पर्यावरण

कोविड -19 और सकारात्मक प्राकृतिक परिवर्तन

कोविड -19 के असामान्य प्रकोप के कारण, चीन, ताइवान, इटली, अमेरिका, फ्रांस, स्पेन, तुर्की, ईरान, जर्मनी, S कोरिया, ब्रिटेन, भारत, ऑस्ट्रेलिया और प्रभावित देशों में लगभग हर बड़े और छोटे शहर और गांव में, कुछ हफ्तों से लेकर कुछ महीनों तक की लंबी अवधि के लिए आंशिक या कुल लॉकडाउन का सामना करना पड़ा। वायु […]

पर्यावरण

ईश्वर के रूप मनोकामनाओं का आशीर्वाद देना ही पेड का कर्तव्य है

वृक्षों को प्राचीन समय से लोग पूजते आ रहे है ,इसके पीछे भीषण गर्मी मे ठंडी सुखद छाँव प्राप्त होना, शुद्द हवा ,उदर- पोषण, सांसारिक जीवन के अंतिम पड़ाव में दाहसंस्कार में उपयोगी बनना ,पृथ्वी के तापमान को कम व् वर्षा के बादलों को अपनी और आकर्षित कर वर्षा कराना ( उदहारण -चेरापूंजी ) ,दैनिक […]

पर्यावरण

जैविक (ऑर्गेनिक) उत्पादों का भविष्य

ऑर्गेनिक फार्मिंग में पौधों, फसलों की खेती और प्राकृतिक तरीके से पशुओं को पालना शामिल है। यह एक कृषि तकनीक है जो सिंथेटिक आधारित उर्वरकों और कीटनाशकों के उपयोग के बिना फसलों को उगाने और पोषण के लिए जैविक सामग्री का उपयोग करती है। यह मुख्य रूप से इस तरह से भूमि पर खेती करने […]

पर्यावरण

दुनिया का सबसे बड़ा स्तनधारी जीव ‘ह्वेल’ विलुप्ति के कगार पर

प्रकृति कितनी बड़ी नियंता है जो अपने अनथक और सतत रूप से करोड़ों सालों से इस धरती रूपी प्रयोगशाला में स्थान, पर्यावरण और जलवायु के अनुसार उसने इसके लगभग हर भाग में करोड़ो-अरबों तरह के विभिन्न रंग-रूपों वाले अतिसूक्ष्म बैक्टीरिया से लेकर इस पृथ्वी के अब तक की सबसे विशाल जीव ह्वेल जैसे बड़े जीव […]

पर्यावरण

ग्रीन पटाखा और ऐतिहासिक विरासत !

यह ‘ग्रीन पटाखा’ क्या है, कोई बताएंगे! माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने दीपावली के सुअवसर पर पटाखे फोड़ने का समय रात 8 बजे से 10 बजे तक रखने के अपने पहले के आदेश में बदलाव किया है। मा. कोर्ट ने कहा है, तमिलनाडु और पुद्दुचेरी के लिए समय बदला जाएगा, लेकिन इसकी अवधि दो घंटे से […]

पर्यावरण

पर्यावरण बचाने की हक़ीक़त

अक्सर हमारे देश में पर्यावरण बचाने और प्रदूषण से मुक्ति के लिए वृहद वृक्षारोपण का नाटक करने में, नदियों को प्रदूषणमुक्त करने में अरबो-खरबों रूपयों का वारा-न्यारा कर दिया जाता है, जबकि वास्तविकता यह है कि उसमें होता कुछ नहीं है, वृक्षारोपण में लगाए गये पौधों में से 98 प्रतिशत तक शिशु पौधे पानी और […]

पर्यावरण

जल की वर्वादी से बचें 

तमाम तरह के प्रचार प्रसार और जानकारियों के वावजूद पेयजल जल की वर्वादी वदस्तूर जारी है।इसी को कम करने के उद्देश्य से सेंट्रल ग्राउंड वाटर आॅथरिटी ने अब इसको दंडात्मक कार्रवाई के दायरे में लाने का फैसला किया है। इसके तहत कोई संस्था या व्यक्ति भू जल स्त्रोत या पीने वाले पानी की वर्वादी करते पकड़ा […]

पर्यावरण

अंतरिक्ष में भी प्रदूषण !

मानव ने इस धरती के सभी जगहों यथा स्थल, जल, वायु, आकाश, भूगर्भ, नदियों, पहाड़ों, समुद्रों आदि सभी जगह भयंकर प्रदूषण करके इस पृथ्वी के सम्पूर्ण वातावरण, पर्यावरण, प्रकृति के सभी तरह के जीवों जैसे, जलचरों, नभचरों, थलचरों आदि सभी जीवधारियों, जिसमें मनुष्य स्वयं भी शामिल है, के अस्तित्व पर संकट खड़ा कर लिया है। […]

पर्यावरण

कोरोना से आमेर महल के गजराजों का जीवन गंभीर संकट में !

कोरोना वायरस मानवप्रजाति पर हमला तो किए ही हैं,अभी एक बहुत ही दुःखद और क्षुब्ध कर देनेवाली खबर जयपुर के आमेर किले से आई है,कि वहाँ कोरोनाजनित संक्रमण से आई पर्यटन में मंदी की वजह से वहाँ आनेवाले पर्यटकों में भारी कमी आई है,वहाँ जहाँ पहले देश-विदेश से प्रतिवर्ष लाखों पर्यटक आ जाते थे,जिससे वहाँ […]

पर्यावरण

राष्ट्रीय जलजीव : गांगेय डाल्फिन

*राष्ट्रीय जलजीव:गांगेय डाल्फिन* भारत सरकार ने सन 2005 में गांगेय डाल्फिन को भारतीय गणराज्य का राष्ट्रीय जलजीव घोषित किया । गांगेय डाल्फिन दक्षिण पूर्व एशिया की नदियों मे पायी जाने वाली डाल्फिन की दो प्रजातियों में से एक है ।इसकी दूसरी प्रजाति को सिंधु डाल्फिन कहते हैं ,सिंधु डाल्फिन मुख्यतया पाकिस्तान की सिंधु एवं इसकी […]