इतिहास

रैगिंग से हमसफर तक

रैगिंग से हमसफर तक कॉलेज का पहला दिन था… कॉलेज के गेट पर पहुंचते ही दिल अन्दर से धक-धक कर रहा था, मानो दिल बाहर ही आ जाएगा, यूनिवर्सिटी मे चारों तरफ लड़के अपनी गाड़ियों से आ …जा रहे थे। धीरे-धीरे कालेज के अन्दर की तरफ हम लोगों ने कदम बढाया, तभी एक लड़के को […]

इतिहास

रैगिंग से हमसफर तक

रैगिंग से हमसफर तक कॉलेज का पहला दिन था… कॉलेज के गेट पर पहुंचते ही दिल अन्दर से धक-धक कर रहा था, मानो दिल बाहर ही आ जाएगा, यूनिवर्सिटी मे चारों तरफ लड़के अपनी गाड़ियों से आ …जा रहे थे। धीरे-धीरे कालेज के अन्दर की तरफ हम लोगों ने कदम बढाया, तभी एक लड़के को […]

अन्य लेख

बुरी है आग पेट की

छात्र या छात्राएँ; जहाँ विद्यालय में सामान्यतः 6 घंटे रहते हैं, जबकि  घर पर 18 घंटे रहते हैं । यह कैसी दोहरी नीति है, 6 घंटे वाले को दोषी ठहराते हैं, किन्तु 18 घंटे ‘अभिभावक’ के पास रहने पर भी यानी साक्षर अभिभावक को भी दोषी नहीं मानते हैं! ऐसे में शिक्षकों में हीनभावना भरती […]

लेख सामाजिक

दिल्ली दंगा

    पिछले दिनों भारत की राजधानी दिल्ली के कुछ हिस्से धूँ-धूँ करके जलने लगे। चारों ओर उठता धुआँ, मासूमों की चीख-पुकार, अपने घर में क़ैद हो जाना, बाहर निकलते हुए काँप जाना। चारों ओर से गोली-बम की आवाज़ और चीखें धड़कनें बढ़ा रहीं थीँ। कुछ तो अपनी जान बचाने की ख़ातिर नाले के नीचे […]

स्वास्थ्य

चिंताजनक है डेंगू का बढ़ता प्रकोप

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के प्रकोप से हम अभी तक उबरे भी नहीं हैं और विशेषज्ञ कोरोना की तीसरी लहर के खतरे को लेकर भी बार-बार चेता रहे हैं, ऐसे विकट दौर में डेंगू ने जो कोहराम मचाना शुरू किया है, उससे चिंता बढ़ने लगी है। इन दिनों उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, […]

सामाजिक

श्राद्ध की परंपरा को निभाते हुए इंसान: वर्तमान परिवेश में समीक्षा

कटु मगर सत्य है, सुनना चाहें तो सुन लीजिए और पढ़कर कुछ हृदय में जाग जाए तो सोचिएगा कि श्राद्ध का अर्थ क्या है ? अपने घर-परिवार के पितरों को प्रतिवर्ष श्रध्द्धांजली देना ! उनको ईश की तरह नमन कर ये बतलाना कि आप सब की कमी हमें बहुत खलती है या आपके आशीर्वाद से […]

सामाजिक

घातक साबित होती डेंगू के प्रकोप की अनदेखी

उत्तर प्रदेश से लेकर बिहार, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र इत्यादि कई राज्य इस समय वायरल बुखार और डेंगू के कहर से जूझ रहे हैं। उत्तर प्रदेश में तो रहस्यमयी मानी जा रही बीमारी के अधिकांश मामलों में बहुत से मरीजों में डेंगू की पुष्टि भी हुई है। डेंगू और वायरल बुखार से विभिन्न राज्यों में सैंकड़ों […]

सामाजिक

स्त्री तन

कविताओं में नक्काशी सा तराशा गया स्त्री का तन हकीकत की धरातल पर वहशीपन की पहली पसंद बन जाता है। कहाँ उमा दुर्गा का दर्शन करती है मर्द की आँखें औरत में, उन्मादित होते आँखों की पुतली पल्लू को चीरकर आरपार बिंध जाती है। लज्जित सी समेटते खुद को बांध लेती है दायरे में, तकती […]

सामाजिक

बच्चों में संस्कारों का बीजारोपण अवश्य करें

संस्कार वह क्रिया है जिसके संपन्न होने पर कोई भी योग्य बन जाता है । जिस प्रकार एक पौधे को खाद -पानी की अति आवश्यकता होती है, ठीक वैसे ही एक बच्चे के लिए संस्कारों की अति आवश्यकता होती है । भारतीय संस्कृति में संस्कारों पर बहुत अधिक बल दिया गया है । मनुष्य के […]

सामाजिक

संजा : प्रेम, एकता और सामंजस्य  का सृजन करती   

लोककलाओं की संस्थाए में बड़ी संख्या में लड़कियाँ एकत्रित होकर संजा बनाती है। छत्तीसगढ़ ,बुंदेलखंड क्षेत्र में लड़किया झाड़ की पत्तियाँ को विशेषकर नीबू को ओढ़नी उड़ाकर फूलों से सहेजने की प्रक्रिया को वे मामुलिया बोलते है पर्व मनाते है।लोक गीतों और कलाकृतियों को बचाने में कई स्थानों पर संजा उत्सव संस्थाए  पुनीत और प्रेरणादायी कार्य […]