अशांत नेपाल में भारत विरोधी लहर

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएम पद की शपथ लेने के बाद पड़ोसी देशों के साथ अपने संबंधों को मजबूती प्रदान करने के लिये साहसिक व गंभीर प्रयास प्रारंभ किये थे तथा इस सिलसिले में वे दो बार नेपाल भी गये। नेपाल में पीएम मोदी का खूब जादू चला तथा भूकम्प से प्रभावित पड़ोसी देश को भरपूर आर्थिक व सैन्य मदद भी दी। भारतीय सेना ने वहां पर अप्रतिम सहायता व सेवाकार्य भी किये लेकिन अब वह सभी कवायदें एकबारगी विफल होती नजर आ रही हैं। पीएम मोदी ने अपने कई भाषणों में सभी पड़ोसियों के साथ बेहतर और सामंजस्यपूर्ण संबंधों की वकालत की है। नेपाल की संसद को संबोधित करते समय पीएम मोदी ने नेपालियों को भगवान बुद्ध की संस्कृति वाला देश भी बताया था और अहिंसा परमो धर्मः का उपदेश देते हुए नेपालियों की प्रशंसा के पुल भी बांधे थे और दोस्ती तथा सहयोग का हाथ बढ़ाया। मोदी की नेपाल यात्राओं से लग रहा था कि अब नेपाल से मैत्री के नये रास्ते खुल जायेंगे लेकिन जैसी की राजनेतिक विश्लेषकों द्वारा आशंका व्यक्त की जा रही थी आज नेपाल नया संविधान लागू हाने के बाद व वामपंथी विचारधारा के पीएम व राष्ट्रपति के आने के बाद नेपाल भारत के प्रति बेहद आक्रामक ढंग से असहनशील हो गया है। नेपाल आज भारत के प्रति जिस प्रकार का व्यवहार कर रहा है वह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण व चुनौतीपूर्ण हो गया है।

नेपाल भारत के लिए आर्थिक, राजनैतिक व सामरिक नजरिये से बेहद उपयोगी पड़ोसी देश है। नेपाल के साथ भारत के कई द्विपक्षीय समझौते हैं जिनमें ऊर्जा परिवहन समेत कई अति महत्वपूर्ण हैं। लेकिन आज की तारीख में इन सभी समझौतों पर काले बादलों की घटा घिर आयी है। आज नेपाल एक बार फिर अशांत हो चला हैं। भारत के दो प्रमुख पड़ोसी चीन और पाकिस्तान यह कतई नहीं चाहते कि नेपाल और भारत के सबंध मधुर बने रहें। आज नेपाल पूरी तरह से चीन के शिकंजे में जा चुका है तथा यदि भारतीय रणनीतिकारों ने तेजी से नेपाल के साथ रिश्तों को सुधारने का प्रयास नहीं किया तो वह दिन दूर नहीं, जब नेपाल भी तिब्बत की तरह चीन का अंग बन जायेगा। अभी नेपाल पहली सीढ़ी चढ़ गया है। जब नेपाल में नये सविंधान का निर्माण हो रहा था और वहां पर संविधान सभा ने नेपाल को हिंदू देश घोषित करने की मांग को अस्वीकार कर दिया था उसी समय इस बात की संभावना प्रबल हो गयी थी कि अब नेपाल व भारत के संबंधों में नये सिरे से खटास उत्पन्न होने जा रही है।

