कविता

एक आवाज़ पर्यावरण की

मुझ पर एक अहसान जताओ मुझ पर तुम कोई जुर्म न ढ़हाओ मेरे इस अस्तित्व को कृपया कर तुम ही बचाओ। मै नहीं तो तुम भी नहीं अपने लिए तो मुझे बचाओ। मेरे इन हाथों पर अपना दम मत दिखाओ। जब-जब मुझे गुस्सा दिलाओगे बाद में तुम पछताओगे। मैं था पहले कितना सुंदर तुमने मुझे […]