला कुत्ता बड़ा बेईमान. चारों साथ-साथ रहते थे, कभी न आपस में लड़ते थे, मुर्गी तो करती थी काम, बाकी सब करते आराम. एक...

  • जुड़वां भाई

    जुड़वां भाई

    छोटू मोटू जुड़वां भाई, आपस में करते न लड़ाई, छोटू एक इंच छोटा था, मोटू तीस ग्राम था भारी. दोनों में कुछ भेद न दिखता, इससे मुश्किल भारी होती, एक उड़ाता दूध-मलाई, खूब मार दूजे को...

  • खरगोश ने पूंछ बदल ली

    खरगोश ने पूंछ बदल ली

    छोटा-सा खरगोश निताशा, रहता था छोटे बिल में, अपनी छोटी पूंछ देखकर, बड़ा दुखी होता दिल में. एक लोमड़ी उसने देखी, उसकी लंबी पूंछ निराली, बोला, ”मौसी, पूंछ बदल लो, सचमुच यह तो बहुत निराली.” पूंछ...

  • चुंबक के गुण

    चुंबक के गुण

    नन्ही माशा रोज सवेरे, ठीक समय पर शाला जाती, बड़े ध्यान से पाठ याद कर, सीधे घर को आया करती. ठीक जगह पर बस्ता रखकर, खुद ही कपड़े बदला करती, खाना खाती सही ढंग से, फिर...


  • *वाणी पर संयम*

    *वाणी पर संयम*

    उस दिन देवम की कक्षा में टीचर पढ़ा रहीं थीं, कोई गम्भीर विषय चल रहा था। लेकिन पीछे दो छात्र आपस में बात करने में इतने तल्लीन थे कि वे भूल ही गये कि वे कक्षा...

  • धन्यवाद !

    धन्यवाद !

    समीर भाग कर दादाजी की गोद में आकर बैठ गया और बड़ी मासूमियत से कहने लगा दादा जी अंकित है ना.. मेरा दोस्त बहुत मज़े करता है उसकी किस्मत कितनी अच्छी है वो अभी  सिंगापुर से...


  • छुटकी !

    छुटकी !

    शोभा अपनी सास के साथ सुबह से कन्या पूजन की तैयारी में लगी थी। सब कुछ बन कर तैयार था, जल्दी से कन्याओं को घर पर बुलाने के लिए सासु माँ ने अपने पोते बंटी को...

  • *फूल नहीं तोड़ेंगे हम*

    *फूल नहीं तोड़ेंगे हम*

      14 नवम्बर, बाल दिवस, बच्चों के प्यारे चाचा नेहरू का जन्म-दिवस, देवम के स्कूल में बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है। सभी छात्र बड़े उत्साह और उमंग के साथ इस दिवस को मनाते हैं।...