विगत कुछ दिनों में नेपाल में भारत विरोधी जो उबाल आया है वह बेहद गंभीर मामला है। नेपाल सशस्त्र प्रहरी ने एसएसबी के 13 जवानों को उस समय बंधक बना लिया जब वे तस्करों का पीछा करते हुए नेपाल की सीमा में प्रवेश कर गये। मामला दो देशों का होने के कारण खलबली मचना स्वाभाविक था। बाद में दोनों देशों के अधिकारियों की बातचीत के बाद जवानों को मुक्त कराया गया। ज्ञातव्य है कि एसएसबी जवान रेहान कुमार और रामप्रसाद ने तस्करों का पीछा किया तो वे नेपाल खुटामनी गांव तक प्रवेश कर गये। जहां नेपाली नागरिक द्वारा हंगामा करने पर नेपाल सशस्त्र प्रहरी के जवानों ने दोनों को बंधक बना लिया। जब कुछ समय बाद वे जवान नहीं लौटे तब भारत के 11 और जवान नेपाल सीमा में प्रवेश कर गये उन्हें भी नेपाली प्रहरी ने बंधक बना लिया। भारत सरकार के गृहमंत्रालय के कड़े हस्तक्षेप के बाद जवानों की रिहाई की गयी।

दूसरी तरफ नेपाल के एकीकृत माओवादी पार्टी से अलग हुए माओ कार्यकर्ताओं ने भी भारत पर आर्थिक नाकेबंदी का आरोप लगाकर मोर्चा खोल दिया है। कई कस्बों व शहरों में भारतीय चैनलों का प्रसारण बंद करवा दिया गया है। नेपाली सिनेमाघरों में भारतीय फिल्मों का प्रदर्शन भी प्रतिबंधित कर दिया गया है। कई स्थानों पर भारतीय वाहनों पर पथराव व आगजनी की कोशिश की गयी है। नेपाल के नये संविधान मेें संशोधनों की मांग को लेकर मधेशी आंदोलन अब धीरे-धीरे उग्र हो रहा है। पूर्व प्रधानमंत्री बाबूराम भट्टराई के समर्थक भारत पर आवश्यक सामग्रियों की आपूर्ति न करने व आर्थिक नाकेबंदी करने का गंभीर आरोप लगा रहे हैं। नेपाल सरकार को लग रहा है मधेशी लोग भारत की शह पर आंदोलन चला रहे है। नेपाल में भारत विरोधी लहर को देखते हुए भारत के गृहमंत्रालय व विदेश मंत्रालय में चिंता की लकीरें दिखलायी पड़ रही हैं तथा वहां पर नेपाल पर नजदीकी नजर रखी जा रही है। नेपाल के मधेशी अब स्वतंत्र देश तक की मांग करने लग गये हैं तथा पीएम मोदी व भारतीय सेना के हस्तक्षेप की मांग कर रहे हैं। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि आज नेपाल के जो हालात बन गये हैं उसके लिए कहीं न कहीं हमारी पूर्ववर्ती सरकारें भी कम जिम्मेदार नहीं है। यहां की कुछ जयचंदी ताकतों का भी हाथ नेपाल संकट को पैदा करने में हो सकता है। भारत के सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी नेपाल की स्थिति पर बारीक नजर रख रहे हैं।

नेपाल पहले से ही चीन व पाक की भारत विरोधी गतिविधियों के लिए आसान जमीन रहा है तथा वह हर प्रकार की तस्कारी करने वाले गिरोहों का अभूतपूर्व गढ़ रहा है। नेपाल की धरती से मानव तस्करी, हथियारों की तस्करी व जाली नोटों की तस्करी, नशीले पदार्थों व युवतियों का व्यापार बड़े आराम से हो रहा था। नेपाल धर्मपरिवर्तन कराने वाले लोगों का भी एक प्रमुख गढ़ बन चुका है। ये ताकतें नहीं चाहती कि नेपाल में भारत का वर्चस्व बढ़े।

कहा जाता है कि नेपाल भारत विरोधी आतंकी गतिविधियां चलाने वाले गिरोहों का भी स्वर्ग है। वे नहीं चाहते कि भारत नेपाल में अपनी सहयोगी गतिविधियों को बढ़ा सके। ये सभी भारतविरोधी तत्व मिलकर गहरी साजिश रच रहे हैं। भारत सरकार को नेपाल सरकार के साथ मधुर संबंधो को पटरी पर लाने के लिए त्वरित व अतिरिक्त प्रयास करने चाहिए।

— मृत्युंजय दीक्षित