मुक्तक/दोहा

दोहे की धड़कन में हिंदी

इंटरनेट के युग में , फलते हिंदी ब्लाॅग।
उर सिंधु के भावों से , रू – ब – रू होते लोग। १

हिंदी की धड़कनों में , बहे व्याकरण धार।
रस , छंद , अलंकार हैं , काव्य के श्रृंगार। २

हिंदी अब वैश्विक हुई , भारत की पहचान।
विज्ञापनों से बढ़ रही , हिन्द की शक्ति – शान। ३

बॉलीवुड के चलचित्र , चलते हिंदी चाल।
करें करोड़ों की कमाई , ‘ मंजू ‘ सालों साल। ४

अहिन्दी भाषी वास्ते , किया इसे आसान।
राजभाषा हेतु गढ़ा , सरल हिंदी विधान। ५

एकता की भाषा है , राष्ट्र की है जान।
चुनौतियों में चमकती , हिंदी की पहचान। ६

संस्कृत हिंदी की माँ , साहित्य है विशाल।
उपसर्ग – प्रत्यय लगा , बढ़ा शब्द भंडार। ७

लिपि देवनागरी बनी , है वैज्ञानिक नींव।
जो लिखे वही बोलते , देती हिंदी सीख। ८

आंदोलन की भाषा , बनी जुड़ गए लोग।
हिंदी अपनाएं प्रांत , जगजीवन में घोल। ९

बसते कबीर – सूर के , हिंदी में हैं प्राण।
जिस पर रीझ के मीरा , नाची गा के श्याम। १०

बिगड़े हिंदी स्तर पर , करें हम सब सुधार।
हम सब का है दायित्व , हिंदी से हो प्यार। ११

हिंदी भाषा में लगे , शब्द के चार चाँद।
भावों की साधना में , सजे रस – अलंकार। १२

— मंजु गुप्ता

मंजु गुप्ता
जन्म : २१. २. १९५३ , ऋषिकेश , उत्तरांचल शिक्षा : एम.ए ( राजनीति शास्त्र ) , बी.एड शिक्षण : हिंदी शिक्षिका, जयपुरियार सीबीएससी हाईस्कूल, सानपाड़ा नवीमुंबई संप्रति : सेवा निवृत मुख्य अध्यापिका , श्री राम है स्कूल , नेरूल , नवी मुंबई। कृतियाँ :प्रांतपर्वपयोधि काव्य,दीपक नैतिक कहानियाँ,सृष्टि खंडकाव्य,संगम काव्य अलबम नैतिक कहानियाँ , भारत महान बालगीत सार निबंध,परिवर्तन कहानियाँ। प्रेस में : जज्बा ( देश भक्ति गीत ) रुचियाँ : बागवानी , पेंटिंग , प्रौढ़ शिक्षा और सामाजिकता प्रकाशन : देश - विदेश की विभिन्न समाचारपत्रों ,पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित। उपलब्धियां : समस्त भारत की विशेषताओं को प्रांतपर्व पयोधि में समेटनेवाली प्रथम महिला कवयित्री , मुंबई दूरदर्शन से सांप्रदायिक सद्भाव पर कवि सम्मेलन में सहभाग , गांधी जीवन शैली निबंध स्पर्धा में तुषार गांधी द्वारा विशेष सम्मान से सम्मानित , माॅडर्न कॉलेज वाशी द्वारा सावित्री बाई फूले पुरस्कार से सम्मानित , भारतीय संस्कृति प्रतिष्ठान द्वारा प्रीत रंग में स्पर्धा में पुरस्कृत , आकाशवाणी मुंबई से कविताएँ प्रसारित , विभिन्न व्यंजन स्पर्धाओं में पुरस्कृत, दूरदर्शन पर अखिल भारतीय कविसम्मेलन में सहभाग । सम्मान : वार्ष्णेय सभा मुंबई , वार्ष्णेय चेरिटेबल ट्रस्ट नवी मुंबई , एकता वेलफेयर असोसिएन नवी मुंबई , मैत्री फाउंडेशन विरार , कन्नड़ समाज संघ , राष्ट्र भाषा महासंघ मुंबई , प्रेक्षा ध्यान केंद्र , नवचिंतन सावधान संस्था मुंबई कविरत्न से सम्मानित , हिन्द युग्म यूनि कवि सम्मान , राष्ट्रीय समता स्वतंत्र मंच दिल्ली द्वारा महिला शिरोमणी अवार्ड के लिए चयन आदि। संपर्क :19, द्वारका, प्लॉट क्रमांक 31, सेक्टर 9A वाशी, नवी मुंबई400703 भारत . फोन : 022 - 27882407 / 09833960213 ई मेल : [email protected]

2 thoughts on “दोहे की धड़कन में हिंदी

  1. आदरणीया सुंदर भाव लाजवाब सृजन जय माँ शारदे

  2. दोहों के भाव अच्छे हैं पर तकनीकी दृष्टि से बहुत कमजोर हैं. दोहा छंद को आपने समझा ही नहीं है.

Comments are closed.