Category : इतिहास

  • वेटिकनसिटी ~

    वेटिकनसिटी ~

    “मेरी बच्ची, तू सोच रही होगी कि माँ डायन है, अपनी ही बच्ची को खाए जा रही है। पर नहीं, मेरी प्यारी गुड़िया, मैं उद्धार कर रही हूँ तेरा| इन अहसान-फरामोशों की बस्ती में आने से...


  • ******गजल******

    ******गजल******

    लौट आओ कि शाम ढल न जायें ! वक्त है मुकम्मल बदल न जाये !! काटी है राते हमने करवट बदल कर! इन्तजार मे तेरे दम निकल न जाये!! भूल पाना मुमकिन नही अब तुमको! टूटकर...






  • क्षितिज पर अन्धकार

    क्षितिज पर अन्धकार

    पश्चिमी जगत में सूर्य उदय होने से पहले ही भारत का सूर्य डूब चुका था। जब योरूपीय देशों के जिज्ञासु और महत्वकाँक्षी नाविक भारत के तटों पर पहुँचे तो यहाँ सभी तरफ अन्धकार छा चुका था।...

  • गुरु गोबिन्द सिंह

    गुरु गोबिन्द सिंह

    बैसाखी के दिन आनन्दपुर साहिब में गुरु गोबिन्द सिहं नें हिन्दू युवाओं को ‘संत-सिपाही’ की पहचान प्रदान करी थी। उन्हें मुस्लिम अत्याचार सहने के बजाय  अत्याचारों के विरुद्ध लडने के लिये भक्ति मार्ग के साथ साथ...