गीतिका/ग़ज़लपद्य साहित्य

गीतिका

व्यक्त करें आभार,ज़िंदगी में।
मिले जीत या हार,ज़िंदगी में।।

थोड़ी रखना लाज,ज़माने से,
जब हों आँखें चार,जिंदगी में।

करो कमाई खूब,बनाना मत,
रिश्तों को व्यापार,ज़िंदगी में।

ऊँच नीच को भूल,साथ रहना,
कर सबका सत्कार,ज़िंदगी में।

कट्टरपंथी सोच , बुरी होती,
रहना सदा उदार,ज़िंदगी में।

वे होते हैं धन्य ,मान लें जो,
सब कुछ है परिवार,ज़िंदगी में।

जो रहते संतुष्ट ,पास उनके,
खुशियों की भरमार,ज़िंदगी में।

— डाॅ बिपिन पाण्डेय

डॉ. बिपिन पांडेय

जन्म तिथि: 31/08/1967 पिता का नाम: जगन्नाथ प्रसाद पाण्डेय माता का नाम: कृष्णादेवी पाण्डेय शिक्षा: एम ए, एल टी, पी-एच डी ( हिंदी) स्थाई पता : ग्राम - रघुनाथपुर ( ऐनी) पो - ब्रह्मावली ( औरंगाबाद) जनपद- सीतापुर ( उ प्र ) 261403 रचनाएँ (संपादित): दोहा संगम (दोहा संकलन), तुहिन कण (दोहा संकलन), समकालीन कुंडलिया (कुंडलिया संकलन), इक्कीसवीं सदी की कुंडलियाँ (कुंडलिया संकलन) मौलिक- स्वांतः सुखाय (दोहा संग्रह), शब्दों का अनुनाद (कुंडलिया संग्रह), अनुबंधों की नाव (गीतिका संग्रह), अंतस् में रस घोले ( कहमुकरी संग्रह) साझा संकलन- कुंडलिनी लोक, करो रक्त का दान, दोहों के सौ रंग,भाग-2, समकालीन मुकरियाँ ,ओ पिता!, हलधर के हालात, उर्वी, विवेकामृत-2023,उंगली कंधा बाजू गोदी, आधुनिक मुकरियाँ, राघव शतक, हिंदी ग़ज़ल के साक्षी, समकालीन कुंडलिया शतक, समकालीन दोहा शतक और अनेकानेक पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का निरंतर प्रकाशन। पुरस्कार: दोहा शिरोमणि सम्मान, मुक्तक शिरोमणि सम्मान, कुंडलिनी रत्न सम्मान, काव्य रंगोली साहित्य भूषण सम्मान, साहित्यदीप वाचस्पति सम्मान, लघुकथा रत्न सम्मान, आचार्य वामन सम्मान चलभाष : 9412956529