Category : लेख

  • *गीतिका*

    *गीतिका*

    इतना न हमे याद आया करो ! हर जगह न यूं सताया करो !! रोज होती है लड़ाई हमसे ! प्यार फिर न जताया करो !! घड़ी दो घड़ी जहन से मेरे ! दूर कही चले...

  • गीतिका

    गीतिका

    गीतिका जब से साथ लेखन प्रेमियों का पाया, बुद्धिजीवी, साहित्यकारो से सीख पाया | रोज नये विषय नये विचार सा व्यबहार, मन लिखने को रहता बहुत उकसाया | रचना का मापदंड सही रूप समझकर, तभी तो...

  • अस्तित्व

    अस्तित्व

    अस्तित्व आँधियों के वेग से दिन रात भागना अपने प्रतिरूप अस्तित्व रिश्ते झाकना. कुछ से तनाव ले कुछ मन बना नाता यूँ ही जीवन लगा हर क्षण चला जाता. हाड़ -मास गात हूँ तूफानों में बढ़ना...

  • मदर्स वैक्स म्यूजियम

    मदर्स वैक्स म्यूजियम

    दफ्तर के कार्य से अक्सर कोलकता जाता रहता हूं। दफ्तर के सहयोगी ने मदर्स वैक्स म्यूजियम की तारीफ करके थोड़ा समय निकाल कर देखने को कहा। एक मुद्दत बीत गई किसी संग्रहालय को देखे हुए। टूर...


  • कब रुकेंगी ट्रेन दुर्घटनाएं!

    कब रुकेंगी ट्रेन दुर्घटनाएं!

    सोशल मीडिया पर रविवार को मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसे के बाद तेजी से फैली दो रेलवे कर्मचारियों की टेलीफोन पर हुई बातचीत में शनिवार को उत्तर प्रदेश में हुई ट्रेन दुर्घटना में ‘लापरवाही’ के संकेत मिले हैं....

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    1222 1222 122 नए चेहरों की कुछ दरकार है क्या । बदलनी अब तुम्हें सरकार है क्या ।। बड़ी मुश्किल से रोजी मिल सकी है । किया तुमने कोई उपकार है क्या ।। सुना मासूम की...