Category : हास्य व्यंग्य





  • राजनीति के ये ब्वायज क्लब

    राजनीति के ये ब्वायज क्लब

    कहीं जन्म – कहीं मृत्यु की तर्ज पर देश के दक्षिण में जब एक बूढ़े अभिनेता की राजनैतिक महात्वाकांक्षा हिलोरे मार रही थी, उसी दौरान देश की राजधानी के एक राजनैतिक दल में राज्यसभा की सदस्यता...





  • रजाई बनाम कंबल

    रजाई बनाम कंबल

    पचीस दिसंबर पर वाकई ठंडी बहुत बढ़ जाती है। इधर महोबा में क्या है कि अभी तक कंबल ओढ़ने से काम चल जाता है। लेकिन इस पचीस दिसंबर को ऐसा लगने लगा कि अब यहाँ भी...