स्वास्थ्य

एनीमा

यह आयुर्वेद द्वारा बतायी गयी वस्ति क्रिया का आधुनिक और सरल रूप है। यह प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति की प्रमुखतम क्रियाओं में शामिल है। इसका उद्देश्य है बड़ी आँतों की सफाई करना, क्योंकि बड़ी आँतों में बहुत सा मल एकत्र होकर सड़ता रहता है, जो अपने आप नहीं निकलता। उसको गुदा में पानी चढ़ाकर और उसमें […]

स्वास्थ्य

खुश होना और खुश रहना इतना कठिन तो नहीं।

“ख्वाहिश सचमुच कितने बेसिर-पैर के हैं होते कोई जूते को रोता है ,किसी के पैर नहीं होते। ” आज की पीढ़ी जब भी अपनी तुलना अपने पूर्वजों से करती है तो उनको ज्यादा खुश और दीर्घायु पाती है और स्वयं को अवसाद से ग्रस्त और जिम्मेदारियों के बोझ तले दबा हुआ। हालाँकि ऐसा बिलकुल भी […]

स्वास्थ्य

चीनी वायरस, कितना ख़तरनाक ?

वैज्ञानिकों के अनुसार, प्रकृति ने जिस जीव का जो भोजन निर्धारित किया है, वही उसे खाना चाहिए, मसलन कुछ सालों पूर्व ब्रिटेन में, गाय को अधिक मांस के लिए, उन्हें मांस फैक्ट्रियों में बचे-खुचे मांस को बारीक पीसकर, उनके चारों में मिलाकर, खिलाने से, उनको एक मानसिक बिमारी का रोग हुआ था, इस प्रकार की […]

स्वास्थ्य

सभी बीमारियों की माता है कब्ज

प्राकृतिक चिकित्सा का मानना है कि आकस्मिक दुर्घटनाओं को छोड़कर सभी रोगों की माता पेट की खराबी कब्ज है। इसमें मलनिष्कासक अंग कमजोर हो जाने के कारण शरीर से मल पूरी तरह नहीं निकलता और आँतों में चिपककर एकत्र होता रहता है। अधिक दिनों तक पड़े रहने से वह सड़ता रहता है और तरह-तरह की […]

स्वास्थ्य

शीशम की पत्तियों से बनी दवा टूटी हड्डियों के लिए बनी ‘संजीवनी ‘

आज के अधिकतर समाचार पत्रों ने लखनऊ स्थित सेन्ट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीट्यूट के भारतीय वैज्ञानिकों की टूटी हड्डियों को जोड़ने की एक बेजोड़ दवा अविष्कृत करने का एक सुखद समाचार प्रकाशित किए हैं। इन वैज्ञानिकों ने इमारती लकड़ी के मुख्य श्रोत शीशम {डलबर्जिया सिस्सू }नामक पेड़ की पत्तियों में उपस्थित कुछ विशेष औषधीय तत्व पॉलीफिनाइल […]

स्वास्थ्य

मिट्टी की पट्टी

यह प्राकृतिक चिकित्सा की सबसे प्रमुख क्रिया है। मैं लिख चुका हूँ कि प्राकृतिक चिकित्सा का मानना है कि आकस्मिक दुर्घटनाओं को छोड़कर सभी बीमारियों की माता पेट की खराबी कब्ज है। कब्ज पुराना पड़ जाने पर आँतों में मल चिपककर सड़ता रहता है और शरीर में विकार पैदा करता है, जिससे अनेक प्रकार की […]

स्वास्थ्य

प्राकृतिक चिकित्सा क्या है?

हमारा शरीर पाँच प्रमुख तत्वों से बना है- ‘क्षिति, जल, पावक, गगन, समीरा। पंच तत्व यह रचित शरीरा।।’ यदि किसी कारणवश हमारा शरीर अस्वस्थ हो गया है, तो इन्हीं पाँच तत्वों (मिट्टी, पानी, धूप, हवा और उपवास) के समुचित प्रयोग से पुनः स्वस्थ हो सकता है। यही प्राकृतिक चिकित्सा विज्ञान है। प्राकृतिक चिकित्सा का मानना […]

स्वास्थ्य

क्या भारत विश्व का ‘डायबिटिक कैपिटल’ बन जायेगा?

क्या भविष्य के कुछ सालों बाद ही भारत की 10 प्रतिशत तक की आबादी शुगर की मरीज हो जायेगी ? यह मात्र दुःस्वप्न नहीं, अपितु भारत की तीन प्रतिष्ठित मेडिकल सम्बन्धित संस्थाएं क्रमशः पब्लिक हैल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया, इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड एवेल्यूएशन और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च नामक संस्थाओं ने वर्षों के […]

स्वास्थ्य

अलसी और इसका तेल अद्भुत गुणों से भरपूर

भाभा परमाणु अनुसंधान केन्द्र के वैज्ञानिकों ने प्रायः हमारे खेतों में उगाई जाने वाली अलसी की एक नई उन्नत प्रजाति ‘टीएल-99 ‘ को सफलतापूर्वक विकसित किया है, इसकी विशेषता यह है कि इसमें परंपरागत उगाई जाने वाले अलसी के तेल में पाए जाने वाले 35 से 67 प्रतिशत तक लिनोलेनिक एसिड की तुलना में मात्र […]

स्वास्थ्य

कुपोषण की समस्या से जूझता बचपन 

हाल ही में भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने कुपोषण को लेकर राज्यों के हालात पर किए अध्ययन में बताया कि देश में हर तीन में से दो बच्चों की मौत कुपोषण से हो रही है। देश में सालाना करीब 14 लाख बच्चों की मौत हो रही है जिसमें से सात लाख से ज्यादा मौतें […]