इतिहास

आर्य कौन हैं और इनका मूलस्थान

मनुष्य श्रेष्ठ गुण, कर्म व स्वभाव को ग्रहण करने से बनता है। विश्व में अनेक मत, सम्प्रदाय आदि हैं। इन मतों के अनुयायी ईसाई, मुसलमान, हिन्दू, आर्य, बौद्ध, जैन, सिख, यहूदी आदि अनेक नामों से जाने जाते हैं। मनुष्य जाति को अंग्रेजी में भ्नउंद कहा जाता है। यह जितने मत व सम्प्रदायों के लोग हैं […]

इतिहास

लाला लाजपत राय : ओज, ऊर्जा एवं आह्वान का अविरल प्रवाह

30 अक्टूबर, 1928। लाहौर रेलवे स्टेशन पर हजारों की संख्या में अहिंसक देशभक्तों का जमावड़ा। हाथों में लहराते काले झंडे, आसमान को भेदती कसी मुट्ठियां और समवेत ओजस्वी स्वर में गूंजता एक ही नारा, “साइमन, गो बैक। अंग्रेजों वापस जाओ।” अंग्रेज पुलिस अधिकारियों को इतने तीव्र विरोध का अंदाजा न था। पुलिस अधिकारी ने सिपाहियो […]

इतिहास

स्वामी श्रद्धानन्द जी का आर्यसमाज के इतिहास में गौरवपूर्ण स्थान

महाभारत युद्ध के बाद विद्वानों की भारी क्षति तथा राजकीय अव्यवस्था के कारण धर्म एवं संस्कृति की उन्नति रुक गई और इनका पतन आरम्भ हुआ जो समय के साथ वृद्धि को प्राप्त होता गया। इसी का परिणाम ईसा की आठवीं शताब्दी से देश में परतन्त्रता का होना आरम्भ हुआ। उन्नीसवीं शताब्दी में देश अंग्रेजों का […]

इतिहास

महान प्रतिभावान गणितज्ञ विभूति- श्रीनिवास रामानुजन

श्री निवास रामानुजन आयंगर एक महान भारतीय गणितज्ञ थे. इन्हें आधुनिक काल के महानतम गणित विचारकों में गिना जाता है. इन्हें गणित में कोई विशेष प्रशिक्षण नहीं मिला, फिर भी इन्होंने विश्लेषण एवं संख्या सिद्धांत के क्षेत्रों में गहन योगदान दिए. इन्होंने अपने प्रतिभा और लगन से न केवल गणित के क्षेत्र में अद्भुत अविष्कार […]

इतिहास

नानक भव-जल-पार परै जो गावै प्रभु के गीत

भोपाल – गुरु नानक देव जी ने अपने उपदेशों से पूरे विश्व को आध्यात्मिक ज्ञान और महान विचारो से इस धरती को प्रकाशमय किया था । गुरु नानक देव जी के विचार जातिवाद, कौम, धर्म तथा भाषा के आधार पर होने वाले भेद भाव से उच्च थे । वह सभी लोगो के प्रति समानता का […]

इतिहास

भारत की दिव्य विभूति – महान संत गुरु नानक देव जी

महान सिख संत व गुरु नानक देव जी का जन्म 1469 ई में रावी नदी के किनारे स्थित राय भोई की तलवंडी में हुआ था जो ननकाना साहिब के नाम से जाना जाता है और भारत विभाजन में  पाकिस्तान के भाग में चला गया । इनके पिता मेहता कालू गांव के पटवारी थे और माता […]

इतिहास

एक ओंकार के प्रणेता बाबा नानक

सिख मत के संचालक एंव प्रथम गुरू बाबा नानक को एक-ओंकार के रचयिता माना जाता है। जपुजी, आसा दी वार, बारह माह, रागतुखारी, पट्टी मांझ तथा मल्हार की वार जैसी उच्च कोटि के रचनाएं लिखकर भारत की धरती को, मानवता की सच्ची कदरें-कीमतें बख्शी हैं। गुरू नानक देव जी की बाणी एक ओंकार की ही […]

इतिहास

सुरक्षा के साथ मानवता का धर्म निभा रही कांस्टेबल सोनिया

जीवन में सबके अपने सपने होते हैं लेकिन उन सपनों  को अगर किसी भी माध्यम से देश की सेवा के साथ-साथ किसी गरीब, असहाय के मदद से जोड़ सके तो सोने पर सुहागा, जी हाँ कुछ ऐसा ही कर रही भारत की बेटी सोनिया जोशी जो अभी उत्तराखंड पुलिस में कार्यरत हैं। ड्यूटी के साथ- […]

इतिहास

आपातकाल के खिलाफ बिगुल फूंकने वाले – लोकनायक जयप्रकाश नारायण

भारतीय लोकतंत्र के महानायक जयप्रकाश नारायण का जन्म 11 अक्टूबर 1902 को बिहार के सारण जिले के सिताबदियारा गांव में हुआ था। उनका जन्म ऐसे समय में हुआ था जब देश विदेशी सत्ता के आधीन था और स्वतंत्रता के लिए छटपटा रहा था। उनकी प्रारम्भिक शिक्षा सारन और पटना जिले में हुई थी । वे […]

इतिहास

भगत सिंह और जनमुक्ति

आज हमारा मुल्क आजाद है किन्तु जिन उद्देश्यों को लेकर शहीदेआजम भगत सिंह जैसे महान क्रांतिकारियों ने मौत को गले लगाया था क्या हम उन उद्देश्यों को प्राप्त कर सके हैं? यह एक काफी गम्भीर और विचारणीय सवाल है। हम सभी अच्छी तरह जानते हैं कि गुलामी की दाग सबसे कलंकित और गहरी दाग होता […]