कविता

कविता – पहली बूंद

यह गर्मी की शिकायत का,
एक सुखद नज़राना है।
आगे बढ़ने में इन्सानियत को,
बरकरार रखने का,
खूबसूरत फ़साना है।

पहली बूंद ने ही,
भरपूर खुशियां संजोकर रखना सिखाया है।
आगे बढ़ने का,
सही व सटीक तरीका बताया है।

पहली बूंद ने ही,
खुशियां बिखेर दिया है।
नवजीवन प्रदान करने में,
मददगार बन गया है।

पहली बूंद है तो मोतियों को,
सलाम करतें हैं।
उम्मीदों पर खरा उतरने की,
लगातार जद्दोजहद करते हुए,
आगे फिरते घुमरते दिखते हैं।

पेड़ पौधे को सुकून देने वाली ताकत बनकर,
आनन्द की खुशबू बिखेरती है।
उम्दा आगाज़ करतीं हैं,
मन को तसल्ली देती है।

पशु-पक्षी और जंगल पहाड़ पर,
आनन्द और प्रसन्नता की दुनिया में,
उम्मीदों को जीवित करतीं हैं।व
हमेशा साथ-साथ चलने की कोशिश कर,
आगे बढ़ती रहती है।

एक एक बूंद ने,
समन्दर की गहराई से निकली हुई आवाज को बुलंद करती है।
तकलीफें झेलने में,
बखूबी रूप में,
हमेशा उम्मीद को जिन्दा रखने में,
हमेशा आगे रहतीं हैं।

— डॉ. अशोक, पटना

डॉ. अशोक कुमार शर्मा

पिता: स्व ० यू ०आर० शर्मा माता: स्व ० सहोदर देवी जन्म तिथि: ०७.०५.१९६० जन्मस्थान: जमशेदपुर शिक्षा: पीएचडी सम्प्रति: सेवानिवृत्त पदाधिकारी प्रकाशित कृतियां: क्षितिज - लघुकथा संग्रह, गुलदस्ता - लघुकथा संग्रह, गुलमोहर - लघुकथा संग्रह, शेफालिका - लघुकथा संग्रह, रजनीगंधा - लघुकथा संग्रह कालमेघ - लघुकथा संग्रह कुमुदिनी - लघुकथा संग्रह [ अन्तिम चरण में ] पक्षियों की एकता की शक्ति - बाल कहानी, चिंटू लोमड़ी की चालाकी - बाल कहानी, रियान कौआ की झूठी चाल - बाल कहानी, खरगोश की बुद्धिमत्ता ने शेर को सीख दी , बाल लघुकथाएं, सम्मान और पुरस्कार: काव्य गौरव सम्मान, साहित्य सेवा सम्मान, कविवर गोपाल सिंह नेपाली काव्य शिरोमणि अवार्ड, पत्राचार सम्पूर्ण: ४०१, ओम् निलय एपार्टमेंट, खेतान लेन, वेस्ट बोरिंग केनाल रोड, पटना -८००००१, बिहार। दूरभाष: ०६१२-२५५७३४७ ९००६२३८७७७ ईमेल - ashokelection2015@gmail.com

Leave a Reply