Category : बाल साहित्य


  • जंगल की आग

    जंगल की आग

    एक दिन आग लगी जंगल में, भगदड़ मच गई यारों। कोई यहाँ कोई वहाँ था भागा, आफत आ गई प्यारों। एक चिड़िया भर लाई, चोंच में बड़ा ज़रा सा पानी। हाथी भालू हंसने लगे, हुई शेर...

  • नमकीन पसीना

    नमकीन पसीना

    चले मेला आओ भालू भाई पहनो सूट, बूट और टाई देखो बाहर शीत लहर है ठण्डी हवा चारो पहर है आप हो मेले के महाराजा खेल होगा और बजेगा बाजा आओ आओ जल्दी आओ मेहनत के...


  • जिज्ञासा

    जिज्ञासा

    चीं चीं करती चिड़िया तुम जा रहे हो किधर उड़कर, बताके जाओ मुझे यह बात क्षणभर मेरे पास रुक कर। समय नहीं है अभी मेरे पास लाना है मुझे तिनका चुनकर, बना लूं पहले घोंसला अपना...

  • बाल गीत – मां

    बाल गीत – मां

    मां ने हमको जन्म दिया है, पाल-पोसकर बड़ा किया है, देकर सद्गुण मां ने हम पर, सच में बड़ा उपकार किया है. मां ममता का सागर होती, अंबर-सा विस्तार मां होती, उसकी महिमा कही न जाए,...




  • बाल गीत – क्रिसमस

    बाल गीत – क्रिसमस

    सांताक्लॉज़ जी आए हैं,क्रिसमस-तोहफे लाए हैं,किसी को गुड़िया, किसी को गुड्डा,टॉफी देने आए हैं.चुनलो अपना एक सितारा,चम-चम-चम जो चमकेगा,हैप्पी क्रिसमस, मैरी क्रिसमस,कहकर दम-दम दमकेगा.