सामाजिक

बाबाओं का झूठा बल, अंधविश्वास का दलदल

पढा लिखा व्यक्ति यदि अपने आप को अंधविश्वास, मनुवाद, पाखण्ड की दलदल से बाहर नहीं निकाल पाए तो उसके शिक्षित होने का कोई मतलब नहीं है। किसी महापुरुष ने कहा था शिक्षा वह शेरनी का दूध है जो जितना पिएगा उतना दहाड़ेगा।  इसको अंधविश्वास के दलदल में मत धकेलो।  स्वामी विवेकानंद ने कहा था- “मैं आप लोगों […]

राजनीति

केंद्र और राज्य सरकार के बीच पिसता आम आदमी

संघवाद सरकार की एक प्रणाली है जिसमें शक्तियों को केंद्र और उसके घटक भागों जैसे राज्यों या प्रांतों के बीच विभाजित किया गया है। यह राजनीति के दो सेटों को समायोजित करने के लिए एक संस्थागत तंत्र है, कई बार यह विवाद की ओर ले जाता है जिसके कारण आम आदमी पीड़ित होता है। कल्याण […]

सामाजिक

बने विजेता वो सदा

दुनिया को केवल इस बात की परवाह है कि हम क्या करते हैं, न कि हम क्या कहते हैं कि हम क्या करेंगे। जो शब्द हम आम तौर पर कहते हैं, वे हमारे द्वारा किए जाने वाले कार्यों की तुलना में बहुत कम महत्व रखते हैं। हमें बोलना कम और काम ज्यादा करना चाहिए। यह […]

राजनीति

स्वार्थों के लिए मनुवाद का राग

वर्तमान समय में मनुवाद (मनुवाद) शब्द को नकारात्मक अर्थ में लिया जा रहा है। मनुवाद के पर्याय के रूप में भी ब्राह्मणवाद का प्रयोग किया जाता है। असल में मनुवाद के खिलाफ बोलने वाले लोगों को मनु या मनुस्मृति के बारे में पता ही नहीं है। या वे अपने निहित स्वार्थों के लिए मनुवाद का […]

इतिहास

वर्ष-भर चर्चित रहा नारनौल का मनुमुक्त ‘मानव’ मेमोरियल ट्रस्ट

इकलौते जवान आईपीएस बेटे मनुमुक्त की मृत्यु पिता और देश के प्रमुख साहित्यकार तथा शिक्षाविद् डॉ रामनिवास ‘मानव’ और माँ अर्थशास्त्र की पूर्व प्राध्यापिका डॉ कांता भारती के लिए किसी भयंकर वज्रपात से कम नहीं थी। ऐसी स्थिति में कोई भी दम्पत्ति टूटकर बिखर जाता, किंतु ‘मानव’ दम्पत्ति ने, अद्भुत धैर्य का परिचय देते हुए, […]

मुक्तक/दोहा

नए साल के पँख पर

बीत गया ये साल तो, देकर सुख-दुःख मीत ! क्या पता? क्या है बुना ? नई भोर ने गीत !! माफ़ करे सब गलतियां, होकर मन के मीत ! मिटे सभी की वेदना, जुड़े प्यार की रीत !! जो खोया वो सोचकर, होना नहीं उदास ! जब तक साँसे हैं मिली, रख खुशियों की आस […]

राजनीति

वर्तमान चुनौतियों से निपटने के लिए मजबूत औद्योगिक नीति की जरूरत

औद्योगिक नीति को आर्थिक परिवर्तन को प्रोत्साहित करने के लिए राज्य द्वारा रणनीतिक प्रयास के रूप में परिभाषित किया गया है, अर्थात क्षेत्रों के बीच या भीतर निम्न से उच्च उत्पादकता गतिविधियों में बदलाव। भारत का लक्ष्य 2025-26 तक अपने विनिर्माण सकल मूल्य वर्धित (जीवीए) को लगभग 3 गुना बढ़ाकर 1 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचाना […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

गायों की हो रही है दुर्दशा

गाय देश में हमेशा से ही एक संवेनदशील मुद्दा रहा है और इस पर राजनीति होती रही है। मगर जिस समाज में गाय को पूजा जाता है, उसके लिए आस्था अगर कहने भर की हो, दिल से नहीं और वहां इसके लिए कोई कानून नहीं, मन में सच्चा दर्द नहीं हो तो वह कैसा समाज […]

सामाजिक

गुरुवर तब सम्बल बने

जब रिश्ते हैं टूटते, होते विफल विधान। गुरुवर तब सम्बल बने, होते बड़े महान।। मनुष्य के जीवन में जन्म से ही ज्ञान, विचारों, मूल्यों का क्रमिक विकास होता है, जो उसे अन्य पशुओं से अलग कर मनुष्य बनाता है। परिवार के बाद, शिक्षक इस विकास में सबसे बड़ी भूमिका निभाते हैं। हालांकि, भारतीय समाज में, […]

सामाजिक

लड़कियों को लड़कों से ज्यादा पोषण में सुधार की जरुरत

कई अध्ययनों के अनुसार, किशोरावस्था जीवन का एक पोषण की मांग वाला चरण है। यद्यपि इस अवधि के दौरान किशोर लड़के और लड़कियों दोनों को भावनात्मक परिवर्तनों का सामना करना पड़ता है, लड़कियों को लड़कों की तुलना में अधिक शारीरिक मांगों का सामना करना पड़ता है और इस प्रकार मैक्रो और सूक्ष्म पोषक तत्वों के […]