Category : भाषा-साहित्य








  • यक्षगान : एक सांस्कृतिक कला

    यक्षगान : एक सांस्कृतिक कला

    ज्ञानपीठ पुरस्कार से अलंकृत कन्नड के श्रेष्ठ साहित्यकार श्री शिवराम कारन्त जी अपने ‘यक्षगान बयलाट’ शोधप्रबन्ध में कहते हैं- “ यक्षगान का सर्वप्रथम उल्लेख सार्णदेव के ‘संगीत रत्नाकर’ में लगभग १२१० ई. में ‘जक्क’ नाम से...


  • ग़ालिब

    ग़ालिब

    ग़ालिब या शेक्सपियर की एक पंक्ति हज़ार अवसरों पर हज़ार नए अर्थ पैदा कर सकती हैं. ग़ालिब उर्दू का अत्यंत लोकप्रिय कवि हैं , उन्हें इकबाल और गेटे के समकक्ष माना जाता हैं. वे मानव नहीं मानव...