इतिहास

हमारा महान इतिहास

भारत देश का सत्य इतिहास अत्यंत महान और प्रेरणादायक  हैं। विडंबना यह हैं की 1200 वर्ष की गुलामी के पश्चात भारत वर्ष का जो इतिहास लिखा गया उसमे मुस्लिम और ईसाई लेखकों ने इतिहास को निष्पक्षता से लिखने के स्थान पर अपने धार्मिक पूर्वाग्रह के कारण उन तथ्यों को ज्यादा प्राथमिकता दी हैं जिनसे यह […]

इतिहास

सामाजिक समरसता के प्रेरक सन्त रविदास

सामाजिक समरसता व हिंदू समाज को छूआछूत जैसी घृणित परम्परा से मुक्ति दिलाने वाले महान सन्त रविदास का जन्म धर्म नगरी काशी के निकट मंडुआडीह में संवत 1433 की माघ पूर्णिमा को हुआ था। उनके पिता का नाम राघव व माता का नाम करमा था। जिस दिन उनका जन्म हुआ उस दिन रविवार था इस […]

इतिहास

आधुनिक इतिहास में शुद्धि समर्थक राष्ट्र नेताओं के नाम

स्वामी दयानंद– सर्वप्रथम देहरादून में एक मुस्लमान को शुद्ध कर उनका अलखधारी नाम रख कर आधुनिक भारत में सदियों से बंद घर वापसी के द्वार को खोला स्वामी श्रद्धानन्द– लाखों मलकाने राजपूतों जो नौमुस्लिम कहलाते थे उन्हें शुद्ध किया और व्यवस्थित रूप से सकल हिन्दू समाज को संगठित करने का उद्घोष किया। शुद्धि चक्र को […]

इतिहास

एक संघर्षमयी गाथा नेताजी- सुभाष चन्द्र बोस

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महानायक सुभाषचन्द्र के निष्काम कर्म का साक्षात दर्शन है। 23 जनवरी 1897 को जन्मे सुभाषजीवन पर्यन्त युद्धकर्म और संघर्ष तथा संगठन में रत रहे। सुभाष जब 15 वर्ष के थे उसी समय दूसरा महत्वपूर्ण प्रभाव स्वामी विवेकानंद और उनके गुरू स्वाामी रामकृष्ण परमहंस का पड़ा। सुभाष के जीवन पर अरविंद के […]

इतिहास

ईश्वर-जीवात्मा विषयक यथार्थ ज्ञान के प्रदाता महर्षि दयानन्द

महर्षि दयानन्द सरस्वती को किशारोवस्था में मृत्यु से बचने के लिए उपाय करने के साथ ईश्वर व जीवात्मा के यर्थाथ स्वरूप के ज्ञान की खोज करने की प्रेरणा प्राप्त हुई थी। उसी दिन से वह मृत्यु पर विजय प्राप्त करने के साथ ईश्वर व जीवात्मा की खोज के मिशन पर लग गये थे। उन्होंने 21 […]

इतिहास धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

‘वेद में जीवात्मा विषयक गूढ रहस्यों का प्रतिपादन’

स्वाध्याय की प्रवृत्ति मनुष्य को नानाविध लाभ पहुंचाती है। देश में अनेक विद्वान हो गये हैं जिन्होंने अनेकानेक विषयों पर जीवन के लिए लाभदायक ज्ञान अपने ग्रन्थों में प्रस्तुत किया है। श्री पं. शिवशंकर शर्मा काव्यतीर्थ भी वेदों के मर्मज्ञ विद्वान व ग्रन्थकार थे। आपने वेदों पर अनेक प्रमाणित ग्रन्थ लिखे है। ‘वैदिक इतिहासार्थ निर्णय’उनका […]

इतिहास

अब अपमान की रेस में गांधीजी भी !

दुनिया में गांधीजी की वजह से इस देश की बनी पहचान को बरकरार रखने के लिए बी जे पी, मतलब मोदीजी भी जब से सत्ता में आयें हैं गांधीजी के नाम की देश विदेश में माला जप रहे है ये मोदीजी के आर एस एस की पार्श्वभूमी देखते हुवे आश्चर्यजनक होते हुवे भी सर्व विदित […]

इतिहास

‘एक ऐतिहासिक स्थल की खोज जहां रोचक शास्त्रार्थ हुआ था’

समय समय पर अनेक ऐतिहासिक घटनायें घटित होती रहती हैं परन्तु कई बार उनमें से कुछ महत्वपूर्ण घटनाओं का महत्व न जानकर उस काल के लोग उसकी सुरक्षा का ध्यान नहीं करते। बाद के लोगों को उसके लिए काफी पुरूषार्थ करना पड़ता है। कई बार सफलता मिल जाती है और कई बार नहीं मिलती। डा. […]

इतिहास

सेवा और परोपकार की मूर्ति आर्य पण्डित नरेन्द्र के जीवन की एक अनुस्मरणीय घटना

सेवा, परोपकार और दान ऐसे गुण हैं जिनसे मनुष्य जीवन फूलों की सुगन्ध का सा महकता है। जिस व्यक्ति के पास यह गुण नहीं है उसका जीवन किसी पुराने महल के खण्डहर के समान वीरान सा होता है। सेवा व परोपकार मनुष्य जीवन के उद्देश्य के अनुरूप होने से इनका धारक व पालक सुख, प्रसन्नता, […]

इतिहास

क्या हमारा अब तक का जीवन व्यर्थ चला गया है?

हम अपने सारे जीवन भर यह भूले रहते हैं कि हमारे जीवन का उद्देश्य क्या है। हम संसार में क्यों आये हैं? न हमें इसके बारे में माता-पिता से कोई विशेष ज्ञान मिलता है और न हि हमारे आचार्य व अध्यापक ही विद्यालयों में इस विषय के बारे में पढ़ाते या बताते हैं। माता, पिता […]