इतिहास

सर्वोच्च न्यायलय की शर्मनाक टिप्पणी – भारतीय जनता पार्टी की निलंबित नेत्री नूपुर शर्मा की टेलीविजन डिबेट के दौरान मजहब विशेष के संदर्भ में विवादित बयान के बाद पूरे देश में मुसलमानों ने प्रतिक्रिया देना प्रारंभ कर दिया। और विवाद मुसलमानों ने इतना किया की राजस्थान में एक हिंदू की सरे आम गला काट कर […]

इतिहास

चाहतें

लघुकथा “चाहतें ” हवा का मस्त झोंका सिहरन पैदा कर रही थी । सूरज अपनी तरुणाई को खोकर विश्राम करने जा रहा था । वह एक खजूर के पेड़ से सिर टिकाये बैठी थी । क्यों ??? और क्या सोच रही थी , शायद स्वयं अपने आप में उलझ गई थी । कैसी ये उलझन […]

इतिहास

गज़ल

छोटा सा इक आशियां चाहते हैं ज़रूरत से ज्यादा कहां चाहते हैं ====================== खिज़ाओं का मौसम रहे दूर जिससे उम्मीदों का वो गुलसितां चाहते हैं ====================== हक का ही लेंगे हो ज्यादा या थोड़ा न सर पे कोई एहसां चाहते हैं ====================== वफाओं का अपनी अहद मुझे देकर वो लेना मेरा इम्तिहां चाहते हैं ====================== […]

इतिहास

लेखन से राष्ट्रीयता का अर्थ समझाने वाले – बंकिम बाबू

भारत के स्वतंत्रता संग्राम को वंदेमातरम मंत्र ने अदभुत शक्ति प्रदान की थी। इस मंत्र के प्रणेता थे महान उपन्यासकार बंकिम चंद्र चटर्जी। बंकिम चंद्र चटर्जी का जन्म 26 जून 1838 का बंगाल प्रांत के परगना जिले में स्थित कंतलपाड़ा नामक गांव में हुआ था। इनके पिता मिदनापुर के डिप्टी कलेक्टर थे और माता घरेलू  […]

इतिहास

शहीदी दिवस 25 जून : बाबा बंदा सिंह बहादुर

बाबा बंदा सिंह बहादुर सिख इतिहास में तथा भारतीय इतिहास में गगन में ध्रुव तारे की भांति चमकता रहेगा, जो कौम को कुर्बानी तथा बहादुरी के आशीर्वाद की राहों में बाबा बंदा सिंह बहादुर की याद पीढ़ियों के लिए एक संदेश देती रहेगी। बाबा बंदा सिंह बहादुर सच्चाई का तुफान, क्रांतिकारियों तथा बेसहारों के लिए […]

इतिहास

कम्युनिज़्म और इस्लाम

एक समय था, जब कम्युनिज़्म ने विश्व के एक बड़े भूभाग पर आधिपत्य जमा रखा था। सोवियत रुस के नेतृत्व में इस विचारधारा ने पूर्वी यूरोप, एशिया और अमेरिका के कई देशों में अपनी सरकारें बना ली थी। इस विचारधारा का प्रसार वैचारिक आदान-प्रदान से कम और बन्दूक की नोक पर अधिक हुआ था। इसको […]

इतिहास

कबीर आज कितने प्रासंगिक हैं

कबीर मानव समाज के एक ऐसे वीर योद्धा हैं जो बुराइयों पर बहादुरी से लड़कर जीतने की अदम्य शक्ति और सामर्थ्य रखने वाले सद्गुरु है।कबीर एक महान संत, कवि और समाज सुधारक थे।वे युग पुरुष थे। युग दृष्टा थे।आत्मज्ञानी, साहसी एवं फक्कड़ थे। वे मानव धर्म के मसीहा थे। सत्य,अहिंसा और मानवतावाद के पुजारी। जाति, […]

इतिहास

सांप्रदायिक सद्भावना के प्रेरक: संत कबीर

वर्तमान परिदृश्य में जहाँ देश की संस्कृति में धर्म, जाति, वर्ग के बीच तत्कालीन समाज उपेक्षित हो रहा था। इससे पूर्व भारत देश की संस्कृति परंपरा में रचे-बसे सदैव ही संत पुरुष अपनी आदर्शवादिता, न्याय, त्याग एवं गौरव गाथाओं से संसार में कीर्तिमान स्थापित करते रहे। भारत की संस्कृति में सभी धर्मों,वर्गों के लोग समाहित […]

इतिहास

भारत के सबसे ऊंचे स्तूप के रूप में देहरादून का मिन्ड्रोलिंग मठ-

भारत के सबसे ऊंचे स्तूप के रूप में देहरादून का मिन्ड्रोलिंग मठ- (बुद्ध पूर्णिमा के विशेष अवसर पर) बैसाख की पूर्णिमा को पूरे विश्व मे बुद्धपूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। भगवान बुद्ध का जन्म, परिनिर्वाण और ज्ञान की प्राप्ति ये तीनों महत्वपूर्ण घटनाएं उनके जीवन में इस एक ही दिवस विशेष पर घटित […]

इतिहास

ताश का महल धराशायी होगा

जी हाँ, आपने सही पढ़ा है। अलीगढ़ छाप वामपंथी इतिहासकारों ने मुस्लिम शासन विशेष रूप से मुगल शासकों का जो चमकदार इतिहास बना रखा है, वह अब धराशायी होने वाला है और सच्चा इतिहास सामने आने वाला है, जिसमें इन शासकों का असली क्रूर और ऐयाश चेहरा उजागिर हो जाएगा, जिसे सबको मानना पड़ेगा। विगत […]