इतिहास

वीर सावरकर ने अंग्रेजों से माफ़ी क्यों मांगी?

वीर सावरकर भारत देश के महान क्रांतिकारियों में से एक थे। कांग्रेस राज की बात है। मणिशंकर अय्यर ने मुस्लिम तुष्टिकरण को बढ़ावा देने के लिए अण्डेमान स्थित सेलुलर जेल से वीर सावरकर के स्मृति चिन्हों को हटवा दिया। यहाँ तक उन्हें अंग्रेजों से माफ़ी मांगने के नाम पर गद्दार तक कहा था। भारत देश […]

इतिहास

क्षितिज पर अन्धकार

पश्चिमी जगत में सूर्य उदय होने से पहले ही भारत का सूर्य डूब चुका था। जब योरूपीय देशों के जिज्ञासु और महत्वकाँक्षी नाविक भारत के तटों पर पहुँचे तो यहाँ सभी तरफ अन्धकार छा चुका था। जिस वैभवशाली भारत को वह देखने आये थे वह तो निराश, आपसी झगडों और अज्ञान के घोर अन्धेरे में […]

इतिहास

गुरु गोबिन्द सिंह

बैसाखी के दिन आनन्दपुर साहिब में गुरु गोबिन्द सिहं नें हिन्दू युवाओं को ‘संत-सिपाही’ की पहचान प्रदान करी थी। उन्हें मुस्लिम अत्याचार सहने के बजाय  अत्याचारों के विरुद्ध लडने के लिये भक्ति मार्ग के साथ साथ कर्मयोग का मार्ग भी अपनाने का आदेश दिया था। इसी पर्व से ‘खालसा-पंथ’ की नींव पड़ी थी। औरंगजेब ने […]

इतिहास

वीर शिवाजी जी मुस्लिम नीति एवं औरंगज़ेब की धर्मान्धता- एक तुलनात्मक अध्ययन

महाराष्ट्र के पुणे से सोशल मीडिया में शिवाजी को अपमानित करने की मंशा से उनका चित्र डालना और उसकी प्रतिक्रिया में एक इंजीनियर की हत्या इस समय की सबसे प्रचलित खबर हैं। दोषी कौन हैं और उन्हें क्या दंड मिलना चाहिए यह तो न्यायालय तय करेगा जिसमें हमारी पूर्ण आस्था हैं। परन्तु सत्य यह हैं […]

इतिहास

भारतीय मुसलमानों के हिन्दु पूर्वज मुसलमान कैसे बने?

किरण रिजिजू के बयान के सेक्युलर लोग राजनीतिक निष्कर्ष निकालने पर लगे हुए है। मगर सत्य इतिहास चाहे कड़वा हो उसे कोई बदल नहीं सकता। पिछले 1200 वर्षों से इस्लामिक आक्रांताओं एवं ईसाई मिशनरी से भयानक अत्याचारों की ऐसे दास्तानें भारतीय जनमानस के हृदय पटल पर लिखी है। जिन्हें कोई मिटा नहीं सकता। इस लेख […]

इतिहास लेख

एक महान सती थी “पद्मिनी”

एक सती जिसने अपने सतीत्व की रक्षा के लिए अपने प्राणों का बलिदान कर दिया उसकी मृत्यु के सैकड़ों वर्ष बाद उसके विषय में अनर्गल बात करना उसकी अस्मिता को तार-तार करना कहां तक उचित है | ये समय वास्तव में संस्कृति के ह्रास का समय है कुछ मुर्ख इतिहास को झूठलाने का प्रयत्न करने […]

इतिहास

आजादी के महानायक –नेता जी सुभाष चंद्र बोस

23 जनवरी जन्मदिन पर विशेष         आजादी के महायक –नेता जी सुभाष चंद्र बोस लाल बिहारी लाल नई दिल्ली। सुभाष चंद्र बोस का जन्म मशहूर वकील जानकीनाथ बोस के घर 23 जनवरी 1897 को उड़िसा के कटक शहर में हुआ था।इनकी माता का नाम प्रभावती था।जानकीनाथ के कुल 14 संतान थे।6 बेटियाँ […]

इतिहास

विश्वेश्वर से स्वामी विवेकानंद बनने तक की यात्रा (जन्म जयन्ती विशेष)

आज 12 जनवरी 2017 में हम स्वामी विवेकानंद की 154 वी जन्म जयन्ती मना रहे है| जिसे हम युवा दिवस के रूप में जानते है| आज से 154 वर्ष पूर्व  एक बालक का जन्म हुआ जिसका नाम  विश्वेश्वर रखा गया जिसे घर में प्यार से नरेंद्र के नाम से बुलाया जाता था | लेकिन ये […]

इतिहास

आर्य क्षत्रिय परंपरा के अमर बलिदानी वीर गोकुला जाट

(1 जनवरी को वीर गोकुल जाट के बलिदान दिवस पर प्रकाशित) आर्य धर्म की महान क्षत्रिय परम्परा को कौन नही जानता, एक ऐसी परम्परा जिसमें समय समय पर अनेकों शूरवीर सामने आये और कभी राष्ट्रभक्ति तो कभी धर्म के लिए अपने प्राण तक दांव पर लगा दिए। इस महान क्षत्रिय परम्परा के शौर्य और वीरता […]

इतिहास

शीर्ष वैदिक विद्वान डा. रघुवीर वेदालंकार और उनकी पुस्तक ‘ध्यान तथा उपासना

ओ३म् डा. रघुवीर वेदालंकार जी की एक कृति ‘ध्यान तथा उपासना’ है जिसका प्रकाशन सत्यधर्म प्रकाशन, रोहतक से सन् 1906 में हुआ था। हमने अप्रैल सन् 2007 में गुवाहटी की यात्रा की थी और वहां अपनी पुत्री के पास कुछ दिन रहे थे। उसी बीच रेलयात्रा और गुवाहटी प्रवास में हमने इस पुस्तक को पढ़ा […]