नवीनतम लेख/रचना

  • मिट्टी की पट्टी

    मिट्टी की पट्टी

    यह प्राकृतिक चिकित्सा की सबसे प्रमुख क्रिया है। मैं लिख चुका हूँ कि प्राकृतिक चिकित्सा का मानना है कि आकस्मिक दुर्घटनाओं को छोड़कर सभी बीमारियों की माता पेट की खराबी कब्ज है। कब्ज पुराना पड़ जाने...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    इश्क़ सीने  में धर  गया  कोई। दर्द   ही  दर्द  भर  गया  कोई। आज होकर निडर गया  कोई। प्यार पाकर निखर गया  कोई। आग  सीने  में भर गया  कोई। फेर  करके  नज़र  गया  कोई। फिरनमकउसमें भरगया कोई।...


  • बड़ी बात

    बड़ी बात

    नन्ही-सी समृद्धि ने प्रगति मैदान के मेले के एक पवेलियन में प्लास्टिक से बनी चूड़ियां, गुड़िया, खिलौने आदि देखे. जिज्ञासावश उसने पवेलियन में काउंटर पर खड़ी एक दीदी से पूछा- ”दीदी, मैंने तो कपड़े से बने...

  • उम्मीद

    उम्मीद

    चौराहे पर भीख माँगते 8-10 साल के उस बच्चे को देख अनायास ही पूछ बैठी  वो – भीख क्यों मांग रहे हो स्कूल क्यों नही जाते? आप पढ़ायेगी मुझे ऑन्टी ? आशा के विपरीत उम्मीद से...

  • हज़ल

    हज़ल

    चेहरे के हाव भाव, इनोसेंट चाहिए ब्वायफ्रेंड उनको डिफरेंट चाहिए। हसरतें भी यूँ शेष ना रहें कोई भी होनी डिमाण्ड पूरी, अर्जेंट चाहिए। हो रिच पर्सन ही ब्वॉयफ्रेंड उनका घूमने हेतु इनोवा-परमानेंट चाहिए। दारु संग सिगरेट...

  • कविता

    कविता

    रूसवाईयों के डर से कभी मोहब्बत नहीं की खूब दिल से चाहा बस कहने की जुर्रत नहीं की कौन कहता है कि दिल  किसी का धड़का नहीं शोला इश्क का दिल में कब किसी के भड़का...


  • समीक्षा-कहानियां सुनाती दादाजी की चौपाल

    समीक्षा-कहानियां सुनाती दादाजी की चौपाल

    समीक्षा-कहानियां सुनाती दादाजी की चौपाल   पुस्तक: दादाजी की चौपाल (कहानी संग्रह) रचनाकार: ललित शौर्य संस्करण: 2019 मूल्य: 160 रुपए प्रकाशक: उत्कर्ष प्रकाशन, 142, शाक्यपुरी, कंकरखेड़ा मेरठ (उप्र) मोबाइल नंबर 7351467702 समीक्षक-ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’ 9424079675   कहानियां सभी को अच्छी लगती है। दादी...


कविता