राजनीति

संकट की घड़ी में भी लापरवाह अराजक तत्व और बयान बहादुर

कोरोना वायरस के आतंक के कारण आज अधिकांश वैश्विक समुदाय लाकडाउन की स्थिति में पहंुच गया हेै। यूरोपियन देशों की हालत बहुत ही गंभीर व दुःखद हो चुकी है। इस वायरस की चपेट में ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जानसन से लेकर कई देशोें की मशहूर हस्तियां भी चपेट में आ चुकी है। एक प्रकार से वायरस […]

राजनीति

महाशक्ति के रूप में उभरता भारत

यदि  कोरोना वायरस के रहस्यमय रूप से प्रकट होने, और समस्त विश्व से इसकी जानकारी छिपाने फिर प्रचार– प्रसार के बाद चीन में उद्योग से लेकर जनजीवन तक सामान्य होने का विश्लेषण करें ! तो पता चलता हैं कि 31 दिसम्बर को ही विश्व स्वास्थ्य संगठन ने आगाह किया कि उनके हुबई सूबे के वुहान […]

राजनीति

मानव जाति के सामने विकराल संकट

इतिहास में कभी कभी ऐसा समय आता है। जब मानव जाति के सामने विकराल संकट पैदा हो जाता है । उस संकट का जनक स्वयं मानव होता है । प्रकृति के साथ खिलवाड़ व जीव जंतुओं के प्रति हिंसक प्रवृत्ति है, अप्राकृतिक जीवन शैली ने विश्व को काल का ग्रास बना दिया है । आज […]

राजनीति

देरी से मिला अधूरा न्याय

अन्ततः निर्भया के चार बलात्कारियों-हत्यारों को फाँसी पर लटका दिया गया। यह न्याय देर से तो मिला ही अधूरा भी है, क्योंकि पाँचवाँ अपराधी तो कुदरती मौत मर गया और छठा अपराधी मोहम्मद अफरोज सिलाई मशीन और हजारों रुपयों का इनाम पाकर कहीं मौज कर रहा है। कहावत है कि देरी से न्याय देना, न्याय […]

राजनीति

योगी राज में तेजी से बढ़ रही है यूपी की कमाई

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार के तीन वर्ष पूरे हो गए हैं। इस दौरान उपलब्धियों के दावे-प्रतिदावे के बीच कुछ बातें चौंकानेवाली हैं। जैसे उत्तर प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय के आंकड़े का बढ़ना, एक्सपोर्ट में 28 फीसदी की बढ़ोतरी। देश भर में आर्थिक मंदी के शोर के बीच यह जानकारी सोचने को […]

राजनीति

अफगानिस्तान में,अमेरिका अपने बनाए जाल में खुद ही फँसा है !

भारतीय समाज में एक कहावत बहुत प्रसिद्ध है कि ‘रेशम का कीड़ा खुद अपने मुँह से निकाले धागे में लिपटते-लिपटते एक दिन खुद ही उसमें कैद हो जाता है। ‘ आज अफगानिस्तान में तालिबानी आतंकियों से उलझे अमेरिका को पूरे 18 साल से भी ज्यादे दिन हो चुके ! जिसमें अमेरिका के अरबों-खरबों डॉलर अब […]

राजनीति

ये कैसा विरोध…?

आज देश की स्थिति को देखकर अत्यन्त आश्चर्य होता है कि देश किस दिशा में गति कर रहा है, यह अत्यन्त चिन्तनीय है। जिस सरकार को पूर्ण बहुमत के साथ हम अपने लिए ही चुनते हैं और आज हम ही उसके निर्णयों पर प्रश्न करने लग जाते है? यह कैसी विडंबना है? निर्णयों पर प्रश्न […]

राजनीति लेख

दिल्ली दंगा: गुलेल कहते हैं गुनाह की कहानी

On Sun, 1 Mar 2020, 07:12 Amit Ambashtha, wrote: दिल्ली दंगा : गुलेल कहते हैं गुनाह की कहानी ………………………………………………… नागरिकता संशोधन कानून पर जिस तरह से विपक्ष देश के कुछ प्रतिशत मुसलमानों को भ्रमित करने में सफल रहा , देखते देखते माहौल खराब होने लगा , जे एन यू से जामिया तक विपक्ष की भड़काई […]

राजनीति

दिल्ली दंगों के लिए जिम्मेदार : नागरिकता कानून के विरोध के नाम पर जहरीली बयानबाजी

जब से संसद ने नागरिकता संशोधन अधिनियम 2020 को पारित किया है, तब से उसके खिलाफ मुुस्लिम तुष्टीकरण व जातिगत आधार पर राजनीति करने वाले नेताओं की जहरीली बयानबाजी इतनी अधिक तेज हो गयी है कि उसका असर अब दिल्ली के भयावह दंगों के रूप में सामने आ रहा है। दिल्ली के दंगों में अब […]

राजनीति

आत्मघाती मानसिक विकृति का शिकार होती कांग्रेस

ऐसा प्रतीत हो रहा है कि एक के बाद एक करारी पराजयों के कारण कांग्रेस का नेतृत्व मनोविकृति का शिकार होकर देश की राजधानी दिल्ली की विधानसभा चुनावों मेें शून्य पर निपटने के बाद अब देश के अन्य राज्यों में भी शून्य की ओर जाना चाहता है। आजकल कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाधी व […]