कविता

तमन्ना

आरजु मेरी
दिल की तमन्ना  है
मिल के रहो!
………………
जीवन के ये
अनमोल पल को
हँस के ज़ियो!
……………
ज़िंदगी एक
किराये का धर है
फुलते रहो!
………………
प्रेम का दीया
मन मे जलाकर
खिलते रहो!
…………….
बिजया लक्ष्मी

बिजया लक्ष्मी
बिजया लक्ष्मी (स्नातकोत्तर छात्रा) पता -चेनारी रोहतास सासाराम बिहार।