इतिहास

नामकरण

नामकरण ********* सुदर्शन जी को चाय देकर शोभा बाग में आ गई , पीछे पीछे सुदर्शन जी भी आ गये। शोभा बाग के हर पेड़-पौधों से बातें कर अपना दिल बहलाती थी। शोभा को अपने साँवलेपन एवं छोटी नाक से कोई शिकायत नहीं थी । लेकिन अपनी तकदीर से अक्सर शिकायत कर रो पड़ती थी […]

इतिहास

पन्ना धाय के पुत्र बलिदान की कविता.

मेवाड़ के भावी शासक सहायक पन्ना पुत्र का बलिदान किया। पन्नाधाय ने अपनी ममता, स्नेह, रियात को कुर्वान किया। देहांत हुआ जब राणा सांगा का पुत्र उदय सिंह बनवीर कर सौंप दिया पालन पालन का अधिकार से बनवीर को क्षण जोंर दिया। नहीं पता था मन में कालुष बनवीर के एक दिन आएगा लोभ के […]

इतिहास

पंडित जी

पंडित मोहन लाल जी व्यास यदि दुनिया में होते तो सौ वर्ष के होते | बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी व्यास जी का जीवन काफी संघर्षमय रहा , दस वर्ष की अल्पायु में पालनहार पिता के असामयिक निधन के बाद घर परिवार की जिम्मेदारी इनके नाजुक कंधों पर आ गई , मां विधवा बहन छोटा भाई […]

इतिहास

क्रांतिकारी अजीमुल्ला खां रचित वह प्रथम राष्ट्रगीत जिसे अंग्रेजों ने जब्त कर लिया था

भारतवर्ष वीरों की भूमि है। वीर रस से पगी इस पावन भूमि का कण-कण साक्षी है कि 1857 के स्वाधीनता समर में अंग्रेजी जुल्म और शोषण के विरुद्ध संपूर्ण देश समाज अपनी पूरी शक्ति और सामथ्र्य के साथ उठ खड़ा हुआ था। राजा, महाराजा, नवाब, साहूकार, सैनिक, किसान और मजदूर भाषा, क्षेत्र, जाति और पंथ- […]

इतिहास

सुभाष चन्द्र बोस: जिनके नाम से अंग्रेजों के हृदय कांपते थे

ब्रिटिश शासन सत्ता की बेड़ियों में जकड़ी भारत माता की मुक्ति के लिए हुए स्वाधीनता समर की बलिवेदी पर अनगिनत वीर सपूतों ने निज जीवन की आहुति दी है। अपने सुवासित जीवन-पुष्पों की माला से भारत माता का कंठ सुशोभित किया है, तो रुधिर से भाल पर अभिषेक भी। उन्हीं जननायकों में से एक महानायक […]

इतिहास

आजादी की लड़ाई के महानायक नेताजी सुभाष चंद्र बोस

भारत भूमि पर कई महान वीर योद्धाओं व देशभक्तों ने जन्म लिया हैं। और मातृभूमि की रक्षा के लिए सदैव आगे रहे और अपना सबकुछ तन-मन-धन त्यागकर देश की आज़ादी के लिए न्यौछावर कर दिया था। देश की आज़ादी की लड़ाई में देश के अनेक लोगों और नेताओं ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया था। उन […]

इतिहास

युवा दिवस और युवाओं के लिए संदेश

स्वामी विवेकानंद जी एक ऐसे शख्स है जिस पर सिर्फ भारत वासियों को नहीं समूची मानव जाति को उन पर गर्व है इन्होंने अपनी ओजस्वी वाणी से टूटी हुई भारतीय जनता को फिर से उठ खड़े होने के लिए प्रेरित किया। वास्तव में किसी भी युग पुरुष की जयंती मनाने का मतलब उनको सिर्फ याद […]

इतिहास

जन मानस के शायर दुष्यंत कुमार

दुष्यन्त कुमार की ग़ज़लें पढ़कर ऐसा लगता है कि वो हिन्दी से कहीं ज्यादा हिन्दुस्तान की ग़ज़लें है। जिनमें उस समय के आम आदमी की पीड़ा, संघर्ष, एवं परिस्थितियों से जूझते रहने का चित्रण किया है। अपने अशआर में बारूद भरकर दुष्यन्त कुमार ने शायरी के एक ऐसे स्वरूप को दिखाया जिससे हिन्दी साहित्य में […]

इतिहास

ब्रिटिशसाम्राज्यवाद बनाम क्रूरतम् हत्यारा नादिर शाह

हम सभी इतिहास में क्रूरता व अपने जुल्मोसितम के लिए कुछ बदनाम क्रूर सम्राटों व बादशाहों यथा नीरो, फ्रांस की रानी, नादिर शाह, तैमूरलंग, चंगेज खाँ, एडोल्फ हिटलर, जोज़ेफ स्टालिन आदि का ही नाम सुनते आए हैं, परन्तु अभी पिछले कुछ दिनों से एक प्रतिष्ठित समाचार पत्र मेंं किस्तों में प्रकाशित ‘कोहीनूर का शाप ‘के […]

इतिहास

युगपुरुष वाजपेयी जी

25 दिसम्बर । यह तारीख भारतीय राजनीति के इतिहास में बहुत ज्यादा मायने रखता है क्योंकि इसी तारीख को भारत के महान नेता श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी का जन्म हुआ था । निश्चित रूप से भारत की गौरवशाली माटी वाजपेयी जी को अपनी गोद में पाकर और मी गौरान्वित हो गई होगी क्योंकि भारत […]