इतिहास

महानायक  नेताजी सुभाष चंद्र बोस

भारत के महान सपूत महानायक नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को हुआ था। नेता जी आजीवन स्वाधीनता संघर्ष ,युद्ध तथा सैन्य संगठन में रत रहे। सुभाष बाबू के जीवन पर स्वामी विवेकानंद, उनके गुरू स्वामी रामकृष्ण परमहंस तथा महर्षि अरविंद के गहन दर्शन  और उच्च भावना का प्रभाव था  । नेता जी ऋषि अरविंद की […]

इतिहास

एक उत्कृष्ट ऐतिहासिक धरोहर–रामनगर का मोतीमहल

पुरातत्व व इतिहास की अनेक धरोहरें हमें हमारे गौरवशाली अतीत से मिलाती हैं।ऐसी धरोहरें जिनमें भव्यता भी है,और वैभव भी।उन्हीं में से एक है-मंडला जिले के रामनगर में स्थित गोंडकालीन स्मारक मोती महल । जिसका निर्माण सन् 1667 ईसवी में गोंड राजा हृदय शाह द्वारा पवित्र नर्मदा नदी के किनारे करवाया गया था |इस महल […]

इतिहास

गुरु गोविंद सिंह को समर्पित की थी पण्डित टोडरमल जैन ने विश्व की सबसे महंगी जमीन

विश्व की सबसे महंगी जमीन सरहिंद फतेहगढ़ साहिब पंजाब में है। इस स्थान पर गुरु गोबिन्द सिंह जी के दोनों छोटे साहिबजादों और माता गुजरी जी का अंतिम संस्कार हुया था। दीवान टोडरमल जैन वैश्य व्यापारी ने सिर्फ 4 वर्ग मीटर स्थान 78000 हजार सोने के सिक्के जमीन पर खडे कर, गुरु गोबिन्द सिंह जी […]

इतिहास

स्वामी विवेकानंद

सत्य तक पहुचना ये मानवीय लक्ष हे ,वह संवेदना का कोई स्थान नहीं हे ,और जो इंद्रियो से स्पर्श का एहसास होता हे उसे भी कोई स्थान नहीं हे ,सिर्फ शुध्ध तर्क के प्रकाश को ही स्थान हे ,मानव वह आत्मा स्वरूप हे मकर सक्रांति के पावन अवसर पर सूर्योदय होने की तैयारी के समय […]

इतिहास

युवा दिवस और स्वामी जी का संदेश

महज 39 साल की जीवन यात्रा में ही स्वामी विवेकानंद जी न केवल भारत के आध्यात्मिक गुरू बने,बल्कि दुनिया भर को अध्यात्म और हिंदुत्व का पाठ पढा़ने के अलावा कम उम्र में अपने अर्जित ज्ञान की बदौलत युवाओं के प्रेरणा स्तंभ भी बन गये। स्वामी विवेकानंद जी ने देश के युवाओं को अपने ज्ञान के […]

इतिहास

युवाओं के प्रेरणास्रोत – स्वामी विवेकानंद

12 जनवरी विशेष युवाओं के शक्तिपुंज और आदर्श तथा प्रेरक युगदृष्ट्रा संत स्वामी विवेकानंद का जन्म कलकत्ता के दत्त परिवार में 12 जनवरी 1863 ईसवी को हुआ था। स्वामी विवेकानंद के बचपन का नाम नरेंद्र नाथ था। स्वामी विवेकानंद के पिता विश्वनाथ दत्त कई गुणों से विभूषित थे। वे अंग्रेजी एवं फारसी भाषाओं में दक्ष […]

इतिहास

स्वामी विवेकानंद

हमारा देश अनेक महान विभूतियों से सदियों से भरा पड़ा है, जिनसे हम अनवरत प्रेरणा पाते आ रहे हैं। सीखते आ रहे हैं। यही नहीं यदि हम उन्हें अपने जीवन में आत्मसात कर लेतें है तो हमारी निराशा से भरी जिंदगी में प्रकाश और उसके अंदर इतना आत्मविश्वास भर जाता  है कि उसकी जिंदगी में […]

इतिहास

स्वर्गीय सुन्दर लाल बहुगुणा : पर्यावरण संरक्षण के एक अद्वितीय मसीहा

( जन्मदिवस 9 जनवरी के सुअवसर पर ) ‘सुन्दर लाल बहुगुणा ‘ एक ऐसे व्यक्तित्व का नाम है जिसके पर्यायवाची शब्दों में बहुत से शब्द हैं यथा चिपको आंदोलन,वृक्षों के रक्षक या वृक्षमित्र,शराब के खिलाफ लड़नेवाला अप्रतिम योद्धा,टिहरी राजशाही के कटु विरोधी,टिहरी जैसे बड़े बाँध से होनेवाले पर्यावरण,पारिस्थितिकी, समाज,संस्कृति और देश को होनेवाली अपूरणीय क्षति […]

इतिहास

उपट्टा लगने से मिली थी अजितनाथ की प्राचीन प्रतिमा 

मध्यप्रदेश के सागर जिला मुख्यालय से ४० कि. मी. दूर राष्ट्रीय राजमार्ग ८६ पर स्थित दलपतपुर से १३ कि.मी. की दूरी पर है नैनागिरि अतिशय-सिद्ध क्षेत्र। उस जमाने में  लोग व्यापार के लिए छोड़ों पर सवार होकर या घोड़ों पर सामान लाद कर स्वयं उसकी लगाम पकड़कर पैदल चलते हुए जाते थे। बम्हौरी के महाजन […]

इतिहास

श्री जगदीश लाल आहुजा – आपका जीवन सबके लिए प्रेरणा है

40 वर्षो तक हर रोज चण्डीगढ़ पी.जी.आई. के बाहर लंगर खिलाने वाले श्री जगदीश लाल आहुजा 85 वर्ष की आयु में कैंसर से हार गये। गरीबों के मसीहा कहलाने वाले लंगर बाबा का जीवन संघर्ष की मिसाल है। उन्होंने अपने इस सेवा के मिशन को चलाये रखने के लिए अपनी करोड़ों की जायदाद बेच दी […]