अन्य लेख

शब्द ज्ञान

ताप की तीव्रता से दूर सड़क या मरुस्थल में जल का आभास होने की घटना को मृगमरीचिका कहते हैं। पिता सुंड और माता ताड़का के पुत्र मारीच पर रावण की कृपा दृष्टि थी। वो भ्रम पैदा करने की कला में निपुण था और रावण ने सीता हरण की योजना को सफल बनाने के लिये मारीच […]

अन्य लेख विज्ञान

सृष्टि का आरम्भ और कृषि विज्ञान

ओ३म् ज्ञान और विज्ञान परस्पर पूरक शब्द हैं। वस्तुओं का साधारण ज्ञान सामान्य ज्ञान के अन्तर्गत आता है और उनका विशेष ज्ञान विज्ञान कहलता है। कृषि का तात्पर्य मनुष्यों के आहार के पदार्थो यथा फल, वनस्पतियां व अन्न आदि का अच्छा व गुणवत्तायुक्त प्रचुर मात्रा में उत्पादन करने को कह सकते हैं। सृष्टि के आरम्भ […]

अन्य लेख

श्रमिक दिवस

1 मई यानी श्रमिक दिवस पर विशेष अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस को अंतरराष्ट्रीय मज़दूर दिवस और मई दिवस के नाम से भी जाना जाता है, जो अंतरराष्ट्रीय श्रमिक संघ को प्रचारित और बढ़ावा देने के लिये अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मनाया जाता है. इसे पूरे विश्व भर में 1 मई को मनाया जाता है. आठ घंटे के […]

अन्य लेख धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

यज्ञ से वर्षा होती है

ओ३म् वेद ईश्वरीय ज्ञान है जो ईश्वर ने सृष्टि की आदि में चार ऋषियों अग्नि, वायु आदित्य व अंगिरा को दिया था। ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद एवं अर्थवेद मुख्यतः ज्ञान, कर्म, उपासना तथा विज्ञान पर आधारित ज्ञान की पुस्तकें हैं। ऋग्वेद का मन्त्र संख्या 4/58/9 निम्न हैः यत्र सोमः सूयते यत्र यज्ञो घृतस्य धारा अभि तत् […]

अन्य लेख

मनमोहन के नाम पत्र

श्रद्धेय मनमोहन जी, सादर प्रणाम, आपके माध्यम से सभी को होली की बधाइयां एवं शुभकामनाएं, कल आपको यह पत्र लिखना शुरु किया था, पर आपकी कृपा से बच्चे आ गए, होली का हुड़दंग शुरु हो गया, मिठाइयां बनीं, यह सब आप जानते ही हैं. आपसे भी तनिक होली खेल लें- ”आइए मनमोहन प्यारे यशोदा के […]

अन्य लेख

पुस्तक प्रेमी हमारे एक स्थानीय मित्र श्री कृष्णकान्त वैदिक जी

ओ३म् प्रेरक प्रसंग देहरादून में हमारे एक पुस्तक प्रेमी ऐसे मित्र हैं जिनका अपना निजी पुस्तक संग्रह देहरादून में सर्वाधिक हो सकता है। आप राजकीय सेवा में उच्च पदस्थ रहे और सम्प्रति सेवा निवृत्त हैं। सेवाकाल में ही आपने संस्कृत का अध्ययन किया और  गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार से स्नात्कोत्तर की उपाधि स्वर्ण पदक सहित […]

अन्य लेख

परमात्मा की प्लानिंग

आज मास का द्वितीय शनिवार है. आज के दिन सीनियर सिटिज़ंस की मीटिंग होती है, जिसमें हम हर महीने जाते हैं. आज हमारी बहू को भी सेमीनार में जाना था, इसलिए हमें घर में रहना था. हमने मीटिंग में जाने की बात मन से बिलकुल ही निकाल ली थी. सुबह उठते ही बहू का गला […]

अन्य लेख

इंसानियत और दोस्ती

8000 कि.मी. से हर साल दोस्त से मिलने आता है पेंग्विन ब्राजील के रियो डि जेनेरियो के बाहर एक गांव में साल 2011 में जोआउ परेरा डिसूजा नाम के एक मछुआरे को चट्टानों के बीच एक छोटा सा पेंग्विन दिखा। पेंग्विन भूखा था और तेल में सना हुआ था। डिसूजा उसे अपने घर ले आए […]

अन्य लेख

हम सदाबहार हैं-3

1.ऐसे लोगों से संबंध रखना चाहिए, जिनसे आपकी सहनशक्ति बढ़े, समझ की शक्ति बढ़े, जीवन में आने-जाने वाले, सुख-दुःख की तरंगों का, अपने भीतर शमन करने की ताकत आए, समता बढ़े, जीवन तेजस्वी बने. 2.सुख भी बहुत हैं, परेशानियां भी बहुत हैं, ज़िंदगी में लाभ है तो हानियां भी बहुत हैं, जो प्रभु ने थोड़े […]