Category : हास्य व्यंग्य

  • ईमानदारी का बोझ

    ईमानदारी का बोझ

    सभी को ईमानदारी शब्द सुनकर मन को शांति मिल जाता है, मैं लोकल अखबार में ज्वाइन कर लिया, सोचा पढ़ाई के साथ कुछ खर्च निकल आयेगें। महात्मा गांधी के जयंती पर मुझे ऐसे में एक बहुत बडे़...


  • यादों के झरोखे से- 10

    यादों के झरोखे से- 10

    चमचे ही गायब! May 10, 2018, 7:33 AM IST लीला तिवानी in रसलीला | मनोरंजन भोजन और चमचों का चोली-दामन का साथ है. भोजन सामने आ गया हो और चमचे न आएं, तो भोजन अधूरा-अधूरा लगता है. कभी-कभी तो महज बर्तन देखकर ही...