नवीनतम लेख/रचना

  • अधूरी कहानी: अध्याय-15: प्लान

    अधूरी कहानी: अध्याय-15: प्लान

    समीर के दोस्तों के नाम राज, अमित, विकास, रवि तथा सिद्धार्थ हैं। सब लोग सोच रहे थे क्या किया जाय। तभी अमित बोला कि मैं अच्छी तरह से जानता हूॅ कि रेनुका को भूतों से बहुत डर लगता...

  • हिन्दी बचाओं

    हिन्दी बचाओं

    मर रही हू आज जर्र जर्र मैं अपने ही घर में घट रहा है मान मेरा मेरे अपने वतन में देखकर भी अनदेखा मुझे किया जाता है मेरा अपना असतित्व ही अब मुझसे शर्माता है भले...


  • आँखें…

    आँखें…

    चाहे जितना छुपाओ, दिल का हर राज खोल देतीं है बडी ही बातूनीं हैं आपकी आँखें हर बात बोल देती हैं॥ कह देती है पूरी की पूरी गजल, एक इशारे में। एक ईशारे में, कई जाम...



  • गजल

    गजल

    मुसीबत की घड़ी में टूट जाता हर सहारा है । हमारी उम्र कम है पर तजुर्बा ढेर सारा है मेरी आँखों से छलके थे बड़े अनमोल आँसू थे वजह जो सख्श था वो आज तक दिल...

  • गजल

    गजल

    तेरी आँखों के दरिया का उतरना भी जरूरी था मुहब्बत बोझ लगती थी बिछड़ना भी जरूरी था । अवारा नाम तूने रख दिया था प्यार में मेरा तेरी चाहत में फिर मुझको सुधरना भी जरूरी था...


  • आंकडे…

    आंकडे…

    ये आंकडे है,या कि आंकडों का मिसयूज है जनता हैरान, परेशान बहुत कनफ्यूज हैं। वो कहते है, मंहगाई कम हो गई है और यहां जेबों के उड रहे फ्यूज हैं॥ ईधर प्याज गुरबत के आंसू रुला...

राजनीति

कविता