Category : शिशुगीत

  • दादी का जन्मदिन

    दादी का जन्मदिन

    दादी-दादी, प्यारी दादी, आज जन्मदिन आपका दादी, आप भले ही भूल भी जाओ, हम तो नहीं भूले हैं दादी. कहां चलोगी घूमने दादी, हम सब साथ चलेंगे दादी, आता रहे जन्मदिन यों ही, ढेरों बधाई प्यारी...

  • मेरी टीचर सबसे प्यारी

    मेरी टीचर सबसे प्यारी

    मेरी टीचर सबसे प्यारी, प्यार बहुत मुझे करती है, मेरे मन को सुमन बनाने,  की हर कोशिश करती है. नई-नई बातें सिखलाती, ज्ञान-भंडारे भरती है, मेरे मन के हर संशय को, अपने ज्ञान से हरती है....


  • राखी बांधने आई हूं

    राखी बांधने आई हूं

    मैं तेरी छोटी-सी बहिना, राखी बांधने आई हूं, रेशम-डोर न इसे समझना, प्यार बांधने आई हूं. बड़े जतन से मैंने बनाई, भैय्या राखी प्यारी-सी, जल्दी से राखी बंधवा लो, कहती बहिन दुलारी-सी. हरा-भरा हो प्यार हमारा,...

  • बापू

    बापू

    बाल काव्य सुमन संग्रह से बाल गीत 10.बापू स्वतंत्रता के अथक पुजारी, विश्ववंद्य हे प्यारे बापू, सत्य-अहिंसा-प्रेम-सरलता, जग को सिखाने आए बापू. साक्षरता की जगमग ज्योति, जग में जलाने आए बापू, मानवता की ध्वजा-पताका, फहराने आए...

  • प्लास्टिक से आजादी

    प्लास्टिक से आजादी

    हम भारत के जागरुक बच्चे, चाहते प्लास्टिक से आजादी, प्लास्टिक के उपयोग से बोलो, करें क्यों अपनी बरबादी? स्वतंत्रता दिवस मनाना मन से,  प्लास्टिक के झंडे क्यों लेंगे? प्लास्टिक का उपयोग न करने का, संकल्प आज...

  • मेरा खिलौना

    मेरा खिलौना

    मुझको कहते बाल सलोना, मैं अपनी ममी का खिलौना, मुझको भातीं चीजें कितनी, सबसे प्यारा मेरा खिलौना. सबसे पहले मुझको भाया, झन-झन झुंझने वाला खिलौना, फिर फिरकी-लट्टू-गुब्बारे, बैट-बॉल था मेरा खिलौना. टमटम गाड़ी-कार-प्रैम का, भेंट में...

  • सबसे प्यारी मां

    सबसे प्यारी मां

    (बाल काव्य सुमन संग्रह से) माता मेरी सबसे प्यारी, सारे जग से है वह न्यारी, दुनिया में प्यारी मां जैसा, कोई नहीं होता उपकारी. कई देवता मना-मनाकर, मां बालक को पाती है, आंख की पुतली से...

  • साहसी बकरा

    साहसी बकरा

    चंचल नटखट भोलू बकरा, निर्भय फिरता-कूदता था, उछल-कूद करता था दिन भर, नहीं किसी से डरता था. एक बार पिकनिक करने को, जंगल में जाने की ठानी, मना किया था सब मित्रों ने, बात किसी की...

  • सूरज दादा

    सूरज दादा

    ”सूरज दादा, सूरज दादा, कहो चमकते कैसे हो? युगों-युगों से पलक न झपकी, फिर भी दमकते कैसे हो? कौन-सी गैस से मिले रोशनी, कौन-से पंप से देते हो? कौन तुम्हें ईंधन देता है, कैसे तुम ले...