Category : शिशुगीत

  • मेरा खिलौना

    मेरा खिलौना

    मुझको कहते बाल सलोना, मैं अपनी ममी का खिलौना, मुझको भातीं चीजें कितनी, सबसे प्यारा मेरा खिलौना. सबसे पहले मुझको भाया, झन-झन झुंझने वाला खिलौना, फिर फिरकी-लट्टू-गुब्बारे, बैट-बॉल था मेरा खिलौना. टमटम गाड़ी-कार-प्रैम का, भेंट में...

  • सबसे प्यारी मां

    सबसे प्यारी मां

    (बाल काव्य सुमन संग्रह से) माता मेरी सबसे प्यारी, सारे जग से है वह न्यारी, दुनिया में प्यारी मां जैसा, कोई नहीं होता उपकारी. कई देवता मना-मनाकर, मां बालक को पाती है, आंख की पुतली से...

  • साहसी बकरा

    साहसी बकरा

    चंचल नटखट भोलू बकरा, निर्भय फिरता-कूदता था, उछल-कूद करता था दिन भर, नहीं किसी से डरता था. एक बार पिकनिक करने को, जंगल में जाने की ठानी, मना किया था सब मित्रों ने, बात किसी की...

  • सूरज दादा

    सूरज दादा

    ”सूरज दादा, सूरज दादा, कहो चमकते कैसे हो? युगों-युगों से पलक न झपकी, फिर भी दमकते कैसे हो? कौन-सी गैस से मिले रोशनी, कौन-से पंप से देते हो? कौन तुम्हें ईंधन देता है, कैसे तुम ले...


  • ईमानदारी का पुरस्कार

    ईमानदारी का पुरस्कार

    रामू नाम का लकड़हारा, नदी किनारे पर रहता था, रोज सवेरे जल्दी उठकर, जंगल को जाया करता था. लकड़ियां लाकर रोज शहर में, एक धनी को बेचा करता, उनसे जितने पैसे मिलते, रूखा-सूखा खाया करता. एक...

  • कीटों की कहानी: उनकी ज़ुबानी

    कीटों की कहानी: उनकी ज़ुबानी

    मलेरिया का वाहक हूं, आपके खून का ग्राहक हूं, ज्वर फैलाना मेरा काम, मच्छरमल है मेरा नाम, सबको ही है मेरा सलाम. जहां कहीं हो कूड़ा-कचरा, निर्भय आती-जाती हूं, मैं मक्खी हूं रोगों की जड़, पेचिश-हैजा लाती हूं,...

  • नन्हा टिंकू

    नन्हा टिंकू

    नन्हा टिंकू गया बजार, लेकर आया केले चार. केला एक दिया ममी को, केले रह गए बाकी तीन, बोला, ”कौन बजाए बीन?” केला एक दिया पापा को, केले रह गए बाकी दो, बोला, ”कौन रहा है...

  • शेखचिल्ली के सपने

    शेखचिल्ली के सपने

    एक सेठ का नौकर मूढ़-सा, शेखचिल्ली था उसका नाम, चलते-फिरते, जागते-ऊंघते, सपने लेना उसका काम. एक बार बोला मालिक से, ”मां की याद सताती है, मुझको ऐसा लगता रहता, मां भी मुझे बुलाती है”. मालिक ने...

  • जैसी संगति बैठिए

    जैसी संगति बैठिए

    मोहन एक नेक लड़का था, पढ़ने-लिखने में होशियार, सब करते तारीफ, बड़े भी, करते उसको बेहद प्यार. उसके सब साथी अच्छे थे, करते जन-सेवा का काम, पढ़-लिखकर और खेल-कूदकर, करते थे वो खूब आराम. एक बार...