धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

धर्म/मजहब पर विश्व प्रसिद्ध लोगो के विचार

यूँ तो मजहब के ठेकेदार हमेशा से जनमानस को “ईश्वर” के जाल में फंसा के उनका शोषण करते आये हैं , पर जब किसी ने भी इनके “काल्पनिक” ईश्वर और उसके नाम पर चलने वाले धंधे के शोषण से लोगो को मुक्त करने का प्रयास किया है उसे इन लोगो ने “नास्तिक ” करार दिया […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा

हिंदू क्यूँ पूजता है साई बाबा को?

मित्रो , आपने मेरे पिछले लेख “साईं बाबा : कुछ शंकाएं” में पढ़ा कि किस तरह हिन्दू अपने धर्म ग्रंथो में वर्णित ईश्वर, भगवान, देवी -देवताओं को छोड़कर आज कल साईं भक्त बनता जा रहा है … हर गली हर चौराहे पर साईं मंदिर मिल जायेगा जहाँ साईं के हिन्दू अंधभक्तों की भीड़ जमा रहती […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा

हिंदू और साई बाबा: कुछ शंकायें

हिन्दुओं में एक बड़ा तबका साईं बाबा को मानने वाला तथा उनका पूजक है, साईं के एकल मंदिर के आलावा शायद ही कोई ऐसा मंदिर होगा जहां उनकी मूर्ति न हो | साईं संध्या, साईं भजन जैसी सामग्रियां शायद और किसी भी हिन्दू देवी- देवता से ज्यादा उपलब्द हो बाजार में | ब्रह्मण जो कभी […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा

आस्तिको द्वारा ईश्वर के विषय में बोला गया झूठ

यदि ईश्वर का अस्तित्व वास्तव में होता तो लोगो में उसको लेके भिन्न भिन्न धारणाये क्यूँ हैं? अलग अलग मतों के लोगो की ईश्वर को लेके मान्यताये मान्यताये अलग और विपरीत क्यों हैं? यंहा तक की हिन्दुओ में ही ईश्वर को लेके सैकड़ो मत प्रचलित हैं । कोई कहता है इश्वर सगुन है तो कोई […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा

मैं आस्तिक क्यों हूँ? (भाग – २)

       धर्म और मत/मजहब में अंतर क्या हैं? यह समझने की आवश्यकता हैं। मज़हब अथवा मत-मतान्तर के अनेक अर्थ हैं। मत का अर्थ हैं वह रास्ता जो स्वर्ग और ईश्वर प्राप्ति का हैं जोकि उस मत अथवा मज़हब के प्रवर्तक अर्थात चलाने वाले ने बताया हैं। एक और परिभाषा हैं की कुछ विशेष मान्यताओं पर ईमान […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

मैं आस्तिक क्यों हूँ? (भाग – १)

एक नया नया फैशन चला हैं अपने आपको नास्तिक यानि की atheist कहलाने का जिसका अर्थ हैं की मैं ईश्वर की सत्ता, ईश्वर के अस्तित्व में विश्वास नहीं रखता। अलग अलग तर्क प्रस्तुत  किये जाते हैं जैसे अगर ईश्वर हैं तो दिखाई क्यों नहीं देते? अगर ईश्वर हैं तो किसी भी वैज्ञानिक प्रयोग के द्वारा सिद्ध क्यों नहीं होते? अगर ईश्वर […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा राजनीति

आज मुसलमान ही मुसलमान का दुश्मन क्यों बना है?

अजीब नज़ारा है. जिस इस्लाम को भाईचारे और समानता की मिसाल के रूप में पेश किया जाता है, आज उसी इस्लाम को मानने वाले एक दूसरे के जानी दुश्मन बने हुए हैं. दुनिया के किसी भी देश में देख लो, जहां भी मुसलमानों की अच्छी खासी संख्या है, वहीँ आज सबसे अधिक अशांति है. भारत […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा

महाभारत में दुर्वासा ऋषि- सत्य से परे

आज तक समाचार पत्र लिखता है की – “दुर्वासा अपने गुस्से के लिए जाने जाते हैं और जब वो द्वारका आते हैं तो श्री कृष्ण पूरी कोशिश करते हैं कि महर्षि दुर्वासा को थोड़ा सा भी गुस्सा नहीं आए. इसी कोशिश में श्री कृष्ण अपनी पत्नी रुक्मिणी के साथ पूरे नग्न तक हो जाते हैं […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा

क्या वेदो में विज्ञान है?

पिछले दो -तीन शताब्दियों से जैसे जैसे पश्चिमी विज्ञानं ने तरक्की कर रहा है , उन्होंने विज्ञानं के क्षेत्र में अभूतपूर्व अविष्कार किये जिससे निश्चय ही मानवता भला हो रहा है । मनुष्य का जीवन सुगम और सुविधा पूर्ण हुआ है , उन्ही अविष्कारो के कारण सिमटती गई , मनुष्य के बीच दूरियाँ कम हुई। […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा राजनीति

हिन्दू उग्रवाद उचित नहीं

पुणे में ‘हिन्दू राष्ट्र सेना’ नामक किसी संगठन के सदस्यों द्वारा एक मुसलमान साॅफ्टवेयर इंजीनियर की पीट-पीटकर हत्या कर दिये जाने की घटना के बारे में बहुत कुछ कहा और लिखा जा चुका है। घटना का मूल कारण केवल यह था कि कुछ लोगों ने, जिनमें उस इंजीनियर के भी शामिल होने का शक उस […]