राजनीति

उत्तर प्रदेश में अब कोई भी परीक्षा सुरक्षित नहीं

उत्तर प्रदेश में परीक्षा प्रणाली अब पूरी तरह से भ्रष्टाचार के दलदल में डूब चुकी है। कोई भी परीक्षा ऐसी नहीं बची है जोकि पूरी तरह से पुलप्रुफ हो। एक प्रकार से शुचिता पर तो सवाल खड़े हो ही रहे हैं वहीं दूसरी ओर छात्रों व विभिन्न नौकरियों के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों का […]

ब्लॉग/परिचर्चा राजनीति लेख

जो भी हुआ, गलत हुआ

क्रिकेट के विश्व कप का खुमार भारतीय जनमानस से उतर चुका है. भारतीय टीम अब घर लौट चुकी है. राष्ट्र धर्म और अकूत मनोरंजन वाला महंगा खेल ही भारतीयों में राष्ट्रधर्म की मदिरा पिलाता है. भारत जब तक जीतता रहता है, खिलाड़ियों की खूब प्रशंशा होती है, पर हारने के बाद आक्रोश भी वैसा ही […]

राजनीति

आप  का  संताप

       ‘आप’ में जो कुछ हो रहा है उसमें आश्चर्य करने लायक कुछ भी नहीं है। जब नेता सत्ता का लोलुप हो जाय तो वो किसी भी हद तक जा सकता है और अरविंद केजरीवाल ने यही सिद्ध कर दिखाया है। मुझे मालूम है कि मेरी इस बात से कई लोग सहमत नहीं […]

राजनीति

सोशल मीडिया को आजादी कितनी सही कितनी गलत ?

24 मार्च 2014 का दिन भारत में सोशल मीडिया के इतिहास में एक अभूतपूर्व व ऐतिहासिक दिन के रूप में याद किया जायेगा। सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसले में आई टी एक्ट की धारा 66ए को असंवैधानिक करार देते हुए उसे रदद कर दिया है। अदालत के इस फैसले के बाद सोशल मीडिया का […]

राजनीति

शहीदी दिवस और अखण्ड भारत का सपना

जिन अंग्रेजों और उनके विचारों के विरुद्ध वीरों ने जान गंवाई थी, जिन के बर्बर कुशासन से देश को आजादी दिलाने के लिए अपने प्राणों की आहुतियाँ दी थी, कुछ सपने संजोये थे देश की एकता अखंडता के लिए वही भारत शहीदों के सपनों का भारत तो नहीं बन सका पर, उन अंग्रेजों के सपनों […]

राजनीति

पाकिस्तान का शक्ति प्रदर्शन

खबर है कि पाकिस्तान में सात साल बाद गणतंत्र दिवस की परेड हुई, जिसमें सैन्य शक्ति का प्रदर्शन किया गया । चीन के द्वारा अयोग्य किये गये और पाकिस्तान में डम्प किये गये हथियारों को इसमें बड़ी शान से ऐसे प्रदर्शित किया गया मानो वे उसी देशें बने हों। इस सैन्य प्रदर्शन को आधार बना […]

राजनीति

शहीदों की आड़ में दूरगामी राजनीति

इस बार 23 मार्च 2015 का दिन देश की राजनीति में कुछ नये प्रकार के रंग दिखलाई पड़े। महान क्रांतिकारी व देशभक्त तथा अंग्रेजी शासन के खिलाफ आवाज बुलंद करके फांसी के फंदे को चूमने वाले शहीद भगत सिंह, सुखदेव व राजगुरू की याद में निश्चय ही एक मेला सा लग गया। बहुत दिनों के बाद देश को […]

राजनीति

अविश्वास की शिकार आप

बीते कई दिनों से आम आदमी पार्टी का जो संसार उलटपुलट से भरा दिखाई दे रहा है वह दरअसल कई रसोईयों के एक ही रसोई में इकट्ठे होकर भोजन पकाने का नतीजा है। रसोईया यदि एक ही हो तो वह सबकी राय लेकर उनको ध्यान में रखकर भोजन पका सकता है मगर यदि सभी भोजन […]

राजनीति

मेक इन इंडिया के लिए कौशल विकास जरुरी

पीएम नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त को लाल किले से अपने पहले भाषण में मेक इन इंडिया का नारा दिया था । वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी अपने बजट भाषण में मेक इन इंडिया की बात कही थी। उनके बजट भाषण में इंफ्रास्ट्रक्चर और कारोबार आसान करने से लेकर स्किल डेवलपमेंट तक मेक इन […]

राजनीति

क्या देश को स्वतंत्रता गांधीजी/कांग्रेस ने दिलाई थी?

साध्वी प्राची द्वारा गांधी जी पर एक टिप्पणी की गई जिसके विरोध में मीडिया लामबंध होकर साध्वी प्राची को चुप रहने की सलाह दे रहा है। इस लेख का विषय साध्वी जी की टिप्पणी की समीक्षा करना नहीं अपितु यह जानने का प्रयास करना हैं कि क्या वाकई देश को स्वतंत्रता गांधी जी/कांग्रेस ने दिलाई […